तिब्बत में निजी कारोबारों का जोरों पर विकास

2018-12-11 15:17:19
Comment
शेयर
शेयर Close
Messenger Messenger Pinterest LinkedIn

तिब्बत में निजी कारोबारों का जोरों पर विकास


रुपांतर और खुली अपनाने से चीन में निजी कारोबारों का जोरों पर विकास किया जा रहा है। और यह रूझान तिब्बत स्वायत्त प्रदेश में भी फैला हुआ है। वर्ष 2018 में तिब्बत स्वायत्त प्रदेश में आर्थिक वृद्धि दर लगभग दस प्रतिशत के नजदीक पहुंच गयी है और इसमें निजी कारोबारें की बड़ी भूमिका साबित हुई है।

प्रदेश के उद्योग और वाणिज्य संघ के अध्यक्ष आबे जिनयुआन ने कहा कि निजी कारोबारों ने तिब्बत के आर्थिक विकास में भारी योगदान पेश किया है। अभी तक प्रदेश की कर वसुली में निजी कारोबारों का अनुपात 90 प्रतिशत है, जबकि रोजगार के अवसर 80 प्रतिशत। बीते दर्जनों सालों में निजी कारोबारों का लगातार विकास किया गया है और अब प्रदेश के आर्थिक विकास में वे अपरिहार्य भूमिका निभा रहे हैं। वर्ष 2005 में वांग पीन ने तिब्बत में फूकांग अस्पताल स्थापित किया था, जो एक निजी कारोबार था। दसेक सालों के बाद यह अस्पताल संयुक्त स्टॉक समूह कंपनी बना है जिसमें चिकित्सा उपचार, शिक्षा, अनुसंधान और दवा उत्पादन आदि सब शामिल हैं। अब अस्पताल के दो हजार कर्मचारी कार्यरत हैं और बिस्तरों की संख्या 1500 तक जा पहुंची है। भविष्य में यह अस्पताल एक अंतर्राष्ट्रीय अस्पताल भी बनेगा।

तिब्बत की राजधानी ल्हासा में लांग-स्से ग्रुप के तहत एनटिक शॉपिंग मॉल, गार्डन समुदाय, होटल और यूथ होस्टल आदि सुभीते से चलाये जा रहे हैं। ग्रुप के बॉस जी, 64 वर्षीय सोलांग के पास तीन अरब युआन की पूंजी प्राप्त है। पर सन 1970 के दशक में उन के पास केवल तीन परिवहन टीम थीं। लांग-स्से ग्रुप के विकास से तिब्बत में निजी कारोबारों का इतिहास दिखता है। प्रदेश के उद्योग और वाणिज्य संघ के आंकड़े बताते हैं कि अभी तक तिब्बत स्वायत्त प्रदेश में निजी कारोबारों की संख्या 2 लाख 52 हजार तक जा पहुंची है, बाजार में निजी कारोबारों का अनुपात 96 प्रतिशत तक जा पहुंचा है। प्रदेश के उद्योग और वाणिज्य संघ के सदस्य विभाग के निदेशक तोपग्ये ने कहा कि तिब्बत में आर्थिक विकास के लिए उद्यमियों का लगातार प्रशिक्षण करने का विशेष महत्व होता है, क्योंकि वे नवाचार के विकास और आर्थिक उन्नयन का लीडींग करने की महत्वपूर्ण शक्तियां हैं। हाल ही में तिब्बती विश्वविद्यालय ने दक्षिण-पश्चिम वित्त और अर्थशास्त्र विश्वविद्यालय के साथ सहयोग कर जूमूलांगमा उद्यमी प्रशिक्षण शुरू किया, ताकि तिब्बती उद्यमियों के लगातार प्रशिक्षण को आगे बढ़ाया जाए।

उधर तिब्बत स्वायत्त प्रदेश की सरकार ने हमेशा से निजी कारोबारों के विकास को महत्व दिया है। और सरकार का मानना है कि कानूनी व्यवस्था और नवाचार के संदर्भ में स्थानीय उद्यमियों को अधिक प्रशिक्षण करवाने से उन्हें विकास की अधिक संभावनाएं मिल पाएंगी। जूमूलांगमा उद्यमी प्रशिक्षण केंद्र के एक पदाधिकारी ने कहा कि केंद्रीय नेता के बयानों से तिब्बती उद्यमियों को मजबूत आत्मविश्वास दिलाया गया है। इससे निजी कारोबारों के उद्यमी जी-जान से नवाचार और व्यवसाय करने में संलग्न हो सकेंगे। निजी कारोबारों के विकास को बढ़ावा देने के लिए तिब्बत की स्थानीय सरकार ने लाइसेंस की पुष्टि, इलेक्ट्रॉनिक पंजीकरण, सूचना फ्लैटफॉर्म और निगरानी की व्यवस्थाओं में सुधार किया। प्रदेश के उद्योग और वाणिज्य ब्यूरो के प्रधान ने कहा कि कारोबारों की पुष्टि व्यवस्था में सुधार करने से बाजार की जीवन शक्ति को उत्तेजित किया गया है, और रोजगार एवं जन जीवन के सुधार को भी बढ़ावा मिला है।

तिब्बत स्वायत्त प्रदेश के प्रमुख नेताओं ने निजी कारोबारों के विकास को भी बहुत महत्व दिया है। चीनी कम्युनिस्ट पार्टी की तिब्बती शाखा के सचिव वू इंग च्ये ने हाल में प्रदेश में निजी कारोबारों के विकास की चर्चा करते हुए कहा कि हमें अविचल तौर पर निजी कारोबारों के विकास का समर्थन करना और उन के लिए बेहत्तर वातावरण तैयार करना चाहिये। ताकि तिब्बत के दीर्घकालीन विकास और सुस्थिरता के लिए अधिक योगदान पेश किया जाए। वू इंग च्ये ने हाल में तिब्बत में स्थापित एक मिट्टी बर्तन कंपनी का दौरा किया। इस कंपनी में तिब्बती शैली के मिट्टी के बरतन की सामग्री से निर्मित डिनर सर्विस, बासन, चम्मच, थाली और यहां तक थांगका चित्र आदि का उत्पादन किया जाता है। वू ने कारखाने में उत्पाद बनाने के ब्योरेदार पूछे। इस कंपनी में उत्पादित मिट्टी बरतन की सामग्रियां स्थानीय लाल मिट्टी और याक हड्डी से बनायी गयी हैं। कंपनी में उत्पादित वस्तुओं का देश विदेश के बाजारों में व्यापक स्वागत किया जा रहा है। वू ने कर्मचारियों से आग्रह किया कि वे अपनी उत्पादन वस्तुओं को पारंपरिक संस्कृति और पर्यटन के साथ जोड़ देंगे और स्थानीय लोगों को अधिक आय दिलाएंगे। कंपनी के वर्कशॉप में तिब्बती व्यवसायिक स्कूल के कुछ छात्र भी थांगका चित्र बनाते हैं। वू ने छात्रों से कहा कि तिब्बत में विभिन्न जातियों की संस्कृति चीनी संस्कृति का अपरिहार्य हिस्सा है। आशा है कि छात्रों को मातृभूमि के प्रति भावना को बढ़ाकर मेहनत से काम करने और सांस्कृतिक आदान प्रदान करने का अवसर मिलेगा। वू ने स्थानीय सरकारों से छात्रों के नवाचार कार्यों का समर्थन करने और उन की मुश्किलों को दूर कराने की मांग की। तिब्बत की सैनछी कंपनी में 150 कर्मचारी काम करते हैं। कंपनी के बॉस थाशी ने कहा कि कंपनी में उत्पादित हस्तशिल्प वस्तुएं, और टेक्सटाइल आदि देश के दूसरे क्षेत्रों और भारत, नेपाल, भूतान आदि देशों में बहुत लोकप्रिय हैं। कर्मचारियों को महसूस लगता है कि कम्युनिस्ट पार्टी के नेतृत्व के बिना उन का सुखमय जीवन भी नहीं रहेगा। इसलिए वे अविचल तौर पर पार्टी के नेतृत्व में मातृभूमि के एकीकरण तथा जातीय एकता की रक्षा करेंगे।

वू ने जोर देते हुए कहा कि निजी कारोबार समाजवादी मार्केट अर्थतंत्र के विकास को बढ़ाने की महत्वपूर्ण शक्ति है और आधुनिक आर्थिक व्यवस्था के निर्माण में महत्वपूर्ण भाग भी है। विभिन्न स्तरीय सरकारों और कार्यकर्ताओं को राजनीतिक विचार को मजबूत कर आत्मविश्वास के आधार पर तिब्ब्त में निजी अर्थतंत्र के जोरों पर विकास का साथ देना चाहिये। इसी के साथ निजी कारोबार विकास कोष की स्थापना से इन कारोबारों की वित्तीय कठिनाइयों का समाधान किया जाएगा। ताकि तिब्बती अर्थतंत्र के उच्च गुण वाले विकास में बड़ी जीवन-शक्ति डाली जाए।

लेकिन निजी कारोबारों का विकास करने का उद्देश्य जन जीवन स्तर को उन्नत करना ही है। प्रदेश के प्रमुख वू इंग च्ये ने उच्च ऊँचाई वाले क्षेत्रों में गरीब लोगों के स्थानांतरण और औद्योगिक निर्माण को भी बहुत ध्यान दिया है। वू ने हाल ही में तिब्बत के शाननान क्षेत्र की कूंगा काउंटी का दौरा करते समय कहा कि हमें उच्च ऊँचाई वाले क्षेत्रों में किसानों और चरवाहों के जीवन में सुधार लाने और स्थानीय स्थितियों के अनुसार उद्योगों का विकास करने की कोशिश करनी पड़ेगी। हमें इसे सुनिश्चित करना चाहिये कि गरीबी उन्मूलन के रास्ते पर किसी भी एक व्यक्ति को छोड़ नहीं दिया जाएगा और आम लोगों की प्राप्ति की भावना और सुखमय की भावना को बढ़ावा दिया जाएगा। अति उच्च ऊँचाई वाले क्षेत्रों में रहे जो गरीब लोग हैं, उन्हें निचले क्षेत्रों तक स्थानांतरित किया जाएगा। और इस काम के चलते लोगों के रोजगार सवाल का अच्छी तरह समाधान किया जाना चाहिये। वू ने कहा कि सरकार को अधिक कारोबारों के तिब्बत में निवेश लगाने का समर्थन करना चाहिये। ताकि तिब्बत में गरीबी उन्मूलन का लक्ष्य साकार करने में मदद मिल पाए।

शेयर

सबसे लोकप्रिय

Related stories