सिचुआन के आबा स्वायत्त प्रिफेक्चर के दौरे पर

2018-09-25 08:40:29
Comment
शेयर
शेयर Close
Messenger Messenger Pinterest LinkedIn

सिचुआन के आबा स्वायत्त प्रिफेक्चर के दौरे पर


हाल ही में चीनी जन विश्वविद्यालय समेत कई चीनी विश्वविद्यालयों में पढ़ने वाले विदेशी छात्रों ने पश्चिमी चीन के सिचुआन प्रांत के आबा तिब्बती और छियांग जातीय स्वायत्त प्रिफेक्चर का दौरा किया। उन्हों ने फोटो, विडियो और आलेख लिखने के जरिये इस क्षेत्र में अपने को छोड़ी गयी छाप का रिकॉर्डिंग किया।     

विश्व के 15 देशों के छात्रों ने आबा क्षेत्र के वेनछ्वान, माल्कांग और हूंगयुवान काउंटी आदि का दौरा किया और आबा क्षेत्र की पूर्ण जानकारियों का पता लगाया। आबा प्रिफेक्चर के प्रसारण विभाग के एक पदाधिकारी सूंगताओ  ने कहा,“छात्रों के कुल आठ दिनों की यात्रा में 12 गतिविधियों का आयोजन किया गया है। छात्रों ने इस क्षेत्र में रहने वाले तिब्बती लोगों के जीवन, सांस्कृतिक संरक्षण, पारिस्थितिकी, आर्थिक विकास और प्राकृतिक दृश्यों का परिचय किया गया है। कुछ छात्र तिब्बती लोगों के घर में ही रहने गये, उन्हें स्थानीय लोगों के दैनिक जीवन महसूस हुआ, और उन्होंने तिब्बती संस्कृति व पारंपरिक त्योहार की खुशियां मनायीं।”  

सूंगताओ ने भी इन छात्रों के साथ साथ आठ दिनों की यात्रा की। उन की आशा है कि ये छात्र अपनी आंखों में सचमुच तिब्बती बहुल क्षेत्र का प्रसारण करेंगे। पेइचिंग भाषा और संस्कृति विश्वविद्यालय में अंतर्राष्ट्रीय चीनी भाषा शिक्षा के पीएचडी छात्र न्यूंग क्यू टीयू चीन में चार साल के लिए पढ़ चुके हैं। वह शुद्ध चीनी भाषा बोल सकते हैं। उन्हें लगता है कि पश्चिमी चीन का दौरा करने में उन्हों ने बहुत से सीख लिया है। उन्हों ने कहा,“पश्चिमी चीन का दौरा करने में मैं ने बहुत सीख लिया है। जो मेरी पूर्व की समझ से बिल्कुल अलग है। मुझे पता लगा है कि यहां के लोगों का जीवन अच्छा है। जो शहरों में प्राप्त है, उन्हें भी प्राप्त हो सकता है। सभी बच्चे स्कूल में पढ़ते हैं, कुछ लोगों ने कहा कि उन की वार्षिक आय पचास हजार युआन तक रहती है, यहां के खपत स्तर को लेकर यह काफी अच्छा है। स्थानीय लोगों के मकान भी सरकार की सहायता से निर्मित हैं, और उन के अस्पताल और स्कूल आदि सब सुन्दर हैं।” 

चीन के एयरोस्पेस विश्वविद्यालय में मैकेनिकल इंजीनियरिंग पढ़ने वाले पाकिस्तानी छात्र मुहम्मद शहजाद खान ने वर्ष 2004 में ही चीन में रहना शुरू किया। पूर्व में उन्हों ने सोचा था कि तिब्बती लोग केवल तिब्बत स्वायत्त प्रदेश ही में रहते थे। लेकिन पश्चिमी चीन का दौरा करते समय उन्हें यह पता लगा कि तिब्बती लोग चीन के दूसरे क्षेत्रों में भी फैलते रहे हैं। उन्हों ने कहा,“यहां आने से पहले मेरी उम्मीद थी कि मैं सिचुआन प्रांत में पांडा और हॉट पॉट से मिल सकेगा। लेकिन यहां बहुत सुन्दर वाले प्राकृतिक दृश्य और ऊंचे ऊंचे पर्वत भी उपलब्ध हैं। और तिब्बती मंदिर भी बहुत सुन्दर ही हैं। मैं ने वाट्सऐप और वी चाट में अपने फोटोओं का प्रदर्शन किया। मेरे दोस्तों ने भी इन का दर्शन किया है। और वे भी सिचुआन का दौरा करना चाहते हैं।” 

विदेशी छात्रों को इस बात पर गहरी छाप लगी है कि तिब्बती लोग बहुत गर्म और मित्रतापूर्ण हैं। पेइचिंग भाषा और संस्कृति विश्वविद्यालय में अंतर्राष्ट्रीय चीनी भाषा शिक्षा के पीएचडी पढ़ने वाली जापानी म्याओ काटायामा ने याद करते हुए कहा,“पहले मुझे तिब्बती क्षेत्रों के बारे में कोई जानकारी नहीं थी। इस क्षेत्र का दौरा करने के बाद मुझे यह पता लगाया गया है कि तिब्बती लोग बहुत अच्छे और मित्रापूर्ण हैं। और उन का खाना भी बहुत स्वादिष्ट है। उन की जबानों से मुझे समझ में नहीं आने के बावजूद उन के दिल से संपर्क रखने से मैं बहुत प्रभावित हूं। मौका मिलकर मैं भविष्य में इन्हें और देखूंगी।” 

विदेशी छात्रों ने टाक्ट्रा मंदिर और छांगल्य मंदिर का दौरा भी कर तिब्बती बौद्ध धर्म की जानकारियां सीखीं। चीनी जन विश्वविद्यालय में रेडियो और टेलीविजन उपाधि पढ़ने वाली मलेशियाई छात्र ह्वांग क्याओ टोंग के परिवारजन भी बौद्ध अनुयायी हैं। छांगल्य मंदिर का दौरा करने से उन्हें गहरी छाप लगी है। उन्हों ने कहा,“छांगल्य मंदिर का दौरा करते समय इस मंदिर के एक लामा ने मुझे कारण और प्रभाव की जानकारियां बतायीं, उन्हों ने मुझे शिक्षा और संतोष के प्रति भी बहुत कुछ सिखायी। उन की बातों से मुझे बहुत प्रभावित किया गया है। उन्हों ने यह भी कहा कि सारी दुनिया के सभी आदमी, चाहे वह कैसा रंग और क्या जाति का है, सब समान ही है। यह बात सुनकर मैं बहुत प्रभावित हूं।”

ह्वांग क्याओ टोंग ने कहा कि सिचुआन प्रांत का दौरा करते समय उन्हों ने कैमरा से सिचुआन के तिब्बती बहुल क्षेत्र का रिकॉर्डिंग किया। उन्हें एक दिन अपने माता पिता भी यहाँ लाने की उम्मीद है। क्योंकि इस क्षेत्र में असाधारण प्राकृतिक दृश्य के सिवा तिब्बती बौद्ध धर्म का भी अच्छी तरह संरक्षण किया गया है।   

शेयर

सबसे लोकप्रिय

Related stories