तिब्बत के न्यिंग-ची शहर में किसानों का होम होटल

2018-06-18 15:45:30
Comment
शेयर
शेयर Close
Messenger Messenger Pinterest LinkedIn

तिब्बत के न्यिंग-ची शहर में किसानों का होम होटल

तिब्बत के न्यिंग-ची शहर में किसानों का होम होटल

जांबा गांव नम्बर 318 राज मार्ग तथा नीयांग नदी के तट पर स्थित है। वर्ष 2010 के अक्तूबर में जांबा के गांव वासियों ने तिब्बती खुशी किसान व चरवाहे के पेशेवर सहकारी की स्थापना की। उन के सर्विस में तिब्बती भोजन, संगीत-नृत्य, रीति-रिवाज के प्रदर्शन, खेल और होम होटल आदि भी शामिल हैं। पर्यटन के विकास से इस गांव को आर्थिक लाभ पहुंचाया गया और गरीबी उन्मूलन को भी बढ़ावा दिया गया है। इस गांव के पार्टी सचिव सोलांग डोबजे ने कहा,“पार्टी ने हमें अच्छी नीतियां तैयार की हैं और हम ने इसका लाभ उठाकर पर्यटन का विकास शुरू किया। वर्ष 2010 में जब सहकारी की स्थापना की गयी तब हमें बहुत सी कठिनाइयों का सामना करना पड़ता था। सरकार की मदद से हमारे कार्यों में भारी प्रगतियां हासिल हुईं। गत वर्ष हम ने कुल बीस हजार पर्यटकों का सत्कार किया और पर्यटन की आय 43 लाख तक जा पहुंची।”

जांबा गांव के कुल 62 परिवार हैं, पर शुरूआत में केवल 26 परिवारों ने पर्यटन सहकारी में शामिल किया। सहकारी के विकास के चलते पर्यटकों की संख्या भी बढ़ती रही और अब गांव के सभी परिवारों ने सहकारी में अपना शेयर डाला। गांव में नौ गरीब परिवारों को भी नया मकान प्राप्त कराया गया। गांव वासी छूच्ये ने कहा,“वर्ष 2015 में मुझे सहकारी में नौकरी मिल गयी। इससे पहले मेरा जीवन कठिन था। क्योंकि घर में केवल मैं और एक बच्ची, बच्ची को प्राइमरी स्कूल में पढ़ना था। पहले मेरी आय केवल दो हजार युवान एक साल। आज अच्छा हो गया है, प्रति माह का तनख्वाह 2300 युवान रहा है। पार्टी व सरकार की मदद से मेरा जीवन बहुत सुधरा है।”

वर्ष 2015 में स्थानीय सरकार ने छूच्ये और दूसरे गरीब गांव वासियों को सहकारी में भोजन बनाने और सब्जियां धोने का काम सौंप दिया। छूच्ये ने कहा कि खेती करने की तुलना में रसोई घर में काम करना आसान है, लेकिन अधिक पैसा कमा सकता है। गांव के पार्टी सचिव सोलांग डोबजे ने कहा कि उन की सहकारी ने गांव में सभी नौ गरीब परिवारों के सदस्यों को भी नौकरियों का प्रबंध किया। 50 वर्षीय बालू भी उन में से एक है। उन्हों ने कहा,“मेरे पिता जी बिस्तर में बीमार रहे हैं और बच्चों को स्कूल में पढ़ना है। सहकारी में काम करने से मेरी आय बहुत बढ़ी है। आशा है कि सरकार की अच्छी नीतियों से मैं अपने हाथों से जीवन का सुधार कर सकूंगा।”

पर्यटन के मौसम में सहकारी को एक दिन 500 से अधिक पर्यटकों का सत्कार करना है, जिससे सहकारी को डेढ़ हजार युवान की आय मिलती है। हूपेइ प्रांत से आये पर्यटक ल्यू ने न्यिंग-ची शहर का दौरा करते इस सहकारी के होम होटल में रहना चुना। उन्हें तिब्बत की रीति-रिवाज बहुत पसंद है। उन्हों ने कहा,“यहां के होम होटल में रहना अच्छा लगता है। मकान की सजावट और बाहर की हवा आदि सब आरामदेह लगता है। दूसरे होटल बड़े और लक्जरी तो है, लेकिन यहां के होटल में रहना बहुत रिलक्स है। यहां रहकर शहर में जो संघर्ष और परेशानियां हैं, उन सब को भूल सकता है। इसलिए मैं अपने दोस्तों को यहाँ आने के लिए कहूंगा।”

न्यिंग-ची शहर में गरीबी उन्मूलन के कार्यों को पर्यटन के साथ जोड़ दिया गया है और यह बिल्कुल सही है। ऐसा करने के बाद जीवन का सुधार करने के साथ साथ प्राकृतिक वातावरण भी सुरक्षित है। पार्टी सचिव सोलांग डोबजे ने कहा,“हम होटल के सामने एक नये स्थल का निर्माण कर रहे हैं जहां एक हजार पर्यटकों का सत्कार किया जाएगा। होटल में रहने के अलावा पर्यटक यहां मछली पकड़ने और एक तम्बू पिच करने का आनन्द भी उठाएंगे।”  

शेयर

सबसे लोकप्रिय

Related stories