फिनलैंड में तिब्बती थांगका की प्रदर्शनी आयोजित

2018-05-12 16:46:58
Comment
शेयर
शेयर Close
Messenger Messenger Pinterest LinkedIn

फिनलैंड में तिब्बती थांगका की प्रदर्शनी आयोजित

फिनलैंड में तिब्बती थांगका की प्रदर्शनी आयोजित


11 मई को फिनलैंड की राजधानी हेलसिंकी में प्रथम बार तिब्बती कला थांगका की प्रदर्शनी हुई। चीन के तिब्बती कलाकारों की रचनाओं पर फिनलैंड के दोस्तों का ध्यान आकर्षित हुआ और व्यापक प्रशंसा भी प्राप्त हुई। 

प्रदर्शनी में चीन के मशहूर कलाकार रोज़ाम दानपा के द्वारा रचित 25 रकोंग थांगका की प्रदर्शनी की गयी। थांगका को चीनी राष्ट्र की परंपरागत कलाओं में मशहूर बौद्धिक चित्र माना जाता है। वर्ष 2009 में रकोंग थांगका को संयुक्त राष्ट्र के यूनेस्को की अमूर्त सांस्कृतिक विरासत नामसूची में शामिल किया गया।

प्रदर्शनी में उपस्थित फिनलैंड के दर्शकों ने कहा कि पशिचमी कला की तुलना में थांगका कला की अपनी विशेषता होने के बावजूद विभिन्न क्षेत्रों के कला और सौंदर्य वास्तव में जुड़े हुए हैं।हमने पहले ऐसी कलात्मक रचनाएं कभी नहीं देखी, पर हमें बहुत पसंद है। हम देख रहे हैं कि थांगका में कुछ कथाएं सुनायी जा रही हैं। इन कथाओं की जानकारी लेने के लिए हमें और अधिक पुस्तकें पढ़नी चाहिये और यह बहुत दिलचस्प है। ऐसी असाधारण कलात्मक रचनाओं का वर्णन करना मुश्किल है, ऐसी रचनाएं रचित करने वाला कलाकार वास्तव में अद्भुत है।”   

प्रदर्शनी के उत्घाटन समारोह में चीन से गये कलाकारों ने स्थानीय दर्शकों को गीत, नृत्य, मार्शल आर्ट्स और एक्रोबेटिक्स का सुन्दर प्रदर्शन किया। चीनी अंतर्राष्ट्रीय सांस्कृतिक संचार केंद्र के प्रधान लूंग यू श्यांग ने कहा,हमारे प्रदर्शन में चीनी राष्ट्र के सबसे अच्छे और सबसे क्लासिक कला का प्रसारण किया जा रहा है। आशा है कि फिनलैंड और उत्तरी यूरोप की सबसे अच्छी संस्कृति का चीन में परिचय किया जाएगा।   

फिनलैंड स्थित चीनी राजदूत चेन ली ने समारोह में कहा कि चीन और फिनलैंड के बीच दीर्घकालिक दोस्ती है जिससे दोनों के बीच सांस्कृतिक आदान प्रदान करने के लिए नींव रखी हुई है। उन्होंने कहा,चीन और फिनलैंड के बीच संबंधों में मानवीय आदान प्रदान करने का महत्वपूर्ण भाग है। तिब्बती कला थांगका की प्रदर्शनी से विदेशों में मूल्यवान संस्कृति विरासत के संरक्षण को बढ़ावा दिया जाएगा। और इससे अल्पसंख्यक जातीयों की संस्कृति के संरक्षण को भी बढ़ाया जाएगा।

फिनलैंड के सांस्द सदस्य, फिनिश अंतर्राष्ट्रीय मामलों की समिति के अध्यक्ष टॉम पैकेलेन ने कहा कि फिनलैंड और चीन के बीच परंपरागत सहयोग करने का इतिहास है। सांस्कृतिक आदान प्रदान करने से दोनों के बीच मैत्री को भी मजबूत किया जाएगा। उन्होंने कहा,बहुत गौरव महसूस हुआ है कि फिनलैंड में थांगका कलात्मक रचना की प्रदर्शनी हुई। फिनलैंड और चीन के बीच भिन्न-भिन्न आदान प्रदान व सहयोग का विकास किया जा रहा है। आशा है यह रूझान बना रह सकेगा। 

( हूमिन )

शेयर

सबसे लोकप्रिय

Related stories