हाइडेटिड रोग को रोकने का अभियान

2017-12-04 15:00:37
Comment
शेयर
शेयर Close
Messenger Messenger Pinterest LinkedIn

हाइडेटिड रोग को रोकने का अभियान

हाइडेटिड रोग को रोकने का अभियान

हाइडेटिड रोग तिब्बत स्वायत्त प्रदेश में व्यापक तौर पर प्रसारित बीमारी माना जाता है । सन 2015 के अक्तूबर से चीनी जन मुक्ति सेना के नम्बर 302 अस्पताल के अनेक विशेषज्ञ दलों ने तिब्बत के शिगाज़े और शाननान आदि क्षेत्रों में इस रोग की जांच कर सात हजार से अधिक रोगियों का इलाज किया । उन में 90 रोगियों का ऑपरेशन किया गया और उन की हालत अच्छी रहती है । तिब्बत स्वायत्त प्रदेश की सरकार ने भी हाइडेटिड रोग को रोकने में अनेक कदम उठाये और वर्ष 2020 तक इस के प्रसार को नियंत्रित करने का लक्ष्य बनाया है । वर्ष 2016 चीन के भीतरी इलाकों के अनेक अस्पतालों या दूसरे संगठनों ने तिब्बत में लिवर हाइडेटिड रोग से ग्रस्त लोगों के इलाज के लिए विशेष अभियान चलाया । उन्हों ने  गठित चिकित्सक दल भेजकर तिब्बती रोगियों का निःशुल्क उपचार किया और ऐसे रोग की रोकथाम के लिए जानकारियों का प्रसार भी किया ।  

 हाइडेटिड रोग तिब्बत के देहाती क्षेत्रों में सामान्य रोग माना जा रहा है । तिब्बत को छोड़कर वह सिंच्यांग, छींगहाई और नींगश्या आदि प्रदेशों के घास मैदानों पर भी प्रचलित है । आदमी को कभी कभी कुत्ता और भेड़ आदि पशुओं के माध्यम से ऐसे रोग से संक्रमित लगता है और बहुत से रोगियों की इसी बीमारी से मौत हुई है । भीतरी इलाकों से आये डाक्टरों ने हाइडेटिड रोग से ग्रस्त इन तिब्बतियों की बड़ी मदद की है ।

गत वर्ष 32 वर्षीय महिला थेनज़ीन यूद्रोन तिब्बत स्वायत्त प्रदेश के शाननान शहर में रहती हैं । चीनी जन मुक्ति सेना के नम्बर 302 अस्पताल के विशेषज्ञों ने थेनज़ीन और इन की बेटी के लिए हाइडेटिड सर्जरी की और दोनों की हालत अच्छी रही है । थेनज़ीन ने कहा,“पेइचिंग से आये विशेषज्ञों ने मेरे लिए रोग का इलाज किया । मैं बहुत आभारी हूं ।”

हाइडेटिड रोग का तिब्बत के देहातों में गंभीरता से प्रसार है । वर्ष 2015 में चीनी अखिल परोपकार संघ ने भीतरी इलाकों के विभिन्न अस्पतालों से तिब्बत में हाइडेटिड विशेषज्ञ दल भेजने का अनुमोदन किया । इससे अनेक मशहूर अस्पतालों के विशेषज्ञों ने तिब्बत में हाइडेटिड रोग का निरीक्षण, इलाज और सर्जरी किया । उन्हों ने सैकड़ों रोगियों का उपचार किया और उन में कुछ रोगियों का सर्जरी भी की । नम्बर 302 अस्पताल के विशेषज्ञ ल्यू चेन वन ने कहा,“हम ने 99 रोगियों के लिए सर्जरी किया जो सब निःशुल्क है । सरकार ने हाइडेटिड को प्रमुख स्थानीय रोगों की नाम सूची में शामिल कराया है और इसका सभी उपचार निशुल्क होता है ।”


हाइडेटिड रोग को रोकने का अभियान

 

चीनी जन मुक्ति सेना के नम्बर 302 अस्पताल में देश में सबसे बड़ा संक्रमित रोग रोधक केंद्र मौजूद है । अभी तक इस अस्पताल ने तिब्बत से पेइचिंग गये 124 हाइडेटिड रोगियों का उपचार किया और उनमें 90 की सर्जरी की गयी । इस अस्पताल के डाइरेक्टर ची चुन शंग ने कहा,“हाइडेटिड रोगियों के इलाज में हमारे अस्पताल के हेपेटोबिलियरी सर्जरी, रेडियोलोजी और अल्ट्रासाउंड विभाग के विशेषज्ञों ने एक साल के भीतर कुल 99 रोगियों की सर्जरी की और शतप्रतिशत की सफलता प्राप्त हुई ।”

इसके सिवा नम्बर 302 अस्पताल ने तिब्बत स्वायत्त प्रदेश के नम्बर 2 अस्पताल में तकनीकी मार्गदर्शन, मेडिकल प्रशिक्षण और टेलीमेडिसिन आदि काम किया । और तिब्बत के 14 अस्पतालों के प्रमुख चिकित्सकों को प्रशिक्षण किया जिससे तिब्बती अस्पतालों में हाइडेटिड रोकने की खुद की क्षमता भी बहुत बढ़ी है । तिब्बत स्वायत्त प्रदेश के नम्बर 2 अस्पताल के चिकित्सा शिक्षा कार्यालय के उप प्रधान सोनाम न्गोड्रप ने कहा,“डाक्टर ल्यू और दूसरे विशेषज्ञों ने जी-जान से हमें शिक्षित किया, अब हमारे अस्पताल के डॉक्टर भी हाइडेटिड सर्जरी करने में समर्थ हैं । हम ने विशेषज्ञों से बहुत से स्किल सीखा है और अब हमारे अस्पताल में ही सबसे मुश्किल ऑपरेशन किया जा सकता है ।”पता चला है कि तिब्बत स्वायत्त प्रदेश में सभी 28 लाख से अधिक निवासियों की हाइडेटिड रोग जांच की गयी है । और उनमें 26 हजार रोगियों का पता लगाया गया है । इन रोगियों का उपचार करने का काम भी शुरू हो गया है । स्वायत्त प्रदेश के रोग निवारण और नियंत्रण केंद्र के प्रधान ली पीन ने कहा,“अब सभी निवासियों की हाइडेटिड रोग जांच समाप्त हो गयी है और रोगियों का इलाज करने का काम भी शुरू हो गया है । योजनानुसार वर्ष 2019 तक सभी गंभीर रोगियों का उपचार किया जाएगा । इस के साथ-साथ रोग-संक्रमण के स्रोत को नियंत्रित करने की कोशिश की जा रही है । कुत्ता, गाय, भेड़ आदि पशुओं के लिए प्रतिरक्षा करने का काम भी किया जाएगा ।”

विश्वास है कि सरकार और चिकित्सकों की कोशिशों से तिब्बत में हाइडेटिड रोग का खात्मा जरूर ही किया जा सकेगा ।

शेयर

सबसे लोकप्रिय

Related stories