सूचना:चाइना मीडिया ग्रुप में भर्ती

सुधार और खुलेपन से चीन में कार व्यवसाय का तेज़ विकास

2020-03-11 21:00:00
शेयर
शेयर Close
Messenger Messenger Pinterest LinkedIn

सुधार और खुलेद्वार की नीति लागू होने के बाद पिछले 40 से अधिक सालों में चीन में बड़ा परिवर्तन हुआ है। चीनी लोगों के खाने, पीने, रहने और चलने की स्थिति में बड़ा सुधार आया है। यातायात की दृष्टि से देखा जाए, तो चीनी लोगों की मुख्य सवारी साइकिल से कार में बदल गई। अब चीन दुनिया में सबसे बड़ा मोटर वाहन उपभोक्ता का बाज़ार बन गया है। चीन के बाज़ार में घरेलू ब्रांड और विदेशी ब्रांड का अनुपात बराबर बना रहता है। कहा जा सकता है कि विदेशी कार कंपनियों ने चीन की आर्थिक वृद्धि से लाभ उठाया है।

विदेशी कार कंपनियां चीनी उपक्रमों के साथ साझा प्रबंध करके चीन में व्यापार करने लगीं और चीन के बाज़ार में इसकी जीवन शक्ति का संचार हुआ। उत्पाद और तकनीक का निर्यात करने के जरिए विदेशी कार कंपनियों ने चीन में तमाम पेशेवरों को प्रशिक्षण दिया। वहीं प्रतिभाओं के आदान-प्रदान से चीन में कार व्यवसाय के विकास को बढ़ावा दिया गया।

पिछली शताब्दी के मध्य में चीन का कार उद्योग विकास के शुरुआत समय में था। सुधार और खुलेद्वार की नीति लागू होने के बाद चीन के कार उद्योग की संपूर्ण औद्योगिक प्रणाली धीरे से स्थापित हुई। कुंजीभूत तकनीक के अनुसंधान में भी प्रगति हुई। आज चीन का कार उद्योग विकास के नए चरण से गुज़र रहा है। नई पीढ़ी की सूचना प्रौद्योगिकी और विनिर्माण प्रौद्योगिकी के मिश्रण, स्वचालित तकनीक और स्मार्ट यातायात से कार उद्योग का ज़ोरदार विकास शुरू कर दिया गया है।

चीन में कार उद्योग के विकास का सिंहावलोकन करते हुए चीनी ऑटोमोटिव इंजीनियरिंग सोसाइटी के मानद अध्यक्ष फू यूवू ने कहाः

“चीन में कार उद्योग के विकास के तीन चरण हैं। पहला चरण है वर्ष 1956 में च्येफांग ब्रांड के पहले ट्रक का निर्माण पूरा होने से लेकर सुधार और खुलेद्वार की नीति लागू होने से पहले तक। चीन ने वाणिज्यिक वाहन पर आधारित कार निर्माण व्यवस्था स्थापित की। दूसरा चरण है सुधार और खुलेद्वार से पिछली शताब्दी के शुरुआत तक। बाज़ार के खुलने और निजी उद्यमों के विकास के चलते आम चीनी लोग अपनी कार खरीदने लगे। तीसरे चरण में यानी आज तक चीन के कार उद्योग का तेज़ विकास बना रहता है। चीन में कार के उत्पादन और बिक्री 20 लाख से बढ़कर करीब 3 करोड़ तक पहुंच गई, जो लगातार कई सालों तक दुनिया के पहले स्थान पर रही। चीन सच्चे मायने में कार का बड़ा देश बन गया है।”

दुनिया में सबसे बड़ा कार बाज़ार होने के नाते चीन विदेशी कार कंपनियों के लिए बहुत महत्वपूर्ण है। उनके लिए चीन में न सिर्फ़ बड़ा बाज़ार मौजूद है, बल्कि स्थिर और विशाल युवा उपभोक्ता समूह भी मौजूद है। इससे चीन अधिकाधिक विदेशी कंपनियों को आकर्षित करता है। स्कोडा उनमें से एक है। स्कोडा जर्मनी की वोक्सवैगन कंपनी के अधीनस्थ कार ब्रांड है, जिसका मुख्यालय चेक गणराज्य में स्थित है। चीन में स्कोडा के बिक्री विभाग के प्रमुख ऑलिवर स्टेपलर ने कहाः

“स्कोडा ने चीन में बड़ी सफलता पाई है। इससे स्कोडा के दुनिया भर में तेज़ विकास के लिए बड़ा योगदान किया गया। हमने स्कोडा के सबसे बड़े बाज़ार चीन में कई किस्मों की कार लांच की। चेक गणराज्य स्थित चीनी राजदूत भी हमारी कार चलाते हैं।”

चीन में व्यापार करते समय स्कोडा पूर्ण रूप से चीनी उपभोक्ताओं की पसंद और चीनी बाज़ार के विकास के रुझान पर विचार करता है। चीनी तत्व स्कोडा के कई कारों के डिज़ाइन में इस्तेमाल किया जाता है। स्कोडा के बिक्री विभाग के प्रमुख ऑलिवर ने कहाः

“चीन में स्कोडा अपना व्यापार और बढ़ाएगा। भविष्य में स्कोडा ऊर्जा किफायत और कम प्रदूषण निकासी, पर्यावरण संरक्षण, डिजिटलीकरण और आर्टीफिशियल इंटेलिजेंस की दिशा में प्रयास करेगा।”

देखा जा सकता है कि स्कोडा चीन के कार बाज़ार के विकास के साथ साथ अपने व्यापार में समायोजन करता है। अब चीन में कार उद्योग विकास के नए चरण में प्रवेश हो चुका है। तकनीक की प्रगति से उत्पादों का बदलाव हुआ। बिग डेटा, क्लाउड कंप्यूटिंग, आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस और 5-जी संचार आदि तकनीकों के कार के साथ मिश्रण करने से चीन के कार उद्योग में बड़ा परिवर्तन हो रहा है। चीनी ऑटोमोटिव इंजीनियरिंग सोसाइटी के मानद अध्यक्ष फू यूवू ने कहाः

“हमें स्पष्ट रूप से लग रहा है कि सूचना प्रौद्योगिकी से आए परिवर्तन के सामने विभिन्न जगतों को आपस में सहयोग करना चाहिए। इलेक्ट्रिक, शेयरिंग, आर्टिफीशियल इंटेलिजेंस और इंटरनेट से जुड़ना चीन में कार व्यवसाय के विकास की दिशा है। इसके दौरान विभिन्न जगत, विभिन्न क्षेत्र और विभिन्न व्यवसाय के बीच सहयोग बदलाव करने का तरीका है। नए चरण की तकनीकी क्रांति और व्यावसायिक परिवर्तन के चलते नई पीढ़ी की सूचना प्रौद्योगिकी और विनिर्माण प्रौद्योगिकी का मिश्रण हो रहा है। नई स्थिति में कार का ऊर्जा, यातायात, सूचना और संचार आदि क्षेत्रों के साथ संपर्क और घनिष्ठ होगा।”

चीन में दसेक सालों से व्यापार करने वाला स्कोडा आशा करता है कि वर्ष 2020 में चीन में व्यापार दो गुणा बढ़ेगा। स्कोडा की तरह अन्य विदेशी कार कंपनियां भी चीनी उपभोक्ताओं की मांग के अनुसार लगातार चीन में अपने व्यापार का और बड़ा विकास करेंगी।

शेयर

सबसे लोकप्रिय

Related stories