सूचना:चाइना मीडिया ग्रुप में भर्ती

तिब्बती मैराथन खिलाड़ी टोबग्ये टोक्यो ओलंपिक में पहले 8 में प्रवेश करने की कोशिश करेगा

2020-02-01 20:45:58
शेयर
शेयर Close
Messenger Messenger Pinterest LinkedIn

चीनी मध्य और लंबी दूरी दौड़ टीम के खिलाड़ी टोबग्ये अभी अफ्रीका में अभ्यास कर रहे हैं ।अफ्रीका जाने से पहले उन्होंने शिनहुआ समाचार एजेंसी के साथ हुए विशेष साक्षात्कार में वर्ष 2019 की सफलता और खेद का अवलोकन किया और वर्ष 2020 टोक्यो ओलंपिक की प्रतीक्षा व्यक्त की ।उन्होंने कहा कि वे ओलंपिक के मैराथन दौड़ में पहले 8 में प्रवेश करने की कोशिश करेगा और चीनी टीम के लिए एक ब्रेक थ्रू लाएगा।

24 मार्च 2019 को 25 वर्षीय टोबग्ये शू चो ने अंतरराष्ट्रीय मैराथन और विश्व चैंपियनशिप की मैराथन चयन प्रतियोगिता में 2 घंटे 10 मिनट 31सेकेंड से खिताब जीता और टोक्यो ओलंपिक के क्वालिफायर मापंदड को पास किया। इससे पहले के 12 साल में किसी भी चीनी मैराथन खिलाड़ी ने 2 घंटे 11 मिनट के अंदर प्रतियोगता पूरी की थी। अब तक चीनी पुरुष मैराथन खिलाड़ियों का सबसे अच्छा रिकार्ड 2 घंटे 8 मिनट 15 सेकेंड था ,जो रन युनलोंग ने वर्ष 2007 में कायम किया था ।इसलिए उस समय टोबग्ये का परिणाम उल्लेखनीय था।

ट्रैक एंड फील्ड की पठार पर प्रतिभाओं की विकास योजना का लाभ उठाकर टोबग्ये वर्ष 2013 में हर साल की सर्दी में अफ्रीका जाकर अभ्यास करते हैं। शू चो मैराथन प्रतियोगिता से पहले सर्दी के समय में अभ्यास में टोबग्ये ने पुरुष 5000 मीटर और 10 हजार मीटर विश्व रिकार्ड धारक केनेनिसा बेकले और बाद में दोहा विश्व चैंपियनशिप मैराथन के विजेता लेलिसा देसिसा जैसे चोटी स्तर वाले खिलाड़ियो के साथ अभ्यास किया था।

याद करते हुए टोबग्ये ने बताया कि मैं दसेक उच्च स्तरीय खिलाड़ियों के साथ अभ्यास करता था। उनका सबसे अच्छा रिकार्ड 2 घंटे 4 मिनट और 2 घंटे 6 मिनट के बीच था। उनके साथ अभ्यास करते समय मैं पीछे नहीं रहा था। इसलिए मुझे लगता है कि मैं 2 घंटे 6 या 2 घंटे 8 मिनट में दौड़ सकूंगा।

पिछले सर्दी काल अभ्यास में चीनी टीम के कोच ने टोबग्ये की निहित शक्ति पर समान विचार भी व्यक्त किया था। लेकिन टोबग्ये को वर्ष 2019 में हुए दो अन्य मैराथन दौड़ यानी दोहा विश्व चैंपियनशिप और शांगहाई अंतरराष्ट्रीय मैराथन में प्रतियोगिता के बीच हटना पड़ा। कारण यही था कि प्रतियोगिता के दौरान गर्मी दूर करने के लिए ठंडा पानी छिड़कने के बाद टोबग्ये के पेट में गड़बड़ हुआ। ध्यान रहे दोहा विश्व चैंपियनशिप में हर दिन न्यूनतम तापमान करीब 30 डिग्री सेल्सियस था और उच्चतम तापमान 40 डिग्री से अधिक था। मैराथन प्रतियोगिता तड़के में शुरू हुई। 73 प्रतिभागियों में से 18 लोगों ने प्रतियोगिता पूरी नहीं की।

दोहा विश्व चैंपियनशिप की प्रतियोगिता से हटने पर टोबग्ये को खेद नहीं हुआ। उन्होंने कहा कि यह एक अनुभव भी है। मैं जवान हूं। अफ्रीका के उच्च स्तरीय खिलाड़ी 30 वर्ष के बाद ही अच्छा रिकार्ड प्राप्त करते हैं। मैं सिर्फ 25 वर्ष का हूं ।

टोक्यो ओलंपिक आयोजन समिति ने उच्च तापमान से बचने के लिए मैराथन दौड़ का स्थान बदला है ।यह खबर टोबग्ये के लिए अच्छी है ।कोच और टोबग्ये ने ओलंपिक में पहले 8 में प्रवेश करने का लक्ष्य निर्धारित किया है ।अब तक ओलंपिक मैराथन स्पर्धा में चीनी खिलाड़ियों का सबसे अच्छा रिकार्ड वर्ष 1988 में छाई शांगयेन का 26वां स्थान है। क्यों कि चीनी खिलाड़ी पहले 8 में दाखिल नहीं हुए हैं, सो मैं पहले यह ब्रेक थ्रू करना चाहता हूं औ बाद में अधिक ऊंचे लक्ष्य पर अभियान करूंगा।

वर्ष 2017 में टोबग्ये ने थ्येनचिन में हुए राष्ट्रीय खेल समारोह में दस हजार मीटर दौड़ का खिताब जीता। वर्ष 2018 जकार्ता एशियाड मैराथन दौड़ में टोबग्ये ने एक कांस्य पदक हासिल किया। कोच कसांगट्सेरिंग की नज़र में टोबग्ये अधिक परिपक्व हैं और वे अपनी जिम्मेदारी अच्छी तरह समझते हैं ।

टोबग्ये ने साक्षात्कार में बताया कि मैं कैप्टन हूं। अगर कोच नहीं आते, वे अभ्यास की योजना मुझे देते हैं ।टोबग्ये ने बताया कि जब मैं छोटा खिलाड़ी था ,मैं कभी कभी पेड़ के पीछे छिपकर कामचोरी करता था ।लेकिन अब वे अभ्यास में सुस्त होने वाले कनिष्ठ साथियों को बताते हैं कि ऐसा करना कोच को धोखा देने के बजाये खुद को धोखा देना है।

अब तिब्बती मध्य और लंबी दौड़ टीम का घरेलू प्रतियोगिता में लाभ कायम हुआ है। 24 वर्षीय मिक्यो न्यिमा ,23 वर्षीय तानमुचेनट्सेवांग और 20 वर्षीय सोनाम ट्सेरिंग सब राष्ट्रीय टीम के सदस्य हैं। पिछले सीज़न में वे सभी 2 घंटे 20 मिटन के अंदर पहुंचे ।कोच कसांगट्सेरिंग ने बताया कि अफ्रीका के अभ्यास में उन का प्रदर्शन टोबग्ये के बराबर है ।

तिब्बती नया साल इस फरवरी में आ रहा है ।टोबग्ये ने हंसते हुए बताया कि मैंने दस साल तक घर में नया साल नहीं बिताया है ।मैंने कभी नहीं सोचा कि मैं घर जा सकूंगा ।उन्होंने कहा कि घरवालों से फोन करते समय वे अपनी प्रतियोगिता और अभ्यास के बारे में बहुत कम चर्चा करते हैं। माता जी उन का बड़ा ध्यान रखती हैं ।अगर अपनी इवेंट और प्रतियोगिता की चर्चा हुई ,तो उनकी माता रोने लगेंगी। टोबग्ये ने बताया कि मुझे पहले भी लगता था कि लंबी दूरी दौड़ बहुत ऊबाऊ है। लेकिन सफलता पाने के बाद मेरा अनुभव हुआ कि राष्ट्रीय टीम में शामिल होना गौरव की बात है और ऐसा जीवन आशावान है।

टोबग्ये ने हंसते हुए बताया कि घर वालों की आशा है कि जब मैं स्वस्थ हूं, तो सब ठीक है और होमटाउन में इतना कठोर नहीं होने वाला काम भी मिल सकता है और आय भी ठीकठाक है। लेकिन मैं ऐसा नहीं सोचता, मेरा अपना लक्ष्य है।

(वेइतुंग)

शेयर

सबसे लोकप्रिय

Related stories