चीनी वाणिज्य मंत्रालय—यूएनडीपी सहयोग के 40 वर्ष

2019-11-05 14:57:24
Comment
शेयर
शेयर Close
Messenger Messenger Pinterest LinkedIn

चीनी वाणिज्य मंत्रालय—यूएनडीपी सहयोग की 40वीं वर्षगांठ स्मृति प्रदर्शनी हाल ही में पेइचिंग में आयोजित हुई। इस प्रदर्शनी की थीम है 40 साल की याद, सहयोग से विकास। इस प्रदर्शनी के दर्शकों ने चीनी विकास की उपलब्धियों और चीन के अंतरराष्ट्रीय योगदान की बड़ी प्रशंसा की।

इस प्रदर्शनी के उद्घाटन समारोह पर चीनी वाणिज्य मंत्री चुंग शान ने परिचय देते हुए कहा कि चीन और संयुक्त राष्ट्र विकास कार्यक्रम यानी यूएनडीपी का सहयोग वर्ष 1979 में शुरू हुआ था। चालीस वर्षों में दोनों पक्षों ने न सिर्फ आदान प्रदान और सहयोग का महत्वपूर्ण मंच स्थापित किया ,बल्कि चीनी आर्थिक, सामाजिक विकास के लिए बड़ा योगदान दिया। इसके साथ चुंग शान ने बताया कि चीन एक जिम्मेदार बड़ा देश है। चीन ने गंभीरता से अंतरराष्ट्रीय कर्तव्यों का पालन किया और अंतरराष्ट्रीय विकास सहयोग में सक्रियशील रहता है। उन्होंने बताया ,इधर कुछ साल हमने सक्रियता से संयुक्त राष्ट्र 2030 निरंतर विकास कार्यसूची से डॉकिंग किया और बेल्ट एंड रोड पहल को बढ़ावा दिया ताकि अधिक लोगों को विकास से लाभ मिले। चीन ने सिलसिलेवार विकास सहायता परियोजनाएं लागू कीं और दक्षिण-दक्षिण सहयोग सहायता कोष, दक्षिण-दक्षिण सहयोग विकास कॉलेज और चीनी अंतर्राष्ट्रीय विकास ज्ञान केंद्र की स्थापना की ।वर्ष 2018 में चीन ने सफलता के साथ चीन अंतरराष्ट्रीय आयात मेले का आयोजन किया। इस मेले में हम व्यापक विकासशील देशों, खासकर सबसे अविकसित देशों को मुफ्त प्रदर्शनी स्टॉल प्रदान करते हैं और उनकी सहायता करते हैं। अगले चरण में चीनी पक्ष दक्षिण-दक्षिण सहयोग ढांचे के तहत संयुक्त राष्ट्र समेत अंतरराष्ट्रीय संगठनों के साथ व्यावहारिक सहयोग चलाएगा ताकि वैश्विक विकास कार्य को बढ़ावा मिले।

चीन स्थित संयुक्त राष्ट्र समन्वयक निकोलास रोसेलिनी ने बताया कि चालीस वर्ष पहले का चीन, वर्तमान चीन से एकदम अलग था। उन्होंने कहा कि उस समय चीन के सामने एक बड़ी समस्या आम लोगों के खाने और कपड़े की थी। कई दशकों के विकास से चीन विश्व की दूसरी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था बन चुका है। ग्रामीण क्षेत्रों में गरीब आबादी का अनुपात 1.7 प्रतिशत से भा कम है। वर्ष 2020 में चीन पूरी तरह गरीबी से छुटकारा पाएगा। चीन की गरीबी उन्मूलन की सफलता की प्रशंसा करने के साथ रोसेलिनी ने बताया कि संयुक्त राष्ट्र पूरे विश्व में चीन के सफल अनुभवों का प्रचार करेगा।

उन्होंने बताया ,हम और चीन अंतरराष्ट्रीय विकास सहयोग में घनिष्ठ सहयोग चलाते हैं, जैसे दक्षिण-दक्षिण सहयोग और बेल्ट एंड रोड पहल। इन वैश्विक सहयोग साझेदारी के ज़रिये चीन ने न सिर्फ़ अपने देश ,बल्कि अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर जैसे यूएन 2030 निरंतर कार्यसूची में योगदान किया है। वर्तमान में मिली उपलब्धियां हमारे सरकारी सहयोगियों की कोशिशों और समर्थन के बिना संभव नहीं हो सकतीं थीं। हम चीनी अध्ययन जगत, निजी सेक्टर ,मीडिया और सिविल समाज के समर्थन के लिए धन्यवाद भी व्यक्त करते हैं।

चीन स्थित अफ्रीकी लीग के प्रतिनिधि ओसमान ने गरीबी उन्मूलन में चीन के कार्य की भूरि भूरि प्रशंसा की। उन्होंने बताया कि चीन ने पिछले दसियों साल में असाधारण विकास से सफलता हासिल की है। गरीबी उन्मूलन में चीन की उपलब्धि अभूतपूर्व है।

उन्होंने बताया ,वैश्विक गरीबी उन्मूलन में चीन का योगदान 70 प्रतिशत से अधिक है। चीन समय से पहले संयुक्त राष्ट्र गरीबी उन्मूलन लक्ष्य पूरा करने वाला पहला देश है। कहा जा सकता है कि गरीबी उन्मूलन में चीन ने पूरे विश्व के लिए एक मिसाल पेश की है, खासकर विकासशील देशों के लिए। वास्तव में चीन अफ्रीका और अन्य विकासशील देशों के साथ उनके अनुभव साझा करने में जुटा हुआ है। चीन बेल्ट एंड रोड पहल, चीन अफ्रीका सहयोग मंच के ज़रिये विभिन्न सहयोग चलाता है।

(वेइतुंग)

शेयर

सबसे लोकप्रिय

Related stories