रेशम मार्ग पर गण्यमान्य व्यक्तियों को शिनच्यांग की संस्कृति का अनुभव

2019-02-03 16:11:07
Comment
शेयर
शेयर Close
Messenger Messenger Pinterest LinkedIn

रेशम मार्ग पर गण्यमान्य व्यक्तियों को शिनच्यांग की संस्कृति का अनुभव

रेशम मार्ग पर गण्यमान्य व्यक्तियों को शिनच्यांग की संस्कृति का अनुभव

हाल ही में चाइना मीडिया ग्रुप द्वारा आयोजित रेशम मार्ग पर गण्यमान्य व्यक्तियों की चीन यात्रा प्रतिनिधि मंडल ने पश्चिमी चीन के शिनच्यांग वेवूर स्वायत्त प्रदेश के काश्गर शहर की शुफू काउंटी के जातीय संगीत वाद्य गांव का दौरा किया ।स्थानीय अल्पसंख्यक गायकों ने विशेषकर पश्चिमी और दक्षिण एशिया के गीतों से प्रतिनिधि मंडल का स्वागत किया ।पाकिस्तान के एफ़एम 98 चीन-पाक दोस्ती चैनल के एंकर तस्सव्वर ज़ामन बाबा ने मेज़बान के जोशपूर्ण उत्कार के प्रति शुक्रिया व्यक्त करने के लिए एक उर्दू गीत भी गाया ।

शिनच्यांग जातीय संगीत वाद्य गांव में परंपरागत वाद्य बनाने का इतिहास 150 वर्ष पुराना है । अब इस गांव में वाद्य यंत्र बनाने में जुटे हुए परिवारों की संख्या 273 है और व्यक्तियों की संख्या 500 से ज्यादा है ।यहां 27 वर्गों की 50 किस्मों के संगीत वाद्य बनाये जाते हैं ।वर्ष 2000 में चीनी केंद्रीय सरकार ने इस गांव को चीनी शिनच्यांग जातीय वाद्य के पहले गांव का नाम रखा ।

वेवूर जाति के परंपरागत संगीत बारह मूकामू में गीत ,कविता ,संगीत ,नृत्य से ओतप्रोत है ।उसका इतिहास लगभग 1000 वर्ष पुराना है ,जो विश्व की गैर भौतिक सांस्कृतिक विरासतों की नामसूची में शामिल है ।उस दिन 12 मूकामू बजाने के वाले सभी वाद्य इस गांव में ही बनाए हैं ।

रेशम मार्ग पर गण्यमान्य व्यक्तियों को शिनच्यांग की संस्कृति का अनुभव

रेशम मार्ग पर गण्यमान्य व्यक्तियों को शिनच्यांग की संस्कृति का अनुभव

बांग्लादेश के डेली सन अख़बार के कार्यकारी संपादक शिहाबुर रहमान ने बताया कि वर्तमान में कुछ अल्पसंख्यक जातियों की सभ्यता समेत कई सभ्यताएं गायब हो रही हैं । मैंने जो देखा और सुना है ,अल्पसंख्यक जातीय संस्कृतियों की संरक्षण में चीन सरकार अच्छी तरह काम कर रही है ।

रेशम मार्ग पर गण्यमान्य व्यक्तियों को शिनच्यांग की संस्कृति का अनुभव

रेशम मार्ग पर गण्यमान्य व्यक्तियों को शिनच्यांग की संस्कृति का अनुभव

बड़े अल्पसंख्यक जातीय ऑपेरा छ्येन नियेन शी यू में प्राचीन समय में पश्चिमी चीन के नृत्य ,संगीत ,रेशम मार्ग का इतिहास और शिनच्यांग की विभिन्न जातियों के गीत और नृत्य मिश्रित हैं ।इस ऑपेरा को देखकर तुर्की इजमिर संवाददाता संघ के अध्यक्ष मिस्केट डिकमान ने चीनी दोस्तों को गले लगाया और प्रसन्नता से उनकी आंखों में आँसू निकल पड़े ।उन्होंने बताया ,शिनच्यांग की यात्रा में मैंने बहुत अच्छा लोक गीत सुना ।मैं अत्यंत प्रसंन्नता से मंच पर भी चढ़ा और नाचने लगा ।मैं उनकी लय को पकड़ सकता हूं ,क्योंकि उसकी धून तुर्की के लोक गीत से मिलती जुलती है। इसके अलावा मेरे घर में लगा कालीन का चित्रण यहां के कालीन के बराबर है ।मैंने यहां बहुत सारी शिल्प रचनाएं देखीं ,जो हमारे देश के उत्पाद से लगते हैं ।कला मानव को जोड़ती है ।

शिनच्यांग की यात्रा में विभिन्न देशों के संवाददाताओं ने पुराने काश्गर शहर का दौरा किया । 2000 वर्ष पुराने काश्गर का क्षेत्रफल 8.36 वर्ग किलोमीटर है ।वहां 2 लाख 21 हजार नागरिक बसे हुए हैं । काश्गर चीन में सुरक्षित सबसे संपूर्ण मुस्लिम शैली वाला शहर है ।

रेशम मार्ग पर गण्यमान्य व्यक्तियों को शिनच्यांग की संस्कृति का अनुभव

रेशम मार्ग पर गण्यमान्य व्यक्तियों को शिनच्यांग की संस्कृति का अनुभव

पाकिस्तान एफएम 98 चीन पाक दोस्ती चैनल के एंकर बाबर ने बताया कि बहुत खुशी है कि चीन में चाहे शहर हो या गांव ,विकास की प्रक्रिया में सांस्कृतिक संरक्षण को नजरअंदाज नहीं किया गया ।इसमें सरकार ने महत्वपूर्ण भूमिका निभायी है। चीन की 56 जातियों की संस्कृति ,वस्त्र ,भवन निर्माण ,रीति रिवाज ,खानपान का अच्छा संरक्षण हुआ है ।काश्गर और उरुमुछी की यात्रा से मुझे लगा कि संस्कृति के प्रति लोगों के प्यार से दो हज़ार साल अधिक पुरानी संस्कृति आज तक बनी रही है और जीवंत भी है।

रेशम मार्ग पर गण्यमान्य व्यक्तियों को शिनच्यांग की संस्कृति का अनुभव

रेशम मार्ग पर गण्यमान्य व्यक्तियों को शिनच्यांग की संस्कृति का अनुभव

काश्गर के नैजरबग कस्बे के 14वें गांव के एक दोहरी भाषी किंडरगार्टेन में अल्पसंख्यक जातियों के बच्चों ने गीत और नृत्य से चीन के थांग राजवंश के महाकवि मंग हाओ रान की कविता वसंत का प्रदर्शन किया । उसके पास के क्लासरूम में बच्चों ने वेवूर भाषा में बाल कविता सुनाया ।इस किंडरगार्टेन की यात्रा के अनुभव की चर्चा में अफगानिस्तान के कांधार के ओर्बैंड साप्ताहिक अख़बार के प्रमुख संपादक अब्दुल माटिन आमिरी ने बताया कि किंडरगार्टेन की यात्रा में बच्चे जो चीनी संस्कृति सीखते और उस का प्रदर्शन करते हैं ,इससे मुझ पर सबसे गहरा प्रभाव पड़ा ।इससे पहले हम ने शिनच्यांग के एक मिडिल स्कूल का दौरा भी किया । मुझे याद है कि लेखन क्साल में एक लड़की ने चीनी और वेवूर शब्दों में लिखा कि वेनकू ची शिन ।इस का मतलब है कि पुराने ज्ञान की याद कर नये ज्ञान की प्राप्त होगी । इस वाक्य में एक अहम संदेश है यानी आप अपना इतिहास और संस्कृति मत भूलिये । मत भूलिये कि आप कहां से आये हैं।

(वेइतुंग)

शेयर

सबसे लोकप्रिय

Related stories