विदेशी संवाददाताओं की शिनच्यांग के पेशेवर प्रशिक्षण केंद्र की यात्रा

2019-01-23 09:40:40
Comment
शेयर
शेयर Close
Messenger Messenger Pinterest LinkedIn

 विदेशी संवाददाताओं की शिनच्यांग के पेशेवर प्रशिक्षण केंद्र की यात्रा

विदेशी संवाददाताओं की शिनच्यांग के पेशेवर प्रशिक्षण केंद्र की यात्रा

चाइना मीडिया ग्रुप से आयोजित रेशम मार्ग पर जाने माने व्यक्तियों की चीन यात्रा प्रतितिनिधि मंडल ने हाल ही में दक्षिण शिनच्यांग के काश्गर म्युनिसिपल पेशेवर कौशल प्रशिक्षण केंद्र का दौरा किया । तुर्की, मिस्र ,अफगानिस्तान ,पाकिस्तान ,बांग्लादेश और श्रीलंका समेत 6 देशों के नामी मीडिया के संवाददाताओं ने स्थानीय छात्रों और अध्यापकों के साथ विचारों का गहन आदान-प्रदान किया।

देसी विदेशी आतंकवाद विरोधी संघर्ष के अभ्यासों से साबित है कि धार्मिक उग्रवाद हिंसक आतंकवाद को लाएगा । हिंसक आतंकवाद दूर करने लिए उसके वैचारिक आधार को मिटाया जाना है।

शिनच्यांग एक तरफ आतंकवाद पर प्रहार करता है और दूसरी तरफ इसकी रोकथाम भी करता है ।इस तरह हिंसक अपराध पर प्रहार और मानवाधिकार की गारंटी को जोड़ा गया है । इसका एक महत्वपूर्ण तरीका पेशेवर कौशल प्रशिक्षण केंद्र की स्थापना करना है ।प्रशिक्षण केंद्र के छात्र ऐसे हैं ,जो आतंकवाद और उग्रवाद से प्रभावित हैं ,पर उनका अपराध हल्का है या सज़ा से मुक्त किया जा सकता है ।

 विदेशी संवाददाताओं की शिनच्यांग के पेशेवर प्रशिक्षण केंद्र की यात्रा

विदेशी संवाददाताओं की शिनच्यांग के पेशेवर प्रशिक्षण केंद्र की यात्रा

काश्गर पेशेवर कौशल प्रशिक्षण केंद्र में भाषा ,कानूनी ज्ञान और व्यावसायिक कौशल सिखाया जाता है और उग्रवादी विचारों को दूर किया जाता है। स्कूल छात्रों के लिए मुफ्त में खाना और छात्रावास की सुविधा देता है और परीक्षा पास करने वाले छात्रों को नौकरी देता है ।

यहां के क्लास रूम बड़े और रोशनदार हैं ।रूम में कल बेहतर होगा, ईमानदारी से जीवन बिताओ जैसे नारे और छात्रों द्वारा खींचे गये सुंदर चित्र लगाये गये हैं ।अध्यापक वेवूर भाषा और फूथोंगह्वा यानी मंडारिन में सिखाते हैं । अधिकांश छात्र कुशलता से देश भर में प्रचलित फूथोंगह्वा का प्रयोग कर सकते हैं ।

तुर्की इजमिर संवाददाता संघ के अध्यक्ष मिस्केट डिक्मेन ने कहा कि एक स्वतंत्र संवाददाता होने के नाते इस बार शिनच्यांग के प्रशिक्षण केंद्र की यात्रा करने का बड़ा महत्व है ।

उन्होंने बताया,शिनच्यांग के प्रशिक्षण केंद्र के बारे में कई कथन हैं । कुछ लोगों का कहना है कि इसका उद्देश्य जातीय सम्मिश्रण है । लेकिन मैंने देखा है कि यहां एक बड़ा स्कूल है ।यहां के छात्र विचारों में सुधार और शिक्षा पाने की प्रक्रिया में हैं । उन्होंने मुझे बताया कि वे स्वैच्छिक रूप से यहां आते हैं , जो कानूनी सज़ा से मुक्त करने का वैकल्पिक उपाय है ।वे यहां शिक्षा लेते हैं ,कुशलता सीखते हैं ताकि वे भविष्य में आत्मनिर्भर तरीके से जीवन बिता सकें ।मुझे जो छात्र मिले ,वे सब अपने वर्तमान जीवन और स्कूल की स्थिति को लेकर संतुष्ट हैं ।

 विदेशी संवाददाताओं की शिनच्यांग के पेशेवर प्रशिक्षण केंद्र की यात्रा

विदेशी संवाददाताओं की शिनच्यांग के पेशेवर प्रशिक्षण केंद्र की यात्रा

यात्रा के दौरान विभिन्न देशों के संवाददाताओं ने केंद्र के छात्रों के साथ विचारों का पर्याप्त आदान-प्रदान किया ।अफगानिस्तान के कांधार ओर्बेंड अख़बार के प्रधान संपादक अब्दुल माटिन अमिरी ने बताया , इसके पहले कुछ मीडिया की रिपोर्टों से मेरा विचार था कि चीन सरकार ने हिंसक तरीके से कुछ लोगों को कैद किया है। चीनी पुलिस मजबूरी में इन लोगों को प्रशिक्षण देती है और कुछ जेल में भी भेजते हैं ।लेकिन आज मैंने अपनी आंखों से देखा है कि यहां की असली स्थिति एकदम अलग है । यहां मजबूर कार्रवाई नहीं है ।वह सिर्फ एक स्कूल है । मैंने कुछ छात्रों के साथ बात की है। वे सब खुश हैं । एक बहुत महत्वपूर्ण बात है कि वे यहां कौशल और ज्ञान सीख सकते हैं ।मुझ पर सबसे गहरा प्रभाव है कि उनमें पहले मौजूद उग्रवादी विचारों को दूर किया गया है। वैचारिक समस्या हल की गयी है।

तुर्की के एटीवन के संवाददाता अर्दल कुरुके ने बताया (आवाज - 4)

पहले हम सिर्फ़ पश्चिमी देशों की मीडिया देखते हैं और उनकी रिपोर्टों के मुताबिक अपना पक्ष तय करते हैं। यह बिल्कुल गलत है । प्रशिक्षण केंद्र जाने के बाद मेरा संदेह दूर हो गया है ।उन्होंने सचमुच अपराध किया था और वो सचमुच उग्रवादी विचारों से प्रभावित हुए थे ।प्रशिक्षण केंद्र एक स्कूल है ।लोग यहां विभिन्न पाठ्यक्रम सीख सकते हैं और अपना मूल्य बढ़ा सकते हैं ।प्रशिक्षण केंद्र इलाज केंद्र भी है ।वे यहां नया जीवन प्राप्त करेंगे और समाज में फिर घुल मिलकर रहेंगे ।मनुष्य कभी कभी गलती करता है ,लेकिन महत्वपूर्ण बात है कि गलती जानना और उसे ठीक करना ।

 विदेशी संवाददाताओं की शिनच्यांग के पेशेवर प्रशिक्षण केंद्र की यात्रा

विदेशी संवाददाताओं की शिनच्यांग के पेशेवर प्रशिक्षण केंद्र की यात्रा

स्कूल के संगीत क्लासरूम में छात्र जातीय वस्त्र पहने हुए संगीत वाद्य यंत्र बजाते हैं ,नाचते हैं और गाना गाते हैं ।स्कूल के खेल मैदान में छात्र बास्केटबाल ,वालिबाल और टेबल टेनिस खेलते हैं और खेलने के दौरान ही उनकी जोश भरी चीखें सुनाई देती है ।मेस में छात्रों ने परंपरागत नूडल खाने के साथ विदेशी संवाददाताओं के साथ बात की । हरेक के चेहरे पर मुस्कान दिखाई देती है ।हरेक स्कूली जीवन का आनंद ले रहे हैं ।पाकिस्तान के एफएम 98 चीन पाक मित्रता रेडियो के एंकर टास्सावार जमान बाबर ने बताया, प्रशिक्षण केंद्र का दौरा करने के बाद मैं चीन की उग्रवादी विचार दूर करने की कोशिशों की प्रशंसा करता हूं ।चीन में प्रशिक्षण केंद्र की स्थापना का उद्देश्य व्यक्तियों के बीच आवाजाही और शांतिपूर्ण सह-अस्तित्व बढ़ाना है ।प्रशिक्षण के तरीके से लोगों के बीच पारस्परिक सम्मान और प्यार फैलाना और उग्रवादी विचार दूर करना है ।

तुर्की अनादोलू एजेंसी के संवाददाता टुगसेनुर यिलमाज ने बताया, आतंकवाद धार्मिक आड़ में है ,जो पूरी दुनिया का दुश्मन है ।चीन द्वार इस तरह उपाय स्वीकार कर उग्रवाद दूर करने का परिणाम अच्छा है और इसकी उपलब्धि से उत्साहित है ।

कौशल प्रशिक्षण केन्द्र में छात्रों के इच्छा और वर्तमान बाज़ार की ज़रूरत के अनुसार विभिन्न प्रशिक्षण विषय मौजूद हैं । यहां का दौरा करने के बाद बांग्लादेश के संवाददाता शिहाबुर राहमान ने बताया ,कानूनी ज्ञान सीखने के अलावा महत्वपूर्ण बात है कि वे यहां कौशल सीख सकते हैं ताकि समाज में जीवन का गुजारा कर सकें । इससे जीवन और भविष्य के प्रति उनकी आशा और विश्वास पैदा होगा । वे सामान्य पटरी पर लौटेंगे ।

श्रीलंका के लंकादीप अख़बार के संवाददाता सानदुन गामाग ने बताया,मुझे महसूस हुआ कि यहां के छात्र सुखमय जीवन बिता रहे हैं ।मैंने कुछ छात्रों के साथ विचारों का आदान-प्रदान किया ।उनको अपने भविष्य की योजना भी है और लक्ष्य भी ।मुझे विश्वास है कि वे अपने लक्ष्य की ओर बढ़ रहे हैं ।मुझे विश्वास भी है कि उनका भविष्य अधिक सुंदर होगा।

 विदेशी संवाददाताओं की शिनच्यांग के पेशेवर प्रशिक्षण केंद्र की यात्रा

विदेशी संवाददाताओं की शिनच्यांग के पेशेवर प्रशिक्षण केंद्र की यात्रा

आतंकवाद पर प्रहार करना और उग्रवाद दूर करना एक वैश्विक कठिन सवाल है ।प्रतिनिधि मंडल के सदस्यों ने कहा कि शिनच्यांग में प्रशिक्षण केंद्र का नमूना चीन से प्रस्तुत चीनी योजना है ,जो सीखने के योग्य है ।अफगानिस्तान के कांधार ओर्बैंड के प्रधान संपादक अब्दुल अमिरी ने बताया ,अफगानिस्तान में अक्सर आतंकवादी हमला पैदा होता है । अगर अफगानिस्तान चीन का अनुभव सीखकर ऐसा प्रशिक्षण केंद्र स्थापित करे और आतंकवादी हमला रचने के लोगों के विचारों को बदले ,मुझे विश्वास है कि कुछ समय के बाद अफगानिस्तान की स्थिति में कुछ सुधार आएगा।

मिस्र की पत्रिका अल्-अहराम एक्टासदी के संपादक सामिया मानसोर ने बताया ,यह बहुत अच्छी कार्रवाई है । अन्य देशों को इससे सीखना चाहिए खासकर अभी अभी उग्रवादी विचारों से प्रभावित लोगों के प्रति । इस तरीके से उनको बचाया जा सकता है।

(वेइतुंग)

शेयर

सबसे लोकप्रिय

Related stories