चीन के थ्येन कुंग 2 अंतरिक्ष स्टेशन से बड़ी उपलब्धियां मिलीं

2018-12-23 15:30:25
Comment
शेयर
शेयर Close
Messenger Messenger Pinterest LinkedIn

चीन के थ्येन कुंग 2 अंतरिक्ष स्टेशन से बड़ी उपलब्धियां मिलीं

चीन के थ्येन कुंग 2 अंतरिक्ष स्टेशन से बड़ी उपलब्धियां मिलीं

सही मायने में चीन का पहला अंतरिक्ष परीक्षात्मक स्टेशन थ्येन कुंग नंबर 2 अंतरिक्ष कक्षा में उसने अपने दो साल पूरे किये हैं। इस दौरान प्रचुर वैज्ञानिक और तकनीकी उपलब्धियां मिली हैं, खासकर भू-सर्वेक्षण क्षेत्र में बड़ी प्रगति हासिल हुई है। चीनी समानव अंतरिक्ष उड्डयन परियोजना और अंतरिक्ष इस्तेमाल व्यवस्था का अंतरराष्ट्रीय प्रभाव काफी हद तक बढ़ा है।

15 सितंबर 2016 को थ्येन कुंग 2 का सफल प्रक्षेपण किया गया था और अब तक वो स्थिरता से 800 से अधिक दिन से काम कर रहा है। उसने बड़ी संख्या वाले अंतरिक्ष विज्ञान और इस्तेमाल के आंकड़े और प्रचुर इस्तेमाल में उपलब्धियां प्राप्त की हैं, जिसने भावी स्पेस स्टेशन के कार्य अनुभव इकट्ठा किये हैं। 18 दिसंबर को पेइचिंग में आयोजित थ्येन कुंग नंबर 2 भू-प्रेक्षण इस्तेमाल करने वालों की महासभा पर चीनी विज्ञान अकादमी के ऐप्लिकेशन इंजीनियरिंग और तकनीकी केंद्र की निदेशक काओ मिंग ने बताया कि थ्येन कुंग नंबर 2 ने पृथ्वी प्रेक्षण और नयी अंतरिक्ष तकनीकों के इस्तेमाल में 20 से अधिक परीक्षाएं चलायीं और निर्धारित विभिन्न उड़ान परीक्षाएं पूरी कीं और बहुत सी एप्लिकेशन उपलब्धियां प्राप्त कीं। इसमें भू-प्रेक्षण क्षेत्र में बड़ी प्रगति मिली है।

चीन के थ्येन कुंग 2 अंतरिक्ष स्टेशन से बड़ी उपलब्धियां मिलीं

चीन के थ्येन कुंग 2 अंतरिक्ष स्टेशन से बड़ी उपलब्धियां मिलीं

उन्होंने बताया ,भू-प्रेक्षण क्षेत्र में थ्येन कुंग नंबर 2 ने उच्च तकनीक वाले प्रेक्षण उपकरणों की नयी तकनीक व्यवस्था और कुंजीभूत तकनीक की परीक्षा की और सफलता पाई। संबंधित तकनीकी उपलब्धियां अब समुद्र उपग्रह और मौसम उपग्रह में इस्तेमाल की गई हैं। नयी तकनीक वाले प्रेक्षण उपकरणों के इस्तेमाल से भू-सर्वेक्षण के इस्तेमाल के दायरे का विस्तार हुआ है।

इधर कुछ सालों में चीन के अंतरिक्ष भू-सर्वेक्षण में उल्लेखनीय विकास हुआ है। रिमोट सेसिंग तकनीक व्यापक रूप से मौसम, समुद्र, बड़ी प्राकृतिक आपदा के निपटारे, कृषि, पर्यावरण संरक्षण और संसाधन नियोजन में इस्तेमाल की गई हैं, जिसने चीनी आर्थिक और सामाजिक विकास को मज़बूत समर्थन दिया है। चीनी समानव अंतरिक्ष उड्डयन परियोजना के सलाहकार और चीनी विज्ञान अकादमी के स्पेस एप्लिकेशन इंजीनियरिंग और तकनीक केंद्र के जानकार कू शी तुंग ने बताया ,

चीन के थ्येन कुंग 2 अंतरिक्ष स्टेशन से बड़ी उपलब्धियां मिलीं

चीन के थ्येन कुंग 2 अंतरिक्ष स्टेशन से बड़ी उपलब्धियां मिलीं

इस क्षेत्र में बड़ी शक्ति लगायी गयी है। अब भू-सर्वेक्षण उपग्रहों की संख्या का पैमाना और बड़ा है। हमने संपूर्ण उपग्रह एप्लिकेशन व्यवस्था स्थापित की है, जिसमें मौसम उपग्रह, समुद्र उपग्रह, पर्यावरण उपग्रह, भू संसाधन उपग्रह और इत्यादि हैं। प्रेक्षण के परिणाम उल्लेखनीय हैं। सारे उपग्रह खुद से बनाये गये हैं। चीन में रिमोट सेंसिंग उपग्रह तकनीक का आधार अच्छा है। हमारे देश में अब इस क्षेत्र में कार्यरताओं की संख्या 1 लाख है 30 हज़ार से अधिक महत्वपूर्ण लैब और केंद्र हैं। आम स्तर विश्व की प्रगतिशील पंक्ति में है।

थ्येनकुंग नंबर 2 के स्पेस विज्ञान और इस्तेमाल आंकड़ों का देसी विदेशी प्रभाव बढ़ाने के लिए चीनी विज्ञान अकादमी के स्पेस एप्लिकेशन इंजीनियरिंग और तकनीक केंद्र ने सक्रियता से आंकड़े इस्तेमाल करने का प्रोमोशन किया।

निदेशक काओ मिंग ने बताया, अब देश में इस्तेमालकर्ताओं की संख्या 61 है, जो मंत्रालयों, अनुसंधान संस्थाओं और उच्च शिक्षा संस्थाओं में बसी हुई है। पर्यावरण और मौसम, समुद्र और झील, आपदा निगरानी, कृषि और वन उद्योग में इन आंकड़ों का प्रयोग किया जाता है। इसके अलावा हम एक पट्टी एक मार्ग पर स्थित इलाकों, छिंगहाई तिब्बत पठार और मुख्य आर्थिक विकास क्षेत्रों में संबंधित इकाईयों के इस्तेमाल का समर्थन करते हैं।

अब चीनी समानव अंतरिक्ष उड्डयन परियोजना स्पेस स्टेशन के चरण में है, जिसने स्पेस विज्ञान और इस्तेमाल अनुसंधान का नया युग खोला है। अनुमान है कि चीनी स्टेस स्टेशन कक्षा में दस से अधिक साल तक संचालित रहेगा, जो कई विद्याओं की लगभग 1000 वैज्ञानिक अनुसंधान परियोजनाओं का समर्थन करेगा। इससे ढेर सारी वैज्ञानिक परीक्षाएं और संबंधिक आंकड़े पैदा होंगे। अकादमिशीयन कू यी तुंग ने बताया कि भविष्य में चीन को आंकडों के खुलेपन का विस्तार करना चाहिए, खुली और समावेशी नेटवर्किंग रिमोट सेंसिंग सेवा व्यवस्था स्थापित करनी चाहिए।

उन्होंने बताया, हमारा एक बहुत अहम सुझाव है कि आंकड़ों के खुलेपन का विस्तार कर एक खुली और समावेशी नेटवर्किंग रिमोट सेंसिंग व्यवस्था स्थापित की जाए ताकि विभिन्न आंकड़े और सेवा नेटवर्क के ज़रिये बह सकेंगे और खुले होंगे साथ ही रिमोट सेंसिंग इस्तेमाल देश के आर्थिक और सामाजिक विकास का स्तंभ बने।

(वेइतुंग)

शेयर

सबसे लोकप्रिय

Related stories