चीन-नेपाल सीमा पर चांग मू पोर्ट का पुनर्निमाण जोरों पर

2018-12-18 14:25:16
Comment
शेयर
शेयर Close
Messenger Messenger Pinterest LinkedIn

चीन-नेपाल सीमा पर चांग मू पोर्ट का पुनर्निमाण जोरों पर

चीन-नेपाल सीमा पर चांग मू पोर्ट का पुनर्निमाण जोरों पर

चांग मू पोर्ट चीन और नेपाल के बीच वस्तु परिवहन का सबसे महत्वपूर्ण थल मार्ग था ।लेकिन इधर के कुछ सालों में आयी प्राकृतिक आपदाओं से चांग मू पोर्ट अस्थाई तौर पर बंद हो गया ।नेपाली जनता चीनी मालों को बहुत पसंद करती है और नेपाली व्यापारी चांग मू पोर्ट के फिर से खुलने की प्रतीक्षा में हैं ।इस के मद्देनजर चीन सरकार ने इस साल नेपाली सरकार के साथ विचार विमर्श कर यथाशीघ्र ही चांग मू पोर्ट खोलने का फैसला किया ।चीनी रेलवे निर्माण कंपनी के 14वें ब्यूरो ग्रुप ने इस परियोजना की बिडिंग जीती ।हाल ही में हमारी संवाददाता ने निर्माण स्थल का दौरा किया ।

चांग मू पोर्ट में नेपाल के किनारे स्थित टाटोपानी सुरक्षा चौकी की नेपाल में आने-जाने वाले लोगों का वीजा और वस्तुओं की जांच करने की जिम्मेदार होती है ।चीन सरकार और नेपाली सरकार ने सितंबर 2009 में दस्तावेज पर हस्ताक्षर कर फैसला किया कि चीन सरकार नेपाली टाटोपानी सुरक्षा चौकी के निर्माण की सहायता करेगी । इस परियोजना का निर्माण 2012 में शुरू हुई, लेकिन वर्ष 2014 और 2016 में दो बार बड़ी बाढ़ आयी और वर्ष 2015 में हुई जबरदस्त भूकंप के कारण जांच स्टेशन के आसपास का भू-भौगोलिक पर्यावरण गंभीर रूप से बर्बाद हुआ एकमात्र मार्ग भी ठप्प हुआ ।यह परियोजना अस्थाई तौर पर बंद हुई और चांगमू पोर्ट भी बंद रहा ।

चीन-नेपाल सीमा पर चांग मू पोर्ट का पुनर्निमाण जोरों पर

चीन-नेपाल सीमा पर चांग मू पोर्ट का पुनर्निमाण जोरों पर

अब चीन और नेपाल के बीच सीमा व्यापार मुख्य तौर पर चिरोंग पोर्ट से चलता है और व्यापार रकम में बड़ी गिरावट आयी ।नेपाली जनता चीनी वस्तुओं को बहुत पसंद करती है ।कई नेपाली व्यापारियों की तीव्र इच्छा है कि चांगमू पोर्ट यथाशीघ्र ही खुलेगा ।25 वर्षीय आइटी शेरपा पहले अपने पति के साथ चांग मू कस्बे में एक मोबाइल फोन दुकान चलाती थी ।चांग मू पोर्ट बंद होने के बाद उनको पोर्ट के नेपाली किनारे में वापस लौटना पड़ा ।चांग मू की चर्चा में आइटी ने हमारे संवाददाता को बताया ,हम पोर्ट के फिर से खुलने की प्रतीक्षा में हैं । जितना जल्दी होगा , उतना अच्छा होगा ।तब हम फिर व्यापार कर सकेंगे और जल्दी से वस्तु ले सकेंगे ।अब अगर हम चीनी माल खरीदना चाहते हैं ,हमें काठमांडू जाना पड़ता है और कीमत भी महंगी है ।अगर यहां पोर्ट खुलता है ,तो हमें जल्दी से सस्ते चीनी माल मिलेंगे ।पोर्ट खुलने के बाद हम फिर चांग मू कस्बे जाकर दुकान खोलना चाहते हैं ।

चीन-नेपाल सीमा पर चांग मू पोर्ट का पुनर्निमाण जोरों पर

चीन-नेपाल सीमा पर चांग मू पोर्ट का पुनर्निमाण जोरों पर

नेपाली सरकार ने अनेक बार चीन सरकार से आशा व्यक्त की है कि टाटोपानी सुरक्षा चौकी का निर्माण जल्दी से बहाल किया जाएगा ताकि चांग मू पोर्ट यथाशीघ्र ही फिर से खुल सके और नेपाल में सामग्रियों की किल्लत को राहत मिल सके ।इस मार्च में चीन सरकार ने टाटोपानी सीमा सुरक्षा चौकी का निर्माण बहाल करने का फैसला किया ।चीनी वाणिज्य मंत्रालय ने चीनी रेलवे निर्माण कंपनी के 14वें ब्यूरो ग्रुप को इस परियोजना का बिडिंग सौंप दिया ।क्योंकि यह एक आपातकालीन सहायता परियोजना है ,चीनी रेलवे निर्माण कंपनी के 14वें ब्यूरो ग्रुप ने सिर्फ एक महीने से अधिक समय निर्माण की विभिन्न तैयारियां पूरी कीं ।30 अप्रैल को इस परियोजना का निर्माण शुरू हुआ ।इस परियोजना के जिम्मेदार 14वें ब्यूरो के अधिकारी यो चुंग हुआ ने बताया,इस परियोजना का क्षेत्रफल 42 हजार वर्गमीटर है और निर्माण क्षेत्रफल 6300 वर्गमीटर है ,जिस में कुल 10 स्वतंत्र इमारतें होंगी ।30 अप्रैल 2018 को निर्माण कार्य शुरू हुआ ।एक पूरी वर्षा ऋतु गुजरी ।वर्षा ऋतु में कई कठिनाइयां उत्पन्न हुई ।यहां काडमांडू से दूर है ।जरूरी सामग्री और मशीनरी उपकरण समय से पहले खरीदना है ।अगर रास्ता क्षतिग्रस्त हुआ ,हमें रास्ते की मरम्मत करनी है ताकि सामग्रियां समय पर आ सकतीं ।

जुलाई से सितंबर तक नेपाल की वर्षा ऋतु है ।निरंतर वर्षा ,बाढ़ और भू-स्खलन के खतरे के समक्ष टाटोपानी जांच स्टेशन के कर्मचारियों ने सिलसिलेवार कदम उठाकर निर्माण कार्य की गारंटी की ।61 वर्षीय यू मेइपिन ने दसेक देशों में काम किया था ।अब टाटोपानी जांच स्टेशन परियोजना के डाक्टर हैं ।वे लॉजिस्टिक्स और ऑफिस के काम पर भी जिम्मेदार हैं ।नेपाल में वर्षा ऋतु में निर्माण कार्य की चर्चा करते हुए उन्होंने बताया ,

चीन-नेपाल सीमा पर चांग मू पोर्ट का पुनर्निमाण जोरों पर

चीन-नेपाल सीमा पर चांग मू पोर्ट का पुनर्निमाण जोरों पर

वर्षा ऋतु में मूसलाधार वर्षा हुई ।बाढ़ दो या तीन मीटर ऊंची थी ,जो भयानक थी ।मैं बहुत देश गया था ।यह पहली बार है कि बरसाती कोट पहने हुए काम करना और वर्षा में खाना पहुंचाना था ।हम कभी कभी शिफ्ट में खाना खाते थे ,लेकिन निर्माण कार्य एक दिन नहीं रुका ।

परिचय के अनुसार कई नेपाली कर्मचारी भी निर्माण कार्य में भाग लेते हैं ।बहुत से चीनी और नेपाली कर्मचारी अच्छे दोस्त बन गये हैं ।नेपाली युवक मिलान शेरपा वर्ष 2014 से 14वें ब्यूरो में काम करने लगे ।चीनी कंपनी में काम करने के अनुभव की चर्चा करते हुए मिलान ने बताया ,हमारे यहां हर महीने की 7 तारीख को वेतन दी जाती है ।चीनी कंपनी कभी भी वेतन नहीं टालती ।वे बहुत विश्वसनीय हैं ।चीनी दोस्तों ने हमें बहुत सिखाया ।मेरी तकनीक और भाषा में बड़ी प्रगति हुई है और वेतन भी बढ़ गया है ।टाटोपानी सुरक्षा चौकी के निर्माण के साथ चांग मू पोर्ट फिर खुलने का दिन करीब आ रहा है ।उस समय पोर्ट के दोनों किनारे पर फिर कोलाहल और समृद्ध दृश्य दिखाया जाएगा ।14वें ब्यूरो के यो चुंग हुआ ने पक्का विश्वास के साथ बताया ,हम समय पर गुणवत्ता के साथ यह परियोजना पूरा करेंगे और चीन नेपाल संपर्क बढ़ाने की पूरी कोशिश करेंगे और एक पट्टी एक मार्ग निर्माण के लिए योगदान देंगे ।

(वेइतुंग)

शेयर

सबसे लोकप्रिय

Related stories