चीनी ड्रोन व्यवस्था विश्व में अग्रसर

2018-11-12 15:29:17
Comment
शेयर
शेयर Close
Messenger Messenger Pinterest LinkedIn

चीनी ड्रोन व्यवस्था विश्व में अग्रसर

चीनी ड्रोन व्यवस्था विश्व में अग्रसर

12वीं चाइना इंटरनेशनल एविएशन एंड एरोस्पेस प्रदर्शनी 6 से 11 नवंबर तक दक्षिण चीन के चू हाई शहर में आयोजित हुई ।मानव रहित विमान यानी ड्रोन उत्पाद इस प्रदर्शनी में एक ज्वलंत बिंदु बना ।विशेषज्ञों के विचार में मानव रहित विमान व्यवस्था वर्तमान विश्व उड्डयन उद्योग में सबसे जीवंत क्षेत्र है और उस के विकास की व्यापक संभावना है।अब चीन की मानव रहित विमान व्यवस्था विश्व की पहली पंक्ति में दाखिल हो चुकी है और चीनी ड्रोन के निर्यात की संख्या विश्व में अग्रसर है।

इस बार के चू हाई एयरशो में मानव रहित विमान आकर्षण का केंद्र रहे ।चीनी जहाज निर्माण ग्रुप की समुद्री और हवाई साजो सामान कंपनी ने कई किस्मों के निश्चित और चक्रीय पंखे वाले मानव रहित विमान प्रदर्शित किये ।इस कंपनी के परीक्षा गारंटी केंद्र के उप निदेशक हान श्योलोंग ने बताया कि उन से विकसित समुद्री ड्रोन वापसी व्यवस्था प्रभावी रूप से ड्रोन के समुद्री इस्तेमाल में मौजूद कठिनाइयों को दूर कर सकती है ।उन्होंने बताया,चीन में समुद्री ड्रोन का बहुत बड़ा बाजार है ।सैन्य और नागरिक इस्तेमाल दोनों का उज्जवल भविषय है ।हमारे अधिकांश विमानों को टेक ऑफ रन की जरूरत नहीं है । वे कटपुलट टेक ऑफ करते हैं ।वापसी में हम छतरी ,हुक या अन्य उपकरणों का प्रयोग करते हैं। ऐसे में एयरक्राफ्ट ग्लाइड की जरूरत नहीं होती ।

चीनी ड्रोन व्यवस्था विश्व में अग्रसर

चीनी ड्रोन व्यवस्था विश्व में अग्रसर

सिगनल हस्तक्षेप के प्रति चीनी इलेक्ट्रोनिक टेकनॉलॉजी ग्रुप ने माइक्रो टोही विमान फ्लीट व्यवस्था दिखायी ।ड्रोन में उच्च तकनीक वाली दूर संचार व्यवस्था लगायी गयी है ।बीस ड्रोनों से गठित फ्लीट एक साथ उड़ती है और उन को हस्तक्षेप से बचकर कार्य पूरा करने की मजबूत क्षमता है ।चीनी इलेक्ट्रोनिक टेकनॉलॉजी ग्रुप के अनुसंधान केंद्र के इंजीनियर यांग त्सू छांग ने बताया,उड़ते समय ड्रोन ग्रुप खुद योजना बना सकता है और जमीनी नियंत्रण की जरूरत नहीं होती ।जमीनी स्टेशन और ड्रोन के बीच संपर्क ठप्प होने के बाद भी उड़ान कार्य पर खास प्रभाव नहीं पड़ता ,जो टोही कार्य को गारंटी प्रदान करता है ।भविष्य में अगर जीपीएस पर हस्तक्षेप हुआ  और सिर्फ एक ही विमान अपना पोजिशन का पता लगाता है ,तो पारस्परिक पोजिशन के संबंधों के आधार पर गणित कर बाकी विमानों को अपने पोजिशन का पता चल जाएगा। कार्य पूरा करने को सुनिश्चित किया जा सकेगा ।

चीनी ड्रोन व्यवस्था विश्व में अग्रसर

चीनी ड्रोन व्यवस्था विश्व में अग्रसर

इंद्रधनुष 7 ड्रोन पहली बार प्रदर्शित हुआ ,जो इस मेले का स्टार है ।वह ऊंचे आकाश में  लंबी दूरी तक उड़ सकता है और स्टेल्थ तकनीक से लैस सबसॉनिक विमान है ।वह अत्यंत खतरनाक वातावरण में टोही कार्य ,हवाई भेदी कार्य और हवाई लड़ाई में सहायता कार्य पूरा कर सकता है ।चीनी एरोस्पेस ग्रुप के इंद्रधनुष ड्रोन के प्रमुख इंजीनियर शी वेन ने हमारे संवाददाता को बताया कि यह स्टेल्थ ड्रोन दो साल के अंदर प्रथम उड़ान भरेगा और संबंधित परीक्षाएं पास करेगा ।उन्होंने बताया,मध्यम और ऊंची तीव्रता वाले युद्ध में लंबी उड़ान ,निरंतर निगरानी और ऊंचे आकाश में सबसॉनिक स्टेल्थ ड्रोन की आवश्यकता होती है ।इस के साथ ही उसे कुछ हद तक प्रहार करने की क्षमता भी होनी चाहिए ।उस की स्टेल्थ तकनीक एक बहुत जटिल व्यवस्था है। अगले एक या दो साल में वह पहली उड़ान भरेगा और जल्दी से इस्तेमाल में प्रयोग किया जाएगा ।

बताया जाता है कि टोही और प्रहार करने वाले इंद्र धनुष श्रृंखला ड्रोन उत्पादों का निर्यात चीन में सब से बड़ा है ,जो दस से अधिक देशों व क्षेत्रों में बेचे गये हैं ।

इस एयरोस्पेस मेले के दौरान चीनी एयरोस्पेस उद्योग ग्रुप ने चीन की पहली मानव रहित विमान व्यवस्था का विकास श्वेत पत्र जारी किया ।इस में कहा गया कि विश्व ड्रोन व्यवस्थाओं का सालाना उत्पादन मूल्य 15 अरब अमेरिकी डॉलर है। जिस में निवेश का पैमाना बीस साल के पहले 30 गुणे अधिक बढ़ा ।चीनी ड्रोन व्यवस्था सृजनात्मक विकास के नये दौर से गुजर रही है ।चीनी एयरो स्पेस उद्योग के प्रमुख ड्रोन पाइलट ले चुन ने बताया,चीनी ड्रोन विकास की शुरुआत जल्दी नहीं थी ,लेकिन वैज्ञानिकों और तकनीशियनों की अथक कोशिशों से अब चीन विश्व के ड्रोन का सब से बड़ा निर्यातक देश है ।इस क्षेत्र में चीन के उत्पादन की मात्रा अमेरिका के बराबर है ,जबकि चीन की तकनीक इजरायल के बराबर है ,जो पहली पंक्ति में है ।

चीनी ड्रोन व्यवस्था विश्व में अग्रसर

चीनी ड्रोन व्यवस्था विश्व में अग्रसर

इस श्वेत पत्र में अनुमान लगाया गया कि अगले दस साल में विश्व में ड्रोन व्यवसाय की सालाना वृद्धि दर 20 प्रतिशत से अधिक होगी और कुल उत्पादन मूल्य 4 खरब अमेरिकी डॉलर होगा ।इस के अलावा वह विशाल सहायक व्यवसाय और सेवा उद्योग प्रेरित करेगा ।श्वेत पत्र में सुझाव दिया गया कि चीन को स्वतंत्रता , सृजन और सैन्य नागरिक मिश्रण ,खुला और सहयोग जैसी अवधारणा को अपनाकर इस व्यवसाय के स्वस्थ विकास को बढ़ाना चाहिए ।

इस क्षेत्र के विशेषज्ञों की नजर में मापदंड बनाने का मौका पकड़ना ड्रोन व्यवसाय के विकास के लिए अत्यंत महत्वपूर्णं है ।चीनी एयरोस्पेस तकनीक अनुसंधान केंद्र के उप प्रमुख इंजीनियर और अंतरराष्ट्रीय ड्रोन व्यवस्था मापदंड मानक संघ के कार्यवाही महासचिव शू चन च्ये ने बताया कि चीन सक्रियता से ड्रोन से जुड़े अंतरराष्ट्रीय मापदंड बनाने में लगा है ।उन्होंने बताया,वाणिज्यिक समाज में मापदंड तरीका है ।अगर आप को मापदंड बनाने का अधिकार है ,तो भविष्य में आप औद्योगिक विकास और तकनीकी प्रगति में पहल कदमी अपने हाथ में लेंगे ।तकनीकी तैयारी में अन्य देशों से हमारा लाभ है ।इस संदर्भ में हम सक्रियता से आवेदन कर रहे हैं और अंतरराष्ट्रीय मापदंड बनाने में अपनी आवाज बुलंद कर रहे हैं ।

(वेइतुंग) 

शेयर

सबसे लोकप्रिय

Related stories