मिस्र में“चीनी फिल्म प्रदर्शनी”आयोजित

2018-09-20 15:45:33
Comment
शेयर
शेयर Close
Messenger Messenger Pinterest LinkedIn
1/14
मिस्री संस्कृति मंत्रालय के महासचिव सईद मिसेरी भाषण देते हुए

मिस्र में चीनी फिल्मों की प्रदर्शनी 16 से 20 सितंबर तक मिस्र की राजधानी काहिरा और अलेक्जेंड्रिया दो शहरों में हुई, इसी दौरान《लांग थूथेंग》यानी《वुल्फ टोटेम》समेत पाँच फिल्मों का प्रदर्शन हुआ, जिन्हें स्थानीय लोगों ने काफी सराहया। 

फिल्म“वुल्फ़ टोटेम”इसी नाम के उपन्यास पर आधारित है, जिसमें पिछली शताब्दी के 60 और 70 के दशकों में पेइचिंग के एक युवा भीतरी मंगोलिया स्वायत्त प्रदेश के घास-मैदान में आकर स्थानीय घुमंतू मंगोलियाई जातीय लोगों और घास के मैदान में भेड़ियों के साथ हुई कहानी सुनाई गई। घास के मैदान में भेड़िये और घुमंतू जाति के लोग एक दूसरे पर निर्भर रहते हैं। इस फिल्म के निदेशक फ्रांसीसी फिल्म डायरेक्टर जीन जैक्स अन्नाद (Jean Jacques Annaud) है, और यह फिल्म चीन और फ्रांस की संयुक्त फिल्म रचना है।     

मौजूदा चीनी फिल्म प्रदर्शनी का आयोजन मिस्र के संस्कृति मंत्रालय के सांस्कृतिक विकास कोष, काहिरा चीनी संस्कृति केंद्र और चीनी फिल्म ग्रूप कंपनी के संयुक्त तत्वावधान में हुआ। 16 सितम्बर की रात को इसके उद्घाटन समारोह में मिस्र स्थित चीनी उप राजदूत ल्यू योंगफंग, काहिरा चीनी संस्कृति केंद्र के प्रधान श य्वेवन, चीनी फिल्म प्रतिनिधि मंडल के अध्यक्ष, चीनी फिल्म ग्रुप कंपनी के बोर्ड अध्यक्ष च्याओ होंगफेंग, मिस्री संस्कृति मंत्रालय के महासचिव सईद मिसेरी, मिस्री संस्कृति मंत्रालय के सांस्कृतिक विकास कोष के अध्यक्ष फ़तह अब्देल वहाब और मिस्र के विभिन्न जगत के लोगों और स्थानीय दर्शकों समेत करीब 200 लोगों ने इसमें भाग लिया और चीनी फिल्म का मज़ा लिया।  

उप राजदूत ल्यू योंगफ़ंग ने भाषण देते हुए कहा कि सांस्कृतिक और कलात्मक आदान-प्रदान चीन और मिस्र के बीच स्थापित व्यापक रणनीतिक साझेदारी संबंध का एक भाग है। उन्हें आशा कि मौजूदा फिल्म प्रदर्शनी से अधिक मिस्री नागरिक चीन की ज्यादा समझ ले सकेंगे।

वहीं चीनी फिल्म ग्रुप कंपनी के बोर्ड अध्यक्ष च्याओ होंगफ़ेंग ने कहा कि इधर के वर्षों में चीनी फिल्म उद्योग का तेज़ विकास हो रहा है। साल 2017 में चीनी फिल्म बॉक्स ओफिस की आय 8 अरब 60 करोड़ अमेरिकी डॉलर तक पहुंच गई। चीनी फिल्म स्क्रीन की संख्या विश्व में पहले स्थान पर है। चीन और मिस्र के बीच सांस्कृतिक मानविकी आदान-प्रदान के अहम भाग के रूप में चीनी फिल्म मिस्र के नागरिकों के चीन की जानकारी हासिल करने का अच्छा तरीका है। बोर्ड अध्यक्ष च्याओ होंगफ़ेंग का कहना है:“मौजूदा फिल्म प्रदर्शनी के दौरान हम पाँच फिल्में लेकर आए हैं, जो वर्तमान चीनी फिल्म रचनाओं और फिल्म निर्माण के तकनीकी स्तर का प्रतिनिधित्व करते हैं। फिल्मों में व्यापक दृष्टि से चीन का सामाजिक विकास, श्रेष्ठ चीनी संस्कृति और आम चीनी लोगों का जीवन और उनकी भावनाएं आदि प्रदर्शित की गई हैं। आशा है कि इनके माध्यम से मिस्र के नागरिकों को चीनी फिल्म, चीन की संस्कृति के प्रति अधिक समझ और जानकारी बढ़ेगी। ताकि दोनों देशों की जनता के बीच आपसी समझ और संपर्क मजबूत हो सके।”

मिस्री संस्कृति मंत्रालय के महासचिव सईद मिसेरी ने कहा कि अभी मिस्र अपने देश में खुलेपन को सक्रिय रूप से आगे बढ़ा रहा है और चीन के साथ आदान-प्रदान करना चाहता है। उन्हें आशा है कि इस फिल्म प्रदर्शनी के माध्यम से चीन के साथ विभिन्न पक्षों में आदान-प्रदान का संवर्धन होगा और साथ ही साथ मिस्र में फिल्म उद्योग के विकास को भी आगे बढ़ाया जा सकेगा। सईद मिसेरी ने कहा:“फिल्म न केवल संस्कृति का प्रसार कर सकती है, बल्कि एक देश के आर्थिक विकास की स्थिति भी प्रदर्शित कर सकती है। हमें आशा है कि इस प्रकार की गतिविधि के आयोजन से मिस्र में फिल्म विकास का संवर्धन मिलेगा। उम्मीद है कि भविष्य में हमारे देश में चीनी सामाजिक विषय से जुड़ी अधिक से अधिक फिल्म दिखाई जाएंगी।” 

मिस्री संस्कृति मंत्रालय के सांस्कृतिक विकास कोष के अध्यक्ष फ़तह अब्देल वहाब ने कहा कि चीन का फिल्म निर्माण वैश्विक अग्रिम स्तर पर रहा है। आशा है कि काहिरा और अलेक्जेंड्रिया दोनों शहरों के अलावा, भविष्य में मिस्र के दूसरे शहरों में भी इस प्रकार की गतिविधियां आयोजित की जाएंगी।

मिस्र में आयोजित मौजूदा चीनी फिल्म प्रदर्शनी के दौरान“वुल्फ़ टोटेम”के अलावा, जैकी चेन द्वारा अभिनित एक्शन फिल्म“ड्रैगन ब्लेड (Dragon Blade)”, कूंफ़ू फिल्म“ब्रदरहुड ऑफ ब्लेड्स (Brotherhood of Blades)”, बाल फिल्म“श्वानफंग न्युत्वे (हवा की भांति दौड़)”और 3डी एनिमेटेड फिल्म“वानर राजा: हीरो की वापसी (Monkey King: Hero Is Back)”शामिल हुईं।

अभी आप सुन रहे हैं जैकी चेन की फिल्म“ड्रैगन ब्लेड”का ट्रेलर। फिल्म वास्तिविक ऐतिहासिक कहानी के आधार पर है, जिसमें पश्चिमी हान राजवंश के दौरान रेशम मार्ग पर शांति की रक्षा करने वालों की कहानी सुनाई गई है। 

मिस्र चीनी फिल्म प्रदर्शनी में प्रदर्शित चीनी कूंफ़ू फिल्म“ब्रदरहुड ऑफ ब्लेड्स”में मिंग राजवंश के अंत में एक शाही षड़यंत्र पर आधारित एक कहानी सुनाई गई है। बाल फिल्म“श्वानफंग न्युत्वे”यानी हवा की भांति दौड़ एक सच्ची कहानी पर आधारित है। कहानी इस प्रकार है:“सबसे सुन्दर ग्रामीण शिक्षक”के नाम से सम्मानित एक फुटबॉल कोच दक्षिण चीन के हाईनान प्रांत के एक मीडिल स्कूल में आया। उन्होंने ग्रामीण क्षेत्र में फटबॉल से कोई संपर्क न होने वाली लड़कियों को इकट्ठा करके एक फूटबॉल टीम स्थापित की। कई विफलता मिली, लेकिन टीम में लड़कियों ने बड़ी मेहनत के साथ अभ्यास किया। अंत में वे अपनी बंद दुनिया से बाहर निकल कर आईं, और दुनिया को अपनी कुशलता दिखाई। 

3डी एनिमेटेड फिल्म“वानर राजा: हीरो की वापसी (Monkey King: Hero Is Back)”चीनी पारंपरिक पौराणिक कहानी पश्चिम की तीर्थ यात्रा पर आधारित है, जिसमें वानर और बालावस्था में थांग भिक्षु के बीच हुई साहसिक घटना को प्रदर्शित किया गया है।

ये पाँचों फिल्में वर्तमान चीन में फिल्म निर्माता और तकनीक स्तर का प्रतिनिधित्व करते हैं। मिस्र के दर्शक चीनी फिल्मों से परिचित हैं। काहिरा विश्वविद्यालय में पढ़ रही एक छात्रा ने कहा कि इन पाँच फिल्मों में उसे वुल्फ़ टोटेम देखने की बड़ी उत्सुकता है। चीनी फिल्म और संस्कृति के प्रति उन्हें बड़ी रूचि है। इस विद्यार्थी ने कहा:“मैं अधिक चीनी संस्कृति जानना चाहती हूं। मिस्र और चीन प्राचीन सभ्यता वाले देश हैं। दोनों की संस्कृति मिलती-जुलती है। इसी आधार पर मैं चीन की अधिक जानकारी लेना चाहती हूँ।”

शेयर