चीन मालदीव मित्रता पुल खुला

2018-09-05 14:15:43
Comment
शेयर
शेयर Close
Messenger Messenger Pinterest LinkedIn

चीन मालदीव मित्रता पुल खुला

चीन मालदीव मित्रता पुल खुला

हिंद महासागर में स्थित मालदीव एक मनमोहक पर्यटन स्थल है। विशिष्ट भौगोलिक स्थिति का लाभ उठाकर वहां का पर्यटन उद्योग समृद्ध रहता है। लेकिन हजारों वर्षों में मालदीव के विभन्न द्वीपों के बीच आना जाना मुख्य तौर पर नावों पर निर्भर रहता था, जो देश के विकास के लिए एक बड़ी बाधा है। स्थानीय जनता का लंबे समय से एक सपना था कि राजधानी माले द्वीप और हवाई अड्डे द्वीप को जोड़ने के लिये एक पुल बनाया जाए। 30 अगस्त की रात चीन की सहायता से बना चीन मालदीव मित्रता पुल खोला गया। मालदीव जनता की पीढ़ियों से पल रहा सपना साकार हो गया।

स्थानीय समयानुसार 30 अगस्त की रात साढ़े 8 बजे चीन की सहायता से बने चीन-मालदीव मित्रता पुल खुलने का समारोह धूमधाम से आयोजित हुआ। माले द्वीप पर दीपों की रोशनी से चमक दी जा रही थी और आतिशबाजी छोड़ी जा रही थी। विशाल चीन-मालदीव मित्रता पुल समुद्र की लहरों के ऊपर पार करता है। ब्रिज हेड पर चीन और मालदीव के राष्ट्रीय झंडे हवा में फहरा रहे थे। हजारों स्थानीय लोग वाहवाही करते हुए इस ऐतिहासिक दृश्य देख रहे थे। इसके अलावा मालदीव के सरकारी टी वी स्टेशन ने इस शानदार इवेंट का आंखों देखा हाल प्रसारित किया।

चीन मालदीव मित्रता पुल खुला

चीन मालदीव मित्रता पुल खुला

दोनों सरकारों के प्रतिनिधियों ,पुल के निर्माताओं ,मालदीव के आम नागरिकों समेत 2000 से अधिक लोग रस्म में उपस्थित हुए। मालदीव के राष्ट्रपति अब्दुल्ला यामीन और चीन सरकार के प्रतिनिधि और राजकीय अंतररष्ट्रीय विकास और सहयोग संस्था के प्रमुख वांग श्यो थो ने एक साथ पुल का शुभारंभ किया। वांग श्यो थो ने अपने भाषण में बताया ,चीन-मालदीव मित्रता पुल मालदीव का पहला समुद्र पारीय पुल है, जिसने मालदीव की जनता का लंबे समय का सपना पूरा किया है। यह पुल न सिर्फ मालदीव के दो द्वीपों को जोड़ता है ,बल्कि दोनों देशों की जनता की साथ साथ समृद्धि की ओर बढ़ने की ख्वाहिशों को जोड़ता है। वह नये काल में चीन मालदीव मित्रता का प्रतीक बनेगा।

वर्ष 2014 में चीनी राष्ट्रपति शी चिनफिंग की मालदीव यात्रा के  दौरान दोनों पक्षों के नेताओं ने सलाह मशविरे से चीन की सहायता में यह विशाल पुल बनाने का फैसला किया। वह 21वीं समुद्रीय रेशम मार्ग की एक महत्वपूर्ण प्रतीकात्मक परियोजना है और एक पट्टी एक मार्ग प्रस्ताव के कार्यांवयन में सबसे पहले शुरू की जाने वाली बड़ी ढांचागत संस्थापन परियोजना भी है। इस पुल के निर्माण से माले द्वीप में रहने और यातायात की स्थिति में सुधार आएगा और मालदीव के भावी आर्थिक विकास को भी बढ़ावा मिलेगा ।मालदीव के राष्ट्रपति यामीन ने बताया कि यह पुल खुलने का प्रतीक है कि मालदीव जनता की पीढियों का सपना साकार हुआ है।

उन्होंने बताया, आज रात हम मालदीव जनता के एक नये युग के आगमन को मना रहे हैं। इस नये युग में हमारा जीवन अधिक सुंदर होगा। यह पुल खुलने को देखकर हमारे दिल में खुशी और उमंग भरी हुई है, क्योंकि हमारा सपना पूरा हुआ है। मालदीव की जनता लंबी अवधि से इस पुल को पार करने का इंतजार करती थी ताकि भविष्य की भूमि में दाखिल हो सके। हमें उम्मीद है कि हमारी संतानों का एक अधिक स्थिर और निश्चित सुनहरा भविष्य होगा।

चीन मालदीव मित्रता पुल खुला

चीन मालदीव मित्रता पुल खुला

चीन मालदीव मित्रता पुल की कुल लंबाई दो किलोमीटर है और समुद्र पार करने के भाग की लंबाई 1390 मीटर है, जिसकी डिजाइन आयु 100 वर्ष की है। इस पुल के निर्माण में कई चुनौतियों का सामना करना पड़ा था ,जैसे गहरे समुद्र के मूंगा रीफ भूतत्व, गहरे जल के लांग पियरियड वेव और ऊंचे तापमान के नमकीन Corrosion ,पर्यावरण संरक्षण के ऊंचे मापदंड और इत्यादि। कई स्थानीय नागरिकों की नज़र में समुद्र पारीय पुल का निर्माण एक असंभव कार्य था। मारी उनमें से एक थी ।

उन्होंने बताया, समुद्री यातायात बहुत कठिन था। हुल्हुमेले में रहने वाले नागरिक अगर माले द्वीप पर काम करना चाहते थे, यातायात एक बड़ी समस्य़ा थी। सो हमारे लिए पुल का निर्माण बहुत महत्वपूर्ण था। यहां की लहरें मालदीव में सबसे तेज़ हैं और समुद्र बहुत गहरा है। समुद्री पानी में नमक है, जो इमारत को नुकसान पहुंचा सकता है ।इसलिए पुल का निर्माण एक बड़ी चुनौती थी ।सो हमें लगता था कि यहां पुल का निर्माण लगभग असंभव था।

पुल निर्माण के दौरान निर्माणकर्ताओं ने कई कठिनाईयां दूर कीं और डिज़ाइन और निर्माण में अनेक कुंजीभूत तकनीकों को महारत हासिल की ।पुल निर्माण कार्य व्यवस्थित रूप से चला।

चीन मालदीव मित्रता पुल खुला

चीन मालदीव मित्रता पुल खुला

पुल निर्माण शुरू होने के बाद निर्माण की गति स्थानीय नागरिकों का ध्यानाकर्षक बिंदु बन गया। नागरिकों और पर्यटकों की जिज्ञासा पूरी करने के लिए मालदीव सरकार ने विशेष तौर पर माले द्वीप पर एक दृश्य दर्शन मंच स्थापित किया, जिसपर टेलीस्कोप लगा है। हर दिन सुबह से रात तक मंच में दर्शकों की भरमार रहती है। कुछ नागरिक निर्माण के पहले दिन से फोटो खींचते रहे। स्थानीय नागरिक ऐनिटा ने बताया कि वे स्थानीय लोगों की तरह रोज़ काम पूरा कर यह दृश्य मंच आकर निर्माण की प्रगति देखती थी। पुल निर्माण पूरा होने का मतलब है कि स्थानीय नागरिकों की पीढ़ियों का सपना साकार हुआ है।

उन्होंने बताया, हमारे मालदीव के लोगों के लिए यह सपना पूरा हुआ है। बहुत समय से पहले हमने पुल निर्माण पर चर्चा की और सोचते थे कि यह असंभव बात थी। लेकिन चीनी कंपनी ने इसका निर्माण शुरू किया ।हमने देखा है कि दो साल में यह पुल सचमुच बन चुका है।

(वेइतुंग) 

शेयर

सबसे लोकप्रिय

Related stories