विश्व कप फुटबाल में चमकते चीनी तत्व

2018-07-03 14:51:29
Comment
शेयर
शेयर Close
Messenger Messenger Pinterest LinkedIn

विश्व कप फुटबाल में चमकते चीनी तत्व

विश्व कप फुटबाल में चमकते चीनी तत्व

वर्ष 2002 में चीनी फुटबाल टीम ने पहली बार फीफा विश्व कप के फाइनल दौर में प्रवेश किया। इसके बाद चीनी टीम दोबारा विश्व कप के फाइनल दौर में कभी नहीं पहुंच सकी, लेकिन चीनी तत्व विश्व कप के मंच पर कभी भी गैरहाजिर नहीं हुए। रूस विश्व कप में चीन में बने शुभंकर, फुटबॉल, स्मृति सिक्के समेत विभिन्न सोवेनियर, खासकर बड़ी संख्या वाले चीनी फुटबॉल प्रेमियों से वहां गहरा प्रभाव पड़ा।

विश्व कप के विशेष अनुमति वस्तुएं स्टॉलों में तरह तरह के स्मृति मालों में से अधिकांश मेड इन चाइना हैं। इसके अलावा विश्व कप के लिए बनाए गए दो नये स्टेडियमों के 60 से अधिक लिफ्टर चीन में बने हैं। रूसी अख़बार यूथ लीग सत्य के उप प्रमुख पॉवेल सादकोव ने सीआरआई के संवाददाता को बताया कि इधर कुछ साल चीनी अर्थव्यवस्था का बड़ा विकास हुआ है। मेड इन चाइना को पूरे विश्व में आदर मिला है। चीन विश्व का महत्वपूर्ण विनिर्माण केंद्र है।

विश्व कप फुटबाल में चमकते चीनी तत्व

विश्व कप फुटबाल में चमकते चीनी तत्व

उन्होंने बताया, रूस में मेड इन चाइना ने लोगों के दिल में घर किया है। स्थानीय लोगों के जीवन के हर कोने में चीनी उत्पाद नज़र आते हैं। चीनी उत्पादों की गुणवत्ता की मान्यता साल दर साल बढ़ रही है।

मेड इन चाइना के अलावा इस विश्व कप में व्यापक चीनी उद्यम स्पॉन्सर के रूप में भाग ले रहे हैं। रिपोर्ट के अनुसार चीनी उद्यमों ने इस विश्व कप के विज्ञापन में 80 करोड़ अमेरिकी डॉलर खर्च किया है, जिसकी संख्या पहले स्थान पर है। चीनी खेल समीक्षाकर्ता येन छ्यांग ने बताया कि यह निस्संदेह है कि विश्व कप एक विशाल प्रसारण मंच है, जिसका प्रभाव ग्रीष्म ओलंपिक से भी ज्यादा है।

उन्होंने बताया, चीनी उद्यमों का बाहर जाने और अंतरराष्ट्रीय मंच पर अधिक प्रभाव हासिल करने के लिए विश्व कप के मंच का प्रयोग करना एक बेहतर विकल्प है। इसके अलावा रूस चीन से सटा है और अच्छा संबंध भी रखता है। इस विश्व कप के प्रति चीनी उद्यमों का उत्साह अधिक ऊँचा है।

विश्व कप फुटबाल में चमकते चीनी तत्व

विश्व कप फुटबाल में चमकते चीनी तत्व

इस विश्व कप में कई चीनी बाल फुटबॉल खिलाड़ी दिखाये गये। उदाहरण के लिए इस विश्व कप के पहले मैच में दक्षिण पश्चिमी चीन के क्वी चो प्रांत के 6 बालकों ने अंतरराष्ट्रीय फुटबाल संघ के झंडे की रक्षा में स्टेटियम में प्रवेश किया। इस विश्व कप के पहले चीनी शिक्षा मंत्रालय और केंद्रीय सरकारी टीवी स्टेशन सीसीटीवी ने संयुक्त रूप से कौन हैं फुटबाल किंग नाम का कार्यक्रम आयोजित किया था, जिसमें 12 चीनी छोटे फुटबॉल किंग चुने गये ।ये 12 चीनी बालक सेंट पीटर्सबर्ग में आयोजित मैच में झंडे की सुरक्षा करेंगे। शांगहाई से आये शी यूशांग उनमें से एक हैं। वह पाँच साल की आयु से फुटबॉल सीखने लगे। अब 8 साल बीत चुके हैं। पहले वे सिर्फ टीवी पर विश्व कप फुटबाल देख सकते थे। अब वे स्थल पर मैच देख सकते हैं और झंडे की सुरक्षा भी करते हैं। इससे वे बहुत उत्साहित हैं।

उन्होंने बताया, मैं बहुत खुश हूं। मैंने कुछ दोस्त भी बनाये हैं। विश्व कप के स्टेडियम में खड़ा होना कितनी अच्छी बात है। मुझे आशा है कि बाद में मैं झंडे के रक्षक से एक खिलाड़ी बनूंगा और चीन की ओर चैंपियनशिप प्राप्त करूंगा।

विश्व कप फुटबाल में चमकते चीनी तत्व

विश्व कप फुटबाल में चमकते चीनी तत्व

आंकड़ों के अनुसार 40 हज़ार से अधिक चीनी फुटबॉल प्रेमियों ने रूस विश्व कप की टिकटें खरीदी हैं। रूसी मीडिया का अनुमान है कि विश्व कप के दौरान रूस आने वाले चीनी पर्यटकों की संख्या 40 हज़ार से काफी ज्यादा हैं। यूथ लीग सत्य अख़बार के उपप्रमुख संपादक सादकोव ने बताया  हालांकि चीनी फुटबाल टीम विश्व कप के मैदान में दिखाई नहीं दी, जो खेद की बात है । लेकिन फुटबाल के प्रति चीनी फुटबाल प्रेमियों का उत्साह और प्रेम अविस्मर्णीय है।

उन्होंने बताया, हमारे संवाददाता ने सेंट पीटर्सबर्ग में रिपोर्टिंग करते समय ध्यान दिया है कि बड़ी संख्या में चीनी फुटबाल प्रेमी वहां मौजूद हैं। विश्व कप पूरे विश्व के फुटबॉल प्रेमियों का त्योहार है। ऐसा अनुभव बहुत अच्छा है। खासकर चीनी फुटबॉल प्रेमियों की हिस्सेदारी की चेतना ऊंची है। वे अपनी समर्थक टीम का युनिफॉर्म पहनते हैं और उत्साह बढ़ाते हैं। लगता है कि वे न सिर्फ मैच देखते हैं, बल्कि फुटबॉल से प्रेम करते हैं और इसमें पूरी शक्ति डालते हैं।

(वेइतुंग) 

शेयर

सबसे लोकप्रिय

Related stories