चीनी क्लासिकल नाटक टी हाउस का 700वां प्रदर्शन हुआ

2018-06-28 15:17:41
Comment
शेयर
शेयर Close
Messenger Messenger Pinterest LinkedIn

चीनी क्लासिकल नाटक टी हाउस का 700वां प्रदर्शन हुआ

चीनी क्लासिकल नाटक टी हाउस का 700वां प्रदर्शन हुआ

16 जून को कैपिटल थिएटर में चीनी क्लासिकल नाटक टी हाउस का 700वां प्रदर्शन हुआ। पेइचिंग जन कला नाटकघर ने इसे मनाने के लिए उस दिन पूर्वाभ्यास हॉल में इस गतिविधि का आयोजन किया। नाटक टीम ने इस श्रेष्ठ नाटक के इतिहास और वर्तमान प्रभाव का सिंहावलोकन किया और उसे संभालने का संकल्प किया।

टी हाउस के हर दौर का प्रदर्शन चीनी नाटक प्रेमियों के लिए त्योहार जैसा है। एक टिकट भी पाना आसान बात नहीं है। इस साल 28 मई को टी हाउस की टिकट बिकने का पहला दिन था। पेइचिंग जन कला नाटकघर में टिकट खरीदने के लोगों की तांता सौ मीटर से अधिक लंबी का है। कुछ नाटक प्रेमी टिकट लेने के लिए पौ फटने के पहले वहां पहुंचे। उस दिन दोपहर बाद चार बजे सभी टिकटें बिक गयीं। मध्य चीन के हनान प्रांत से आयी श्रीमती लिन को सौभाग्य से दूसरे व्यक्ति द्वारा लौटाई गयी एक टिकट मिल गई।

उन्होंने हमारे संवाददाता को बताया, मैं हनान प्रांत से आयी हूं। इस मई की शुरूआत में मैंने टिकट ऑफिस को फोन किया था। उन्होंने बताया कि टिकट बिकना शुरू नहीं हुआ है। 28 मई को टिकट बिकना शुरू हुआ, लेकिन उस दिन सभी टिकटें बेची जा चुकी थीं। मुझे एक भी टिकट नहीं मिला। आज मैं विशेष तौर पर यहां आयी हूं और अपनी किस्मत आज़माना चाहती थी। सौभाग्य की बात है कि मुझे दूसरे द्वारा लौटायी गयी एक मिकट मिल गई। मैं सचमुच यह नाटक पसंद करती हूं। कास्ट टीम बहुत अच्छी है। मैं करीब करीब से इस नाटक का लुत्फ ले सकती हूं।

चीनी क्लासिकल नाटक टी हाउस का 700वां प्रदर्शन हुआ

चीनी क्लासिकल नाटक टी हाउस का 700वां प्रदर्शन हुआ

टी हाउस की पटकथा चीन के मशहूर लेखक लाओ श्ये द्वारा वर्ष 1956 में रची गयी। इस नाटक के तीन ऐक्ट्स हैं, जो पुराने पेइचिंग में यूथाई नाम के टी हाउस और उसके मालिक वांग लीफा और उनके ग्राहकों की कहानी है। इस नाटक में छिंग राज्यवंश के अंत, वॉरलॉर्ड युद्ध काल और नये चीन की स्थापना के पहले तीन कालों के सामाजिक परिवर्तन दिखाये हैं। 29 मार्च 1958 को टी हाउस का कैपिटल थिएटर में पहला प्रदर्शन हुआ। यू शीची, चंग रोंग, लान थ्येनये समेत चोटी स्तरों वाले कलाकारों ने इसमें अभिनय किया। पहली पीढ़ी वाले टी हाउस के प्रदर्शन से ही उसे व्यापक नाटक प्रेमियों की वाहवाही मिली। 16 जुलाई 1992 को टी हाउस के पहले संस्करण का अंतिम प्रदर्शन हुआ था।

लिन चोहुआ ने कला निर्देशक के रूप में ल्यान कुएंहुआ, फू छुनशी, यांग ली शिन जैसे अधेड़ आयु वाले ऐक्टरों का नेतृत्व कर फिर टी हाउस का प्रदर्शन प्रस्ततु किया। नाटक में थांग थ्ये चुइ का अभिनय करने वाले वू कांग ने टी हाउस को दोबारा स्टेज पर प्रस्तुत करने की याद करते हुए कहा, श्री यू शीची जैसे पहली पीढ़ी वाले अभिनेताओं द्वारा प्रदर्शन से संन्यास लेने के बाद टी हाउस बनाए रखा जाना था। तो थियेटर हाउस ने नयी टीम गठित करने का फैसला किया। मुझे याद है कि छोटे थिएटर में कास्ट की नामसूची घोषित की गयी थी। उस समय सभी ऐक्टर वहां इकट्ठा हुए थे कुछ खड़े थे, कुछ बैठे थे। सब नर्वस थे। मौहाल तनाव से भरा हुआ था। क्योंकि हरेक ऐक्टर इस क्लासिक नाटक में अभिनय करना चाहता था। यह नाटक हमारे दिल में पवित्र स्थान पर काबिज़ है। इसमें  भाग लेना अपने अभिनय की मान्यता है।

चीनी क्लासिकल नाटक टी हाउस का 700वां प्रदर्शन हुआ

चीनी क्लासिकल नाटक टी हाउस का 700वां प्रदर्शन हुआ

टी हाउस में मुख्य पात्र टीम हाउस के मालिक वांग लीफा के अभिनय करने वाले ल्यांग क्वांग हुआ ने बताया कि दसियों साल में टी हाउस के अभिनेता और स्टेज के पीछे के कर्मचारी इस नाटक के साथ साथ आगे बढ़े हैं।

उन्होंने बताया, मैंने 19वें साल तक टी हाउस में अभिनय किया है। आज 336वां प्रदर्शन है। पहली पीढ़ी वाले कलाकारों ने कुल 374 बार प्रदर्शन किया था। हमें और कोशिश करनी होगी। इतने ज्यादा लोग इस नाटक के लिए जवानी से ही इकट्ठे होकर अब तक इस का प्रदर्शन करते आ रहे हैं। यह सचमुच आसान नहीं है। मेरी आशा है कि बाद में और नये ऐक्टर इस नाटक में भाग लेंगे और इस श्रेष्ठ नाटक को संभालेंगे और 700 प्रदर्शन होंगे।

इस नाटक में हुआंग पांगची का अभिनय करने वाले युवा ऐक्टर पान चेन ने बताया, सबसे शुरू में मैंने इस नाटक में 6 छोटे छोटे पात्रों का अभिनय किया, जैसे भिखारी, अनाम ग्राहक, अनाम बदमाश, अनाम सिपाही। बाद में एक पुराने अभिनेता का देहांत हुआ। मैंने उनकी जगह लेकर हुआंग पांगची का अभिनय शुरू किया। रिहर्सल बहुत कठोर था। यहां तक कि शुरू में मैं रो पड़ा था। सीनियर ऐक्टर ने आलोचना की कि मैं अन्य ऐक्टरों से मेल नहीं खाता। रोने से काम नहीं चलता। रोने के बाद फिर अभ्यास करना था। रिहर्सल का समय ज्यादा नहीं था, तो मैं निजी समय में अभ्यास करता था। बार बार प्रदर्शन से मेरी प्रगति हुई।

चीनी क्लासिकल नाटक टी हाउस का 700वां प्रदर्शन हुआ

चीनी क्लासिकल नाटक टी हाउस का 700वां प्रदर्शन हुआ

60 साल के प्रदर्शन से ही टी हाउस नाटक प्रेमियों, खास कर युआओं के बीच लोकप्रिय होने का मुख्य कारण क्या है। इस सवाल के जवाब में ल्यांग क्वांग हुआ ने बताया, मुझे लगता है कि दो मुख्य कारण हैं। एक तरफ़ पुराने कलाकारों ने अच्छी नींव डाली। हम उनके कंधों पर खड़े होकर आगे चल रहे हैं। हम पुराने कलाकारों और दर्शकों की प्रतीक्षा पर खरे उतरे हैं। दूसरी तरफ वर्तमान में श्रेष्ठ नाटक थोड़ा कम है। इसलिए जब ऐसे क्लासिकल नाटक का प्रदर्शन होता है, तो दर्शकों की भीड़भाड़ नजर आती है।

पेइचिंग जन कला नाकटघर के युवा अभिनेता हैन छिंग की नज़र में आज तक टी हाउस सिर्फ एक नाटक नहीं है, वह पेइचिंग जन कला नाटकघर की भावना बन गयी है, जिसे संभाली जाने के योग्य है।

उन्होंने बताया,60 साल के संचय और बड़ी संख्या में लोगों की बुद्धि इस नाटक में प्रतिबिंबित है। टी हाउस में हमारे थिएटर की कई मूल्यवान चीजें निहित हैं।

(वेइतुंग) 

शेयर

सबसे लोकप्रिय

Related stories