5300 वर्ष से पहले चीन के विभिन्न क्षेत्र सभ्यता काल में दाखिल हुए

2018-06-04 15:43:17
Comment
शेयर
शेयर Close
Messenger Messenger Pinterest LinkedIn

5300 वर्ष से पहले चीन के विभिन्न क्षेत्र सभ्यता काल में दाखिल हुए

5300 वर्ष से पहले चीन के विभिन्न क्षेत्र सभ्यता काल में दाखिल हुए

चीन विश्व की चार बड़ी पुरानी सभ्यताओं में से एक है। चीनी सभ्यता की एक बड़ी विशेषता ये है कि वह विश्व में एकमात्र ही शुरू से अब तक लगातार चली आने वाली सभ्यता है। चीनी सभ्यता का उद्गम कब हुआ और कैसे ये बनी हुई है। ये रुचिकर सवाल हैं। हाल ही में चीन सरकार द्वारा आयोजित एक अध्ययन टीम ने 15 साल की कोशिशों के बाद देसी विदेशी मीडिया से अपनी उपलब्धियों को अवगत किया। इस अध्ययन कार्यक्रम का नाम है कि चीनी सभ्यता के उद्गम और आदि काल के विकास का चतुर्मुखी अनुसंधान। स्रोत की खोज कार्यक्रम की अध्ययन टीम के विचार में लगभग 5300 वर्ष से पहले चीन के विभिन्न क्षेत्र एक के बाद एक सभ्यता काल में दाखिल हुए और चीन की भूमि पर सभ्यता का जंगल बन गया। ये नये पुरातत्व के परिणाम चीन के मिडिल स्कूल के इतिहास पाठ्यक्रम में शामिल कराये जाएंगे। चीनी इतिहास की विशेषता के अनुसार चीनी अध्ययनकर्ताओं ने सभ्यता को परिभाषित करने वाले नये मापदंड प्रस्तुत किये, जो पश्चिमी देशों से अलग है।

एक राष्ट्रीय सांस्कृतिक परियोजना होने के नाते स्रोत की खोज कार्यक्रम में देश के लगभग 70 अनुसंधान संस्थाओं ,विश्वविद्यालयों और स्थानीय पुरातत्व संस्थाओं ने भाग लिया। इसके पीछे देश की चतुर्मुखी अनुसंधान शक्ति का समर्थन है। वर्ष 2001 से वर्ष 2016 तक चार चरणों में अनुसंधान पूरा किया गया है। चीनी राजकीय सांस्कृतिक अवशेष ब्यूरो के उपमहानिदेशक क्वेन छ्यांग ने बताया कि अब तक इस परियोजना में महत्वपूर्ण प्रगति मिली है।

5300 वर्ष से पहले चीन के विभिन्न क्षेत्र सभ्यता काल में दाखिल हुए

5300 वर्ष से पहले चीन के विभिन्न क्षेत्र सभ्यता काल में दाखिल हुए

उन्होंने बताया, सबसे पहले पुरातत्व साक्ष्यों से ये साबित हुआ है कि चीनी सभ्यता का इतिहास पाँच हजार वर्ष पुराना है। अध्ययन टीम के विचार में 5800 वर्ष पहले चीन के पीली नदी क्षेत्र ,यांगत्सी नदी के मध्य और निचले भाग के क्षेत्र और पश्चिमी ल्यो ह नदी के क्षेत्र में सभ्यता के उद्गम के आसार नज़र आये। 5300 वर्ष के पहले चीन के विभिन्न इलाकों ने लगातार सभ्यता काल में प्रवेश किया। 3800 वर्ष पहले मध्य चीन में अधिक परिपक्व सभ्यता बनी और चारों ओर फैल गयी, जो चीनी सभ्यता की प्रक्रिया में केंद्रीय और मार्गदर्शक भूमिका निभाती थी।

स्रोत की खोज परियोजना का उद्देश्य चीनी सभ्यता के बनने की प्रक्रिया और विभिन्न क्षेत्रों के सभ्यताओं के इंटर एक्शन का वर्णन करना है। बड़े पैमाने पर देश के विभिन्न क्षेत्रों में बसे प्राचीन सांस्कृति खंडहरों की खुदाई और पुरातत्व जांच से इसकी पुष्टि की गयी है कि चीनी सभ्यता की आम विशेषता है कि एकता में विविधता, समावेश और निरंतरता।

5300 वर्ष से पहले चीन के विभिन्न क्षेत्र सभ्यता काल में दाखिल हुए

5300 वर्ष से पहले चीन के विभिन्न क्षेत्र सभ्यता काल में दाखिल हुए

क्वांग छ्यांग ने बताया, अध्ययन से पता चला है कि चीनी सभ्यता के उद्गम और आदि काल में विभिन्न क्षेत्रों की संस्कृतियां अलग अलग थीं, जैसे पर्यावरण, आर्थिक विषय, सामाजिक संचालन व्यवस्था, धार्मिक और सामाजिक चेतना अलग अलग थी। लंबे समय तक पारस्परिक मेलजोल और आवाजाही से अंत में आरलीथो संस्कृति पैदा हुई, जो आदि काल की चीनी सभ्यता का केंद्र था। इसके बाद चीन के पहले तीन राजवंश श्या ,शांग चो की सभ्यता हुई।

पाँच हजार वर्ष पुराना चीनी सभ्यता साबित करने वाले ठोस सबूतों में त्यांगत्सी नदी के मध्य और निचले भाग में खोजी गई विश्व की सबसे पुरानी जल संरक्षण परियोजना, चीन का सब से पुराना महल भवन ,पीली नदी के मध्य भाग में पाया गया सबसे पुराना चीनी अक्षर, सबसे पुरानी वेधशाला और इत्यादि। पूर्वी चीन के चच्यांग प्रांत में स्थित ल्यांग चू धरोहर लगभग 5 हजार वर्ष के पहले बनी थी, जिसका पैमाना लगभग 1 करोड़ 20 लाख घन मीटर था। चीनी सामाजिक अकादमी के पुरातत्व अनुसंधान केंद्र के अध्ययनकर्ता वांग वेइ के विचार में 5 हजार वर्ष के पहले बने इस खंडहर में वर्गीकरण जैसी प्राचीन छोटे राज्य की विशेषता निकली थी।

उन्होंने बताया, इतने बड़े पैमाने वाली परियोजना के निर्माण के लिए अगर दस हजार श्रमिक हों ,तो दस साल या इस से ज्यादा समय की आवश्यकता है ।इतनी बड़ी संख्या में श्रमिकों का गठन कर इतनी बड़ी परियोजना का निर्माण करना एक कबीला या एक कबायली अलाइंस के लिए असंभव था। उस खंडहर में उच्च स्तरीय महल के अलावा उच्च स्तरीय मकबरे बलिदान वेदी पर निर्मित थे ।एक मकबरे में अकसर सौ से अधिक वस्तुएं दफनायी गयी थीं ,खासकर जेड से बनी बढ़िया वस्तुएं और हथियार। सो हम कहते हैं कि इस समाज में वर्गीकरण बहुत गंभीर था, जिसमें नरेश की सत्ता मोजूद थी। इसके मुताबिक हमारा विचार है कि आज से 5 हजार वर्ष के पहले यांगत्सी नदी के मध्य और नीचे भाग ने प्राचीन राज्य सभ्यता के चरण में प्रवेश कर चुका था।

5300 वर्ष से पहले चीन के विभिन्न क्षेत्र सभ्यता काल में दाखिल हुए

5300 वर्ष से पहले चीन के विभिन्न क्षेत्र सभ्यता काल में दाखिल हुए

अध्ययन टीम ने प्राचीन राज्य युग में विभिन्न क्षेत्रों में मौजूद सभ्यताओं की विशेषताओं का विश्लेषण कर सभ्यता के चार मापदंड प्रस्तुत किये ,जिसमें कृषि और हस्तशिल्प के विकास का आधार, स्पष्ट सामाजिक वर्गीकरण, केंद्रीय शहर का निकलना, बड़े पैमाने वाले भवन का निर्माण शामिल है ।ये पश्चिमी अध्ययन जगत से प्रस्तुत सभ्यता के मापदंड से थोड़ा अलग है ।पेइचिंग विश्वविद्यालय के पुरातत्व कॉलेज के प्रोफेसर चो हुइ के विचार में ये नये मापदंड चीनी इतिहास की विशेषता प्रतिबिंबित करते हैं।

5300 वर्ष से पहले चीन के विभिन्न क्षेत्र सभ्यता काल में दाखिल हुए

                                        5300 वर्ष से पहले चीन के विभिन्न क्षेत्र सभ्यता काल में दाखिल हुए

उन्होंने बताया, इन चार मापदंडों के अनुसार हम तय कर सकते हैं कि किसी खंडहर के पीछे मौजूद समाज सभ्यता के दौर में पहुंचा था या नहीं ।पश्चिमी अध्ययन जगत अकसर दो महत्वपूर्ण मापदंड अपनाता है यानी अक्षर और कांस्य शोधन तकनीक। इस फर्क से जाहिर है कि मानव इतिहास के विकास में व्यापकता और विशिष्टता दो पहलू हैं।

उद्गम की खोज परियोजना से यह पता चला है कि चीनी सभ्यता के विकास में व्यापक तौर पर बाहरी सभ्यता आत्मसात की गयी थी, जैसे पश्चिमी और मध्य एशिया से आयी गेहूं रोपने की तकनीक, बैल और भेड़ का पालन, कांस्य के शोधन की तकनीक।

(वेइतुंग)  

शेयर

सबसे लोकप्रिय

Related stories