शांगहाई में बढ़ता भारतीय व्यंजनों का चलन

2019-07-01 14:38:22
Comment
शेयर
शेयर Close
Messenger Messenger Pinterest LinkedIn

भारत से दूर परदेस में बहुत से भारतीय रोज़ी रोज़गार के लिये बस चुके हैं, इनमें से कोई नौकरी कर रहा है तो कोई अपना व्यवसाय। कोई मेडिकल पेशे में है तो कोई इंजीनियरिंग में, कोई कॉर्पोरेट सेक्टर में है तो कोई सरकार के विशेष प्रोजेक्ट के सिलसिले में परदेस में काम कर रहा है। लेकिन इनमें एक बड़ी संख्या उन लोगों की है जिन्होंने परदेस में अपना खुद का व्यवसाय शुरु किया है और परदेस के हो कर रह गए हैं।

चीन के शांगहाई में आपको कई भारतीय रेस्तरां मिल जाएंगे लेकिन इनमें एक खास रेस्तरां है इंडियन करी हट, जिसे शुरु किया है उत्तराखंड के अल्मोड़ा के रहने वाले सुशील बजेठा ने, वर्ष 2014 में शांगहाई में आए सुशील पहले रिलायंस और अडानी जैसी बड़ी कंपनी में काम करते थे, लेकिन एक दिन सुशील की मुलाकात उत्तराखंड के ही एक शेफ़ से हुई और फिर इनके मन में विचार आया कि क्यों न एक और भारतीय रेस्तरां खोला जाए, और फिर वर्ष 2017 में इंडियन करी हट की शुरुआत हो गई।

कैमेस्ट्री यानी रसायन शास्त्र में पोस्ट ग्रैजुएशन के बाद सुशील ने दिल्ली विश्वविद्यालय से ही चीनी भाषा में कोर्स किया है। इन दिनों एक दूसरे देशों में विदेशी लोगों की आवाजाही बढ़ने से सुशील को रेस्तरां व्यवसाय में बढ़त मिलने की संभावनाएं नज़र आईं।

रेस्तरां खोलने के बाद सुशील का विश्वास यकीन में बदल गया जब इन्होंने देखा कि इनके रेस्तरां में आने वाले नब्बे प्रतिशत ग्राहक चीनी हैं। इनमें से कुछ चीनी भारत की यात्रा के बाद इनके रेस्तरां में खाना खाने आते हैं। इनके रेस्तरां की प्रसिद्धि का इसी बात से पता चलता है कि वर्ष 2017 में खुले इंडियन करी हट को चीनी वेबसाइट त्येन फ़िंग में पाँच सितारे मिले हैं, जो ग्राहकों के फ़ीडबैक पर दिया जाता है।

इंडियन करी हट में वो चीनी भी ज़रूर आते हैं जिन्होंने भारत की यात्रा की है और वहां पर देसी व्यंजन खाए हैं, आप भारतीय व्यंजनों की प्रसिद्धि का अंदाज़ा इसी बात से लगा सकते हैं कि चीनी लोग इंडियन करी हट में कर छोले भटूरे और गोलगप्पे तक की डिमांड करते हैं।

हालांकि चीनी लोग पूर्णत: मांसाहारी होते हैं बावजूद इसके, उन्हें भारतीय खाना उसके मसालेदार स्वाद, सेहतमंद मसालों और शाकाहारी होने के कारण पसंद आता है। चीनी लोग ये मानते हैं कि भारतीय खानों में पड़ने वाले मसाले सेहत के लिये बहुत अच्छे होते हैं, मसलन काली मिर्च, हल्दी, धनिया पाउडर, जायफ़ल, जावित्री, दालचीनी, लौंग, इलाईची इत्यादि। जो भारतीय व्यंजन चीनियों को पसंद आ रहे हैं वो हैं तंदूरी चिकन, मिक्स प्लैटर जिसमें चिकन मछली और मटन है, चिकन कोकोनट करी, सी-फूड फ्राइड राइस, गार्लिक नान, रोटी, रुमाली रोटी, नान, प्लेन रोटी।

चीन में खाने पीने से जुड़ी हर बात के लिये चीन के सख्त कानून का पालन करना बहुत ज़रूरी होता है, इस लिहाज से सुशील बजेठा अपने रेस्तरां में स्वच्छता का पूरा ख्याल रखते हैं, सुशील का कहना है कि अगर सरकार द्वारा स्वच्छता के मापदंडों में ज़रा सी भी चूक पाई गई तो रेस्तरां को बंद कर उसपर भारी जुर्माना लगाया जाता है, ये बताते हुए सुशील ने कहा कि चीन सरकार के सख्त नियम हमारे लिये और हमारे ग्राहकों के लिये बहुत अच्छे हैं। इससे हमारा व्यवसाय और बढ़ेगा।

शांगहाई में आने वाले भारतीय, कॉर्पोरेट जगत के लोग, व्यवसायी और प्रदर्शनियों में हिस्सा लेने वाले लोगों के लिये सुशील ने लंच बॉक्स डिलिवरी व्यवस्था भी शुरु की है जिससे, खाना उनके प्रदर्शनी भवन और कार्यालयों तक पहुंच जाता है, इससे ग्राहकों का अमूल्य समय भी बचता है।

शांगहाई में जहां पर लगभग हर तरह राष्ट्रीयता के लोग रहते हैं और इनकी ज्यादा आमद के कारण न सिर्फ़ एक रेस्तरां बल्कि पूरे रेस्तरां उद्योग को लाभ पहुंच रहा है, इसमें चीन सरकार द्वारा लागू सख्त नियम भी शामिल हैं जो ग्राहकों को ये विश्वास दिलाते हैं कि वो जहां भी खाना खाने जा रहे हैं वो जगह साफ़ सुथरी है और वो एक बेहतर वातावरण में खाना खा रहे हैं।

पंकज श्रीवास्तव

शेयर

सबसे लोकप्रिय

Related stories