सूचना:चाइना मीडिया ग्रुप में भर्ती

(इंटरव्यू) चीन में योग के बढ़ते प्रचलन को देखकर खुश हूं : राजदूत विक्रम मिस्री

2019-06-21 17:27:09
शेयर
शेयर Close
Messenger Messenger Pinterest LinkedIn

भारतीय राजदूत विक्रम मिस्री योग अभ्यास करते हुए

भारतीय राजदूत विक्रम मिस्री योग अभ्यास करते हुए

अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस 21 जून को मनाया जाता है। यह दिन वर्ष का सबसे लंबा दिन होता है और योग भी मनुष्य को लंबा जीवन प्रदान करता है। भारत के बाद चीन में भी मानसिक और आध्यात्मिक रूप में स्वस्थ जीवन

जीने की प्राचीन कला 'योग' की लोकप्रियता बढ़ रही है। 5वां अंतरराष्ट्रीय योग दिवस के मौके पर चीन के अनेक स्थानों पर योग से जुड़ी गतिविधियों का आयोजित किया गया है और इसमें हजारों चीनी योगप्रेमियों ने हिस्सा लिया है।

आज चीन स्थित भारतीय दूतावास ने 5वां अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस मनाने के लिए राजदूत आवास में योगाभ्यास का एक विशेष कार्यक्रम आयोजित किया। इस कार्यक्रम में पेइचिंग में प्रमुख योग संस्थानों की भागीदारी देखी गई और लगभग 1,000 योगप्रेमियों ने बढ़चढ़ कर हिस्सा लिया।

भारतीय राजदूत विक्रम मिस्री सीआरआई संवाददाता को इंटरव्यू देते हुए

भारतीय राजदूत विक्रम मिस्री सीआरआई संवाददाता को इंटरव्यू देते हुए

इस योग कार्यक्रम के बाद भारतीय राजदूत ने चाइना रेडियो इंटरनेशनल (सीआरआई) के साथ बातचीत की और कहा, “अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस बहुत ही महत्वपूर्ण दिवस है। इस साल हम 5वां अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस मना रहे हैं।” उन्होंने कहा कि साल 2014 में इस मुहिम की शुरूआत हुई थी, जब भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने संयुक्त राष्ट्र में "अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस" को मनाने एक प्रस्ताव रखा था, ताकि भारत की एक सांस्कृतिक संपदा— योग, पुरे विश्व में मुहिम की तरह फैल सके।

संयुक्त राष्ट्र महासभा ने सर्वसम्मति से 'योग के अंतर्राष्ट्रीय दिवस' के रूप में 21 जून को मंजूरी दी। चीन ने भी संयुक्त राष्ट्र में भारत द्वारा 21 जून को अंतरराष्ट्रीय योग दिवस के रूप में मनाने का भी समर्थन किया था।

राजदूत मिस्री ने कहा कि चीन में योग अधिक से अधिक लोकप्रिय हो रहा है, जो न केवल भारत और चीन के बीच सभ्य संबंधों को दर्शाता है, बल्कि मित्रता और सहयोग की भावना से काम करने के लिए दोनों देशों की जनता की आधुनिक आकांक्षा को भी दर्शाता है।

उन्होंने यह भी कहा कि आज योग कई लोगों के जीवन का अभिन्न हिस्सा बन गया है। चीन में योग के बढ़ते प्रचलन को देखकर वे बेहद खुश हैं। उन्होंने कहा, “योग को मानने और समझने वाले चीनी लोगों की संख्या में अच्छा इजाफा हो रहा है। यहां चीन में योग की लोकप्रियता को देखकर बहुत खुशी होती है। आशा करता हूं कि और भी ज्यादा संख्या में चीनी भाई-बहन योग को अपनाएंगे।”

राजदूत विक्रम मिस्री ने यह भी कहा, “पिछल�� 5 सालों में अनेक देशों और लोगों ने योग को अपनाया है। अगले साल भारत और चीन के बीच राजनयिक संबंधों की 70वीं वर्षगांठ है। उम्मीद है कि अगले साल हम और बढ़चढ़ कर अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस का आयोजन कर सकेंगे।”

(अखिल पाराशर)

शेयर

सबसे लोकप्रिय

Related stories