सूचना:चाइना मीडिया ग्रुप में भर्ती

(इंटरव्यू) योग से चीन-भारत रिश्तों में हुआ सुधार

2019-06-19 19:26:14
शेयर
शेयर Close
Messenger Messenger Pinterest LinkedIn

पिछले कुछ वर्षों से चीन में योग बड़ी तेजी से लोकप्रिय हुआ है। चीन के तमाम शहरों में योग केंद्र खुल चुके हैं और खुनमिंग में पहला योग कॉलेज भी स्थापित हो चुका है। जल्द ही चीन सहित दुनिया-भर में 21 जून को अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस मनाया जाएगा। और इस दौरान चीनी लोग बढ़-चढ़कर योग संबंधी गतिविधियों में हिस्सा लेंगे। यहां बता दें कि चीनी लोगों में योग करने की ललक बढ़ रही है। वैसे तो चीन में अकसर महिलाएं योग करती हैं, लेकिन अब पुरुष भी इस बाबत रुचि दिखाने लगे हैं। इसी परिप्रेक्ष्य में सीआरआई ने बात की वीयोगा के संस्थापक आशीष बहुगुणा के साथ।

कई वर्षों से चीन में रह रहे आशीष कहते हैं कि चीन में भारतीय योग को लोकप्रिय हुए लगभग दो दशक हो चुके हैं। और चीनी महिलाएं योग के प्रति बहुत रुचि दिखा रही हैं, यह एक अच्छी बात है। लेकिन महिलाओं के साथ-साथ पुरुषों को भी योग करने के लिए आना चाहिए। हम अकसर देखते हैं कि जब कोई पुरुष योग कक्षा में आता है तो उसे थोड़ा शर्म या हिचक सी होती है। क्योंकि महिलाओं का शरीर पुरुषों के मुकाबले लचीला होता है। ऐसे में पुरुषों को लगता है कि योग शायद सिर्फ महिलाओं के लिए है। इस भ्रांति को दूर करने के लिए हमारे वीयोगा संस्थान ने कनाडा के स्पोर्ट्स क्लोथिंग ब्रांड लुलू लैमन के साथ मिलकर योग के प्रति पुरुषों में भी रुचि लाने का प्रयास किया है। इसके माध्यम से हम यह बताना चाहते हैं कि योग सभी के अच्छे स्वास्थ्य के लिए जरूरी होता है।

जहां भारत में योग करने वाले अधिकतर पुरुष होते हैं, वहीं चीन में महिलाएं। अगर हम चीन की बात करें तो यहां महिलाओं ने योग को अपने-आप को फिट रखने का एक माध्यम बना लिया है। क्योंकि चीन में योग का प्रचार-प्रसार ही इस तरह से किया गया है कि वह आपके शरीर को लचीला बनाता है। लेकिन बहुत से पुरुष ऑफिस में घंटों काम करते हैं, उन्हें कमर, गर्दन या शरीर के अन्य हिस्सों में दर्द महूसस होता है। अब वे भी योग के प्रति आकर्षित हो रहे हैं।

चीन-भारत रिश्तों में योग की भूमिका पर आशीष कहते हैं कि योग से दोनों देशों के संबंधों में बहुत सुधार आया है। क्योंकि चीन में योग करने वालों की तादाद काफी ज्यादा है। और चीनी लोग भारत जाकर वहां योग टीचर्स ट्रेनिंग भी लेते हैं। इसके साथ ही भारत से भी बड़ी संख्या में योग शिक्षक चीन आ रहे हैं। इसके चलते हमारे बीच बहुत दोस्ताना संबंध कायम हो चुके हैं।

आशीष कहते हैं कि उनका लोगों के लिए यह संदेश होगा कि सभी योग करें और स्वस्थ रहें। अच्छा खाना खाएं और अच्छे पेय पदार्थ पीएं।

(अनिल आज़ाद पांडेय)

शेयर

सबसे लोकप्रिय

Related stories