(इंटरव्यू) चीन अवसरों का देश है : राजेश पुरोहित

2018-10-11 16:31:55
Comment
शेयर
शेयर Close
Messenger Messenger Pinterest LinkedIn

(इंटरव्यू) चीन अवसरों का देश है : राजेश पुरोहित

“मौजूदा समय में वैश्विक मंच पर चीन एक प्रमुख औद्योगिक शक्ति है। यह अवसरों और विकास का देश है,” चीन में अपना कारोबार चलाने वाले राजेश पुरोहित ने सीआरआई के साथ खास बातचीत में कहा।

महाराष्ट्र में पुणे के रहने वाले राजेश पुरोहित चीन में पिछले 4 वर्षों से रह रहे हैं और दक्षिण चीन के क्वांगतोंग प्रांत के चोंगशान क्षेत्र में एलईडी लाइट्स का कारोबार करते हैं।

राजेश पुरोहित ने बताया कि उन्होंने चीन के मज़बूत आधारभूत ढांचे और व्यवसाय के बेहतर माहौल को देखते हुए यहां बसने का मन बनाया। चीन में व्यापार अनुकूल माहौल होने के चलते आगे बढ़ने के बहुत अवसर हैं। हालांकि उनका यह भी मानना है कि यहां भाषा की बहुत बड़ी समस्या है। यहां स्थानीय लोगों के साथ बातचीत करने में दिक्कत होती है।

भारत में आधारभूत ढांचे की बात करते हुए राजेश पुरोहित ने कहा कि भारत का आधारभूत ढांचा अभी विकास के चरण में है। चीन के स्तर तक पहुंचने में उसे कुछ साल और लगेंगे, जबकि चीन का आधारभूत ढांचा बनकर तैयार हो चुका है।

चीन में प्रवासी भारतीयों के एक संगठन, जिसे चाइनीज एनआरआई (अनिवासी भारतीय) के नाम से जाना जाता है, की चर्चा करते हुए राजेश ने बताया कि यह एक ऐसा मंच है, जो चीन में मौजूद प्रवासी भारतीयों को आपस में जोड़ता है, और अपने कार्यक्रमों के माध्यम से भारतीय संस्कृति का प्रचार-प्रसार भी करता है, साथ ही चीन में रह रहे भारतीयों की समस्याओं का हल खोजता है।

गत वर्ष इस संगठन के स्थापना करने वाले राजेश पुरोहित ने बताया कि उन्हें एक ऐसे मंच की आवश्यकता महसूस हुई, जहां चीन में सभी प्रवासी भारतीय एकजुट हो सकें, और भाषा की अज्ञानता या अपूर्ण जानकारी के चलते पैदा हुईं समस्याओं का समाधान कर सकें।

(इंटरव्यू) चीन अवसरों का देश है : राजेश पुरोहित

राजेश पुरोहित का कहना है कि यह मंच न केवल भारतीयों को सहूलियत देता है, बल्कि चीनी लोगों को भारतीयों के साथ जुड़ने में भी मदद करता है। उन्होंने बताया कि चीनी लोग इस मंच के माध्यम से अपने उत्पाद को बढ़ावा दे सकते हैं, भारतीय व्यापारियों के साथ भागीदारी कर सकते हैं, चीन में भारतीय योग शिक्षक खोज सकते हैं, या भारत की संस्कृति से परिचित हो सकते हैं। इसके अलावा, भारतीय लोग इस मंच के साथ जुड़कर चीन से संबंधित जानकारी प्राप्त कर सकते हैं, साथ ही चीन में व्यापार स्थापित करने की प्रक्रिया को आसानी से समझ सकते हैं। यह संगठन भारतीय और चीनी लोगों के बीच सेतु की भूमिका निभाता है

राजेश पुरोहित ने यह भी बताया कि उनके संगठन ने 72वां भारतीय स्वतंत्रता दिवस का जश्न मनाने के लिए एक ख़ास तरह का आयोजन किया, जिसमें एक ही समय पर चीन के 9 अलग शहरों में भारत का राष्ट्रीय गान गाया गया। फिलहाल, अभी एक गायन प्रतियोगिता का आयोजन किया जा रहा है, जो प्रवासी भारतीयों के बीच खासा लोकप्रिय हो रहा है।

(अखिल पाराशर)

शेयर

सबसे लोकप्रिय

Related stories