सूचना:चाइना मीडिया ग्रुप में भर्ती

12 मार्च 2020

2020-03-11 10:12:37
शेयर
शेयर Close
Messenger Messenger Pinterest LinkedIn

सबसे पहले आप सभी को रंगों के पर्व होली की शुभकामनाएं। ...

अब जानकारी देते हैं। ये धरती अदभुत नजारों से भरी पड़ी है। यहां ऐसी-ऐसी झीलें हैं, जिनकी खूबसूरती तो लोगों को हैरान करती ही है, साथ ही साथ इनकी खूबियां देखकर भी लोग दंग रह जाते हैं। आज हम आपको ऐसी ही कुछ अजीबोगरीब झीलों के बारे में बताने जा रहे हैं, जिसे जानकर आप भी हैरान हुए बिना नहीं रहेंगे।


ये कनाडा का स्पॉटेड लेक (झील) है। खारे पानी की यह झील खनिज युक्त लवणों से भरी पड़ी है, जिसमें सल्फेट, सिल्वर और टाइटेनियम शामिल हैं। यहां अदभुत नजारा तब देखने को मिलता है, जब गर्मियों में इस झील का पानी सूख जाता है। इस झील को स्थानीय लोग कलीलुक कहते हैं। हालांकि वो इससे डरते भी हैं, क्योंकि पहले विश्व युद्ध के दौरान इस झील के लवणों का इस्तेमाल विस्फोटक बनाने में किया गया था।

ये कोलंबिया का कानो क्रिस्टेल्स है। दरअसल, यह एक नदी है, जिसका पानी लाल, हरा, नीला और नारंगी रंग का दिखता है। असल में इसके पीछे की वजह माकारिना क्लेवेगरा प्रजाति का एक पौधा है, जिसकी वजह से सितंबर से लेकर नवंबर के बीच यहां का पानी इंद्रधनुषी रंग का हो जाता है।

यह उबलते हुए पानी की एक झील है, जो कैरेबियन देश डोमेनिका के मोरन ट्रोइस पिट्नस नेशनल पार्क में स्थित है। दरअसल, झील का पानी इसलिए उबलता रहता है, क्योंकि इसके नीचे सुलगता हुआ लावा है। ऐसे में इस झील के पानी में तैरना मौत को दावत देने जैसा है।


वहीं.... कई बार आपने लोगों से यह कहते सुना होगा कि उम्र बस एक नंबर होता है, इसके सिवा कुछ नहीं। इसको चरितार्थ किया है इंडोनेशिया के रहने वाले 103 वर्षीय पुआंग कट्टे ने। वह करीब 76 साल छोटी यानी 27 वर्षीय महिला से शादी रचाकर दुनियाभर में चर्चा का विषय बन गए हैं। सोशल मीडिया पर उनकी शादी की तस्वीरें खूब वायरल हो रही हैं।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, पुआंग एक डच कर्नल हैं। उन्होंने 1945-1949 की लड़ाई में हिस्सा लिया था। दुल्हन इंडो अलंग के एक रिश्तेदार ने बताया कि उन्हें यह नहीं पता था कि दूल्हे (पुआंग) की उम्र कितनी है, लेकिन उन्हें इतना जरूर पता था कि उसकी उम्र 100 के पार होगी।

लिन्टास आई न्यूज के मुताबिक, बुजुर्ग पुआंग की महिला से उस वक्त पहली बार मुलाकात हुई, जब वो अपने ब्वॉयफ्रेंड से ब्रेकअप करने जा रही थी, क्योंकि वह उसे धोखा दे रहा था। इसके बाद दोनों के बीच नजदीकियां बढ़ीं और शारीरिक संबंध भी बन गए। इस दौरान महिला ने पाया कि वह गर्भवती है, जिसके बाद उन्होंने शादी करने का फैसला किया। अगर आपको यह जानने की इच्छा हो रही है कि क्या दादा की उम्र का यह बुजुर्ग पिता बनने वाला है, तो इसका जवाब है हां। 103 वर्षीय पुआंग एक अजन्मे बच्चे के पिता हैं।


वहीं

आपने चमगादड़ों को तो देखा ही होगा। यह आसमान में उड़ने वाला एक स्तनधारी प्राणी है। ये पूरी तरह से निशाचर होते हैं और पेड़ों की डाली या अंधेरी गुफाओं में उल्टा लटके रहते हैं, लेकिन क्या आप जानते हैं कि आखिर ये उल्टा ही क्यों लटके रहते हैं, सीधे क्यों नहीं बैठते?

आपको जानकर हैरानी होगी कि चमगादड़ स्तनधारी जीवों में एकमात्र ऐसा जीव है जो उड़ सकता है। ये रात में भी उड़ सकते हैं।

दुनियाभर में चमगादड़ों की 1000 से भी अधिक प्रजातियां हैं। इनमें से कुछ प्रजातियों के चमगादड़ तो ऐसे भी होते हैं जो सिर्फ खून पीते हैं। इसी वजह से इन्हें 'पिशाच चमगादड़' कहा जाता है। दुनियाभर में पाई जाने वाली चमगादड़ की प्रजातियों में अधिकांश चमगादड़ भूरे या काले रंग के होते हैं।

वैज्ञानिकों के मुताबिक, चमगादड़ आज से करीब 10 करोड़ साल पहले यानी डायनासोरों के समय में भी धरती पर रहा करते थे और आज भी धरती पर इनकी मौजूदगी है।

आखिर चमगादड़ उल्टा क्यों लटके रहते हैं? तो इसके पीछे वजह ये है कि उल्टा होने से ये बड़ी आसानी से उड़ान भर सकते हैं। दरअसल, बाकी पक्षियों की तरह चमगादड़ जमीन से उड़ान नहीं भर पाते, क्योंकि उनके पंख उतने उठान नहीं देते, जितनी उड़ने के लिए जरूरत होती है। इसके अलावा उनके पिछले पैर छोटे और अविकसित भी होते हैं, जिसकी वजह से वो दौड़ कर गति नहीं पकड़ पाते।

दरअसल, चमगादड़ उल्टा लटके हुए सोते रहते हैं। अब आप सोच रहे होंगे कि आखिर ये अपना संतुलन खोकर गिरते क्यों नहीं हैं? बीबीसी के मुताबिक, इसकी वजह ये है कि इनके पैरों की नसें इस तरह व्यवस्थित हैं कि उनका वजन ही उनके पंजों को मजबूती के साथ पकड़ने में मदद करता है।


जानकारी यही तक। अब समय हो गया है श्रोताओं की टिप्पणी का।

पहला पत्र हमें भेजा है, पंतनगर उत्तराखंड से वीरेंद्र मेहता ने। लिखते हैं पिछले प्रोग्राम में मध्यप्रदेश के बाजना गांव में रहस्यमई भीमकुंड के बारे में जानकर काफी उत्सुकता व हैरानी हुई।और वही तमिलनाडु की 63 वर्षीय बाला चंद्र की जितनी सराहना की जाए शायद कम ही होगा ,जो कि गरीबों को भोजन वह उन्हें अनाज भी मुहैया करवाते हैं । सचमुच में वह अपने इस नेक कार्य के लिए बधाई के पात्र हैं । और 26 वर्षीय ब्रिटेन की रहने वाली जेन एट्किन ने 109 किलो से अपना वजन घटाकर 46 किलो किया सचमुच यह बहुत मोटिवेशन खबर लेगी और उन्हें उनके मंगेतकर द्वारा मोटापे की वजह से छोड़ दिया जाने के बाद भी वह हिम्मत नहीं हारी और इसमें एक अंग्रेजी कहावत याद आ रही है , " Don't find fault find a remedy " अर्थात उन्होंने गलती नहीं ढूंढी बल्कि उसका उपाय निकाला। इसलिए शायद उन्होंने मिस ग्रेट ब्रिटेन 2020 का खिताब अपने नाम कर लिया । और वही मशहूर फिजिसिस्ट आइंस्टीन की निजी जिंदगी इतनी अच्छी नहीं होने के बावजूद भी उन्होंने फिजिक्स में जो भी अपना योगदान दिया वह अविश्वसनीय है । और इथियोपिया देश जहां 12 नहीं साल में 13 महीने होते हैं जानकारी बहुत रोचक लगी और वहां के लोग नया साल 11 सितंबर को सेलिब्रेट करते हैं । आज का प्रोग्राम बहुत शानदार लगा , पर प्रोग्राम में मेरा पत्र शामिल नहीं किया गया शायद इस बार पत्र भेजने में देरी हो गई थी !! इस बार आपका खत हमने शामिल कर लिया है।

वीरेंद्र जी पत्र भेजने के लिए शुक्रिया।


अगला पत्र हमें भेजा है, खंडवा मध्य प्रदेश से दुर्गेश नागनपुरे ने। उन्होंने सबसे पहले होली पर शायरी भेजी है।

होली की शायरी इस प्रकार हैं :-

राधा के रंग और कृष्णा की पिचकारी,

प्यार के रंग से रंग दो दुनिया सारी,

ये रंग ना जाने कोई मजहब ना कोई बोली,

मुबारक हो आपको खुशियों भरी होली.

पूर्णिमा का चाँद, रंगो की डोली

चाँद से उसकी, चांदनी बोली

खुशियों से भरे, आपकी झोली

मुबारक हो आपको, रंग-बिरंगी होली


आगे लिखते हैं नी हाउ नमस्कार , आदाब और वेरी गुड इवनिंग ।

प्रिय भैया अनिल जी और बहन नीलम जी हमें पिछला टाइम कार्यक्रम बेहद लाजवाब लगा । कार्यक्रम के प्रारंभ में हमारे राज्य मध्यप्रदेश के एक बेहद ही रहस्यमय कुंड " भीमकुंड " के बारे मे जो विस्तृत जानकारी दी गई वह हमें बहुत रोचक लगी । वहीं कार्यक्रम में वैज्ञानिक अल्बर्ट आइंस्टीन के बारे मे दी गई जानकारी। साथ ही तमिलनाडु के 63 वर्षीय बालाचंद्रा जी के जीवन के बारे में बताया गया , साथ ही पंकज गोयल जी से सुरेश अग्रवाल जी की बातचीत भी काफी अच्छी लगी। इसके साथ ही श्रोताओं की प्रतिक्रियाएं और मेरे द्वारा प्रेषित मजेदार चुटकुले आपकी मधुर वाणी में सुनकर हम बहुत देर तक हंसते रहे । धन्यवाद

साथ ही हमारी ओर से चाइना रेडियो इंटरनेशनल हिन्दी सेवा की पूरी टीम और सभी श्रोता बंधुओं को रंगों के पर्व होली की हार्दिक शुभकामनायें । साथ ही दो प्यारी-सी पंक्तियां आप सभी के लिए :-

हमेशा मीठी रहे आपकी बोली ,

खुशियों से भर जाए आपकी झोली ,

आप सबको मेरी तरफ से हैप्पी होली ।

इसके साथ ही दुर्गेश जी ने होली पर जोक्स भी भेजे हैं, जिन्हें हम आज के जोक्स सेक्शन में शामिल कर रहे हैं।

अगला पत्र भेजा है, बेहाला कोलकाता से प्रियंजीत कुमार घोषाल ने। लिखते हैं। पिछला टी-टाइम प्रोग्राम बहुत अच्छा लगा। कार्यक्रम में पेश सभी जानकारियां बहुत अच्छी लगी। धन्यवाद। इसके साथ ही आप सभी को होली की शुभकामनाएं।

वहीं आज लंबे समय बाद हमारे पुराने श्रोता और न्यू होराइजन लिस्नर्स क्लब के संस्थापक रविशंकर बसु का पत्र भी मिला है। उन्होंने सीआरआई हिंदी की पूरी टीम और सभी श्रोता बंधुओं को रंगों के त्यौहार होली की शुभकामनाएं भेजी हैं। लिखते हैं कि यह पर्व न केवल एक-दूसरे के प्रति दुर्भावना को खत्म करता है, बल्कि हमें लोगों के करीब भी लाता है। आप सभी को होली की ढेरों शुभकामनाएं। बसु जी पत्र भेजने के लिए शुक्रिया। आपको भी होली की बहुत बहुत बधाई।

अब बारी है, केसिंगा उड़ीसा से सुरेश अग्रवाल के पत्र की। लिखते हैं कार्यक्रम "खेल जगत" के तहत अनिल पाण्डेय द्वारा आज भी गागर में सागर भरने की कोशिश की गयी, पर नासाज़ रिसैप्शन के चलते इतना ही समझ में आया कि मैनचेस्टर सिटी द्वारा तीसरी बार लीग पर कब्ज़ा किया गया। कुनेरू हम्पी दूसरे स्थान पर पहुँची। यह जान कर दुःख हुआ कि एथलेटिक्स कोच एवं द्रोणाचार्य पुरस्कार प्राप्त जोगिंदर सिंह सैनी का 90 वर्ष की आयु में निधन हो गया है। ओड़िशा की दुती चांद को खेलो इण्डिया में मिले दो स्वर्ण से हमें अतिरिक्त खुशी हुई, क्योंकि वह हमारे ओड़िशा प्रान्त से हैं। राफेल नडाल द्वारा एपीपी मैक्सिको पर कब्ज़ा किया जाना भी अच्छा लगा। धन्यवाद।

आगे लिखते हैं कि टी-टाइम में अनिल पाण्डेय द्वारा आज सबसे पहले मध्यप्रदेश के छतरपुर स्थित भीम कुण्ड पर दी गयी जानकारी काफी रोचक और रोमांचक लगी। कभी क़िताबों में पढ़ी महाभारत की यह कहानी आज आँखों के समक्ष साकार हो उठी। यह जान कर आश्चर्य हुआ कि जब भी एशियाई महाद्वीप में बाढ़, तूफान, सुनामी जैसी कोई प्राकृतिक आपदा घटने वाली होती है, कुण्ड का जलस्तर अपने आप बढ़ने लगता है। और ऐसा क्यों होता है, इसका ज़वाब वैज्ञानिकों के पास भी नहीं है।

तमिलनाडु के 63 वर्षीय बालाचंद्रा द्वारा ग़रीबों को खाना बांटे जाने के साथ-साथ हर परिवार को महीने के तीसरे रविवार 5-5 किलो चावल, 1-1 किलो दाल उपलब्ध कराया जाना उनकी मानवीय भावना का उच्च मूल्यांकन करता है। उनके ज़ज़्बे को सलाम।

वहीं ब्रिटेन की रहने वाली जेन एट्किन का किस्सा भी चौंकाने वाला लगा, जिसके तहत जाना कि जेन को मोटापे की वजह से उनके मंगेतर ने भी छोड़ दिया था। फिर उन्होंने दो साल में वज़न 109 किलोग्राम से घटा कर 63 किलो पर पहुंचा दिया, और आज वह 'मिस ग्रेट ब्रिटेन 2020' हैं।

जानकारियों के क्रम में आगे महान वैज्ञानिक आइंस्टाइन का प्रेम के प्रति रुख अत्यंन्त हस्तक्षेप करने वाला होने पर दी गयी जानकारी के साथ हमने यह भी जाना कि -जब वैज्ञानिक मिलेवा मैरिक के साथ उनका वैवाहिक जीवन अस्त-व्यस्त हो रहा है, तो उन्होंने कुछ कड़े नियमों की एक सूची उनके लिये जारी कर दी थी, ताकि बच्चों की खातिर दोनों का साथ बना रह सके। लेकिन ऐसा नहीं हुआ। यह अनछुई जानकारी हमारे लिये बिलकुल नई थी।

वहीं अफ़्रीक़ी देश इथियोपिया में वर्तमान साल 2020 के बजाय 2012 होना तथा उस देश में साल 12 के बजाय 13 महीने का होने की बात आश्चर्यजनक तो है, परन्तु यह जानकारी कुछ माह पूर्व सीआरआई हिन्दी के एक अन्य साप्ताहिक में प्रसारित हो चुकी है। कृपया ऐसी पुनरावृत्ति से बचने का प्रयास करें।

इन तमाम जानकारियों के अलावा कार्यक्रम में चीन के श्यामन मेडिकल यूनिवर्सिटी में पढ़ने वाले भिवानी, हरियाणा के छात्र पंकज गोयल से मुझ द्वारा की गयी बातचीत को सुनवाया जाना, श्रोताओं की बेशक़ीमती राय एवं चुटीले जोक्स, सब कुछ लाज़वाब लगा। धन्यवाद फिर एक श्रमसाध्य प्रस्तुति के लिये।

धन्यवाद पत्र भेजने के लिए अग्रवाल जी।


श्रोताओं की टिप्पणी यही तक।

अब जोक्स की बारी है। जो कि दुर्गेश नागनपुरे ने भेजे हैं।

आज के जोक्स होली पर आधारित हैं।

1. पति-पत्नी की लट्ठमार होली

एक घर से रमन और उनकी पत्नी निशा के हंसने की कुछ ज्यादा ही आवाजें आती रहती थीं। मोहल्ले के कई लोग एकत्र होकर उनके यहां खुशहाली का राज जानने पहुंचे।

मोहल्ले वालों की जिज्ञासा को शांत करते हुए रमन बोला- बहुत सरल है, हमारे यहां मेरी बीबी बेलन, चिमटा आदि फेंककर मारती है। हम लट्ठमार होली खेलते हैं...!

अगर मुझे लग जाता है तो वो हंसती और नहीं लगता है तो मैं हंसता हूं।


दूसरा जोक

2. होली का चुटकुला : अल्हड़-फक्खड़ गाना

योगा स्वामी रामदेव को गाने गाने का बेहद शौक था। चाहे जब अल्हड़-फक्खड़ होकर बेसुरी आवाज में गाने लगते।

होली की तरंग में, कुछ-कुछ रंग में और कुछ-कुछ भंग में चले जा रहे थे गाते हुए -'मेहबूबा मेहबूबा...'

छपाक!!! एक नाले में गिर गए...

अब उनकी कांपती आवाज आ रही थी....मैं डूबा, मैं डूबा....।


3. होली कैसे मनाऊं ?

एक आदमी होली के दिन ये गुनगुना रहा था - घर में नहीं है पानी तो होली कैसे मनाऊ रे..!! घर में नहीं है पानी तो होली कैसे मनाऊ रे..!!

उसका ये गाना सुनकर पड़ोसी ने कहा- पानी हो ना हो, होली तो मनाना चाहिए।

उधार ले कर ही सही, साल में एक बार तो नहाना चाहिए!!

हैप्पी होली ।

शेयर

सबसे लोकप्रिय

Related stories