20181206

2018-12-06 08:32:57
Comment
शेयर
शेयर Close
Messenger Messenger Pinterest LinkedIn

अनिलः दोस्तो, कार्यक्रम की शुरूआत करते हैं।

मेक्सिको के राष्ट्रपति के जेट विमान की नीलामी होगी. देश के नए राष्ट्रपति एंद्रेस मैनुअल लोपेज ओब्राडोर के आदेश पर इसकी नीलामी होने जा रही है. समाचार एजेंसी एफे के मुताबिक, मेक्सिको सिटी अंतर्राष्ट्रीय हवाईअड्डे पर प्रेसिडेंसियल हैंगर से बोइंग 787-8 ने उड़ान भरी.

इस विमान को 2012 में तत्कालीन राष्ट्रपति फेलीप काल्डेरन द्वारा अधिग्रहित किया गया था. हालांकि यह फरवरी 2016 तक मेक्सिको नहीं पहुंचा था.

इसकी कीमत 21.87 करोड़ डॉलर है, जिस वजह से खासी आलोचना भी हुई थी.

वित्त सचिवालय ने कहा कि कैलिफोर्निया के विक्टरविले में इसकी नीलामी होगी, जहां इसकी मरम्मत और मॉडिफिकेशन के बाद मेक्सिको की सरकार द्वारा इसका अधिकतम मूल्य निर्धारित किया जाएगा.

वित्त मंत्री कार्लोस उरजुआ ने रविवार को निजी तौर पर विमान की स्थिति का जायजा लिया. इसमें 80 यात्रियों का लाने-ले जाने की क्षमता है. इसमें बाथरूम, बेडरूम और राष्ट्रपति का कार्यालय भी है....


नीलमः दूसरे बुजुर्गों की तरह वे भी आराम से अपना बुढ़ापा गुजार सकते थे लेकिन अमेरिका के डेबी और माइकल कैंपबेल अलग तरह से रिटायरमेंट इंजॉय कर रहे हैं। इस बुजुर्ग दंपति के पास जो कुछ भी था उसे बेचकर वे दुनिया देखने निकल पड़े हैं। पिछले पांच साल से वे बस घूम ही रहे हैं और अब तक 80 देश देख चुके हैं। 2013 में जब उन्होंने सफर शुरू किया था तब डेबी 62 साल की थीं और माइकल 72 साल के थे। उनका सफर जारी है और अभी वे थके नहीं हैं। कैंपबेल दंपति "सीनियर नोमाड्स" या बूढ़े घुमक्कड़ नाम से ब्लॉग लिखते हैं। इसमें वे अपनी यात्राओं के ब्यौरे लिखते हैं। अमरीका के सिएटल से शुरू करके वे अब तक दुनिया के 250 शहर जा चुके हैं। डेबी कहती हैं, "हम जानने को लालायित थे। दुनिया में देखने को बहुत कुछ था और हम रुकने को तैयार नहीं।"

कैंपबेल दंपति 40 सालों से साथ है और हर सफर इंजॉय करना इनकी फितरत है। माइकल कहते हैं, "इतने समय से विवाहित रहने और साथ में सफर करते रहने की कुंजी यह है कि हम दोनों नाव को एक ही दिशा में चला रहे हैं।" "हमारे पास एक योजना है और हम दोनों को मालूम है कि क्या करना है। डेबी के हाथ में अपना चप्पू है और मेरे हाथ में अपना। हम एक टीम की तरह नाव चला रहे हैं।"


अनिलः वहीं दीपवीर और निकयंका की शादी के बाद दुनिया के अमीर लोगों में शुमार मुकेश अंबानी की बेटी ईशा अंबानी की शादी में कुछ ही दिन बचे हैं। अपनी इकलौती बेटी की शादी में अंबानी खानदान कोई कसर नहीं छोड़ रहा है। ईशा अंबानी और आनंद पीरामल की शादी 12 दिसंबर को है। इन दोनों की शादी तो मुंबई में होगी जबकि शादी की सभी रस्में उदयपुर में होंगी। ईशा और आनंद की शादी की तैयारियों को लेकर नया अपडेट आया है। कहा जा रहा है कि अंबानी खानदान ने उदयपुर में हो रही रस्मों के लिए मेहमानों के लिए चार्टर्ड प्लेन शेड्यूल किए हैं।

ईशा की शादी के लिए अंबानी और पीरामल फैमिली 8 और 9 दिसंबर को अपना वीकेंड उदयपुर में धूमधाम से मनाने पहुचेंगे। इस दौरान शादी के कार्यक्रम प्रसिद्ध जगमंदिर, लेक पैलेस, उदयविलास और लीला पैलेस में आयोजित होंगे। उदयपुर एयरपोर्ट पर अगले हफ्ते के लिए टेक ऑफ और लैंडिंग के लिए 25-30 चार्टर्ड प्लेन शेड्यूल किए गए हैं जो कई फेरे लगाएंगे। इसका बड़ा कारण अंबानी और पीरामल परिवार के मेहमानों की आवाजाही है।

उदयपुर एयरपोर्ट अथॉरिटी के अनुसार, एयरपोर्ट पर 26 चार्टर्ड एक साथ खड़े हो सकते हैं, लिहाजा चार्टर्ड को गेस्ट को उतारकर वापस मुंबई के लिए उड़ान भरनी होगी। अंबानी ने अपने मेहमानों के लिए 5 स्टार होटल बुक किया है। ईशा अंबानी का शादी का कार्ड भी छप चुका है। शादी के कार्ड की कीमत 3 लाख रुपए बताई जा रही है।

उधर भारतीय स्टेट बैंक के ग्राहकों के लिए जरूरी सूचना। बैंक अपने चेक बुक और बैंक खातों में जल्द ही एक बड़ा बदलाव करने जा रहा है। पहला नियम चेक बुक को लेकर के बैंक ने बनाया है जो कि 12 दिसंबर से लागू होगा।

अब ग्राहक 12 दिसंबर से पुरानी चेक बुक का इस्तेमाल नहीं कर सकेंगे। एसबीआई ने चेक बुक सरेंडर करने और नई चेक बुक जारी करने के लिए ग्राहकों को मैसेज भेजना भी शुरू कर दिए हैं। आरबीआई ने करीब 3 माह पहले बैंकों को निर्देश देते हुए कहा था कि 1 जनवरी 2019 से नॉन सीटीएस चेक बुक का प्रयोग पूरी तरह से बंद करें। आरबीआई के निर्देश के पालन में बैंक ऐसे चेक को लेना पूरी तरह से बंद करने जा रहे हैं।

एसबीआई के अलावा पंजाब नेशनल बैंक (पीएनबी) सहित अन्य बैंकों ने भी पुराने चेक बुक का इस्तेमाल करने के लिए 31 दिसंबर की तारीख घोषित कर दी है। बैंक का कहना है कि 1 जनवरी 2019 से सीटीएस चेक का इस्तेमाल ग्राहक कर सकेंगे। पुराने चेक का इस्तेमाल करने वाले ग्राहक जल्द से जल्द नई चेक बुक के लिए आवेदन कर दें, क्योंकि पुरानी चेक बुक नए साल से पूरी तरह से बेकार हो जाएगी। …


नीलमः अब समय हो गया है अगली खबर का। भारतीय किसानों की आय 2022 तक दोगुनी करने में मदद करने के लिए ऑस्ट्रेलिया का वेस्टर्न सिडनी विश्वविद्यालय (डब्ल्यूएसयू) 50 लाख ऑस्ट्रेलियाई डॉलर निवेश करने की योजना बना रहा है। साथ ही वह किसानों की आय बढ़ाने में शोध और नवाचार (इनोवेशन) का लाभ उठाने के लिए देश के विभिन्न कृषि विश्वविद्यालयों से करार करने की भी तैयारी में है।

इससे दीर्घकाल में किसानों की आय दोगुनी करने की दिशा में उल्लेखनीय योगदान मिलेगा। डब्ल्यूएसयू के कुलपति बार्नी ग्लोवर ने कहा कि यह शोध बागवानी एवं कृषि के संरक्षित फसलों और संबंधित पहलुओं के क्षेत्रों के साथ सहयोगी शिक्षण और सीखने पर केंद्रित होगा।


अनिलः इसके साथ ही आज के कार्यक्रम में जानकारी देने का सिलसिला यहीं संपन्न होता है।

अब समय हो गया है, श्रोताओं की टिप्पणी का।

पहला पत्र हमें भेजा है, दरभंगा बिहार से हमारे मॉनिटर शंकर प्रसाद शंभू ने। लिखते हैं, प्रोग्राम में बताया गया कि चीन के एक वैज्ञानिक ने दुनिया में पहली बार जेनेटिकली मॉडिफाइड यानी डिजाइनर बेबी के जन्म लेने का दावा किया है। जिससे अपनी इच्छानुसार रंग रूप के बच्चे पैदा किया जा सकता । यह आधुनिक युग का चमत्कार ही कहा जा सकता है। वहीं बॉलीवुड एक्ट्रेस व मॉडल यामी गौतम के बारे में बताया, वह 30 साल की हो चुकी हैं, हमारी ओर से उन्हें बधाई। जबकि व्हट्सएप के चीफ बिजनेस ऑफिसर द्वारा इस्तीफा दिए जाने, जापान में दादी और नानी की उम्र की महिलाओं को काले रंग के वेटसूट में दिखाई देने की बात आदि जानकारी बहुत अच्छी लगी।

श्रोताओं की टिप्पणी में तिलक राज अरोड़ा, भाई सादिक आजमी, दुर्गेश नागनपुरे, मेरा पत्र और मॉनिटर भाई सुरेश अग्रवाल का पत्र पढ़ा गया । तीनों जोक्स भी शानदार लगे। धन्यवाद शानदार प्रस्तुति के लिए।


नीलमः अब बारी है अगले पत्र की, जिसे भेजा है, बेहाला कोलकाता से प्रियंजीत कुमार घोषाल ने। लिखते हैं, पिछले प्रोग्राम में आपने जेनेटिकली मॉडीफाइड बच्चे के बारे में बताया। इसे सुनकर बहुत आश्चर्य हुआ। साथ ही बॉलीवुड एक्ट्रेस यामी गौतम के बर्थडे के बारे में बताया गया। इसके साथ ही व्हट्सएप के अधिकारी के इस्तीफे की खबर के साथ-साथ प्रोग्राम में पेश जोक्स भी शानदार थे।


अनिलः अब वक्त हो गया है, अगले पत्र का। जिसे भेजा है, जुबैल, सऊदी अरब से सादिक आजमी ने। लिखते हैं, इस बार भी कार्यक्रम का धमाकेदार तरीके से आरम्भ एक रोचक जानकारी से हुआ। विज्ञान जगत में नए शोध हमेशा आविष्कार की उत्पत्ति का माध्यम रहे हैं। इस बार तो काया ही पलटने की संभावना है। मज़ाकिया तौर पर कहा जाये तो तमाम गोरी होने वाली क्रीम्स की कंपनियों पर ताला लगने वाला है। अब हर कोई सुंदर और गोरे, काले केश वाले बच्चे को जन्म देगा। खैर भविष्य में इसके दुष्प्रभाव न हों ऐसी कामना करता हूं। वरना प्रकृति से खिलवाड़ हमेशा नुकसानदेह साबित हुआ है। वहीं बॉलीवुड एक्ट्रेस व मॉडल यामी गौतम के बारे में भी जानने को मिला।

फेसबुक विवाद के बाद अब व्हाट्सएप में तनातनी की बात सुनकर हैरानी नहीं हुई।

उधर जापान में 60 से 80 वर्ष की उम्र में मछली पकड़ती महिलाओं को भले ही किसी नाम से जाना जाता हो। मगर उनके उत्साह और कार्य के प्रति समर्पण को सलाम ज़रूर करना चाहता हूँ। इस बात से सहज अंदाज़ा लगाया जा सकता है कि जहाँ की बुजुर्ग महिलाएं इतनी कर्मठ हों। वहां के युवा कैसे होंगे।

इस बार के तीनो जोक्स गुदगुदी करने में सफल रहे। धन्यवाद। पत्र भेजने के लिए शुक्रिया।


नीलमः दोस्तो, अब समय हो गया है आज के प्रोग्राम के आखिरी खत का। जो भेजा है, केसिंगा उड़ीसा से मॉनिटर सुरेश अग्रवाल ने। लिखते हैं कार्यक्रम की शुरुआत मनचाहे शक्ल-ओ-सूरत वाले बच्चे पैदा किये जाने सम्बन्धी जानकारी से किये जाने पर, न जाने क्यों मुझे खुशी नहीं हुई। मन में तमाम तरह के प्रश्न उठे कि कहीं ऐसा करना कुदरत अथवा नैतिकता से खिलवाड़ तो नहीं होगा ? कहीं इससे इन्सानों की क्लोनिंग का ख़तरा तो शुरू नहीं हो जायेगा ? कहीं यह तकनीक वर्णसंकर का रूप तो धारण नहीं कर लेगी ? भले ही मेरा परेशान होना आपको नाहक़ लगे, परन्तु ऐसे मौके पर आम आदमी के ज़ेहन में ऐसे सवाल उठना लाज़िमी है। आख़िरकार, जेनेटिकली मॉडिफाइड बच्चे के लिये डीएनए से तो छेड़छाड़ की ही जा रही है ना !

समझ में नहीं आता कि सदर्न यूनिवर्सिटी ऑफ साइंस एंड टेक्नालॉजी ऑफ चाइना के शोधकर्ता हे जियानकुई महोदय को उनकी इस असाधारण उपलब्धि या शोधकार्य के लिये बधाई कैसे दूँ, दूँ भी या नहीं !

बॉलीवुड एक्ट्रेस व मॉडल यामी गौतम अपना 30वां जन्मदिन मना रही हैं, इसके लिये उन्हें बधाई, परन्तु क्षमा कीजियेगा उन पर दी गयी इतनी लम्बी जानकारी मुझे ज़रूरत से कुछ अधिक ही जान पड़ी। वैसे यह मेरी व्यक्तिगत राय है।

वहीं व्हट्सएप के चीफ बिजनेस ऑफिसर नीरज अरोड़ा द्वारा अपने पद से त्यागपत्र दिये जाने की घोषणा तथा अतीत में उनकी रहनुमाई में गूगल तथा फ़ेसबुक को प्राप्त उपलब्धियों का ज़िक्र किया जाना सूचनाप्रद लगा।

जानकारियों के क्रम में आगे -जापान में दादी और नानी की उम्र की महिलाओं द्वारा काले रंग के वेटसूट में ऊर्जावान नजर आने की बात काफी दिलचस्प लगी। साठ से अस्सी साल के बीच की उम्र वाली इन पेशेवर जापानी मछुआरिन महिलाओं का प्रशांत महासागर में गोता लगाकर मछली पकड़ना...वाक़ई हैरान करने वाला है।

स्वास्थ्य सम्बन्धी जानकारी में क्रिस्पर कास-9 तकनीक के ज़रिये आनुवंशिक बीमारियों के खिलाफ उम्मीद की रोशनी दिखाई देने सम्बन्धी समाचार काफी उपादेय लगा। इसके साथ ही हमारी जीवनशैली और जींस के बीच का सम्बंध भी समझ में आया।

कार्यक्रम में श्रोताओं की महत्वपूर्ण प्रतिक्रियाओं को समुचित स्थान दिये जाने के अलावा पेश तीनों ज़ोक्स भी हमें गुदगुदाने में कामयाब रहे। धन्यवाद फिर एक अच्छी सरस प्रस्तुति के लिये।

सुरेश जी पत्र भेजने के लिए शुक्रिया।


अनिलः अब समय हो गया है जोक्स का।

पहला जोक

लड़का- सुनो ज़रा..

लड़की- चुप रहो, खाना खाते वक्त बात नहीं करते..

खाने के बाद..लड़की- अब बोलो-

लड़का- अरे, तेरी प्लेट में कॉकरोच था...


दूसरा जोक..

एक पागल दूसरे पागल से- तुम किस दिन पैदा हुए थे

दूसरा पागल-इतवार के दिन

पहला पागल- तुम मुझे पागल बना रहे हो, इतवार के दिन तो छुट्टी रहती है।


तीसरा जोक.

संता समोसे को खोलकर अंदर का मसाला ही खा रहा था । बंता - अरे ! तू पूरा समोसा क्यों नहीं खा रहा ? संता - अरे मैं बीमार हुँ, इसलिये डॉक्टर ने बहार की चीज खाने से मना किया है

शेयर

सबसे लोकप्रिय

Related stories