20180412

2018-04-12 15:59:53
Comment
शेयर
शेयर Close
Messenger Messenger Pinterest LinkedIn

अनिलः प्रोग्राम की शुरुआत इस खबर से करते हैं... ब्रिटेन की डाटा एकत्रित करने वाली कंपनी कैम्ब्रिज एनालिटिका से संबंधों की मीडिया रिपोर्टों के बीच सोशल नेटवर्किंग साइट फेसबुक ने बताया कि उसने कनाडा की एक राजनीतिक कंसल्टिंग कंपनी ‘ एग्रीगेटआईक्यू ’ को अपनी सेवाएं निलंबित कर दी हैं. आरोप है कि कैम्ब्रिज एनालिटिका ने चुनावों में प्रभाव डालने के लिये करीब 8.7 करोड़ फेसबुक यूजर्स का डाटा लिया था.


कैलिफोर्निया के मेनलो पार्क स्थित फेसबुक ने कल एक बयान जारी कर कहा है कि ‘ एग्रीगेटआईक्यू ’ ने संभवत : फेसबुक यूजर्स से गलत तरीके से डाटा लिया. इसलिए ‘ एग्रीगेटआईक्यू ’ तक फेसबुक की तमाम पहुंच खत्म हो जायेगी.


अमेरिका में राष्ट्रपति चुनाव के दौरान डोनाल्ड ट्रम्प के चुनाव प्रचार अभियान के लिये कैम्ब्रिज एनालिटिका की सहायता ली गयी थी. कंपनी ने बताया कि उसे तीन करोड़ फेसबुक यूजर्स से डाटा प्राप्त हुआ , लेकिन अमेरिका में वर्ष 2016 में हुए राष्ट्रपति चुनाव प्रचार अभियान में उसने इन डाटा का इस्तेमाल कभी नहीं किया.


कई व्हिसलब्लोअर का कहना है कि ‘एग्रीगेटआईक्यू ’ ने ग्रेट ब्रिटेन को यूरोपीय संघ से बाहर करने के लिये प्रचार अभियान पर काम किया था. ‘एग्रीगेटआईक्यू ’ ने अपनी वेबसाइट पर बताया कि वह कैम्ब्रिज एनालिटिका या उसकी मूल कंपनी एससीएल का हिस्सा नहीं है. कंपनी का कहना है कि उसकी कैम्ब्रिज एनालिटिका के जरिये फेसबुका डाटा तक पहुंच नहीं थी.



नीलमः चलिए आपको बताते हैं ये जानकारी।

क्या पौधे भी आम इंसानों की तरह संवेदनशील होते हैं? इंसान की तरह हंसते मुस्कुराते हैं उन्हें भी महसूस होता है. क्या वास्तव में ऐसा होता है, जी हां ऐसा होता है ये हम नहीं कह रहे हैं बल्कि प्रभागीय वनाधिकारी कतर्नियाघाट जेपी सिंह कहते है कि उनके जंगल में ऐसे पेड़ हैं, जिनमें गुदगुदी होती है, इसलिए उन्हें गुदगुदी वाला पेड़ कहते हैं. इन पेड़ों को सहलाने से इनको गुदगुदी होती है और इनकी पत्तियां तथा डलियां हिलने लगती हैं.उत्तर प्रदेश के बहराइच जिले के प्रभागीय वनाधिकारी कतर्नियाघाट जेपी सिंह ने एनडीटीवी को बताया कि कतर्नियाघाट वन्य जीव प्रभाग के अंतर्गत ग्रास लैंड में पांच पेड़ ऐसे हैं, जो दिखने में आम पेड़ जैसे हैं लेकिन इनकी हरकत बिल्कुल भी सामान्य पेड़ों जैसी नहीं है.

इन पेड़ों को सहलाने पर इन्हें इंसानों जैसे गुदगुदी लगती है और इनमें कम्पन साफ दिखाई देता है. जैसे ही इन्हें कोई हाथों से सहलाता है, इनकी टहनियां हिलने लगती हैं. यूं तो पतझड़ होने के चलते इस समय कम्पन उतना तेज नहीं होता, जैसे पत्तियां होने पर दिखाई देता है. लेकिन इसके बावजूद भी पत्तियां न होने पर भी सहलाने पर इस पेड़ में हो रहे कम्पन से टहनियों के हिलने को साफतौर से देखा जा सकता है. उन्होंने एनडीटीवी को आगे बताया कि 550 वर्ग किलो मीटर में फैला कतर्नियाघाट का जंगल प्राकृतिक सम्पदा से काफी धनी है, इसीलिए यहां का एक स्लोगन मशहूर है कि दुर्लभ, सुलभ है. इस जंगल में आपको गिद्ध भी देखने को मिलेगा और इसकी नदियों में डॉल्फिन, घड़ियाल, मगरमच्छ और जंगल में पांच प्रकार के हिरन, तेंदुआ, चीता, हाथी और गैंडे देखने को मिल जाएंगे.


फलदार पेड़ो के साथ-साथ यहां साखू और सागौन की बड़ी तादाद है.  इस जंगल में जड़ी बूटियां भी पर्याप्त मात्रा में पाई जाती है, लेकिन जबसे गुदगुदी वाले पेड़ के बारे में पर्यटकों को पता चला है, तब से यह पेड़ सबका आकर्षण बनता जा रहा. जो लोग इसके बारे में सुनते हैं वह इसे एक बार सहलाते अवश्य हैं.



अनिलः वहीं अब आपको खेल की दुखद खबर से रूबरू करवाते हैं।

कनाडा के सस्कैचवन प्रांत में एक सड़क दुर्घटना में जूनियर आइस हॉकी टीम की बस की एक ट्रक से जोरदार भिड़ंत हो गई। जिसमें 15 लोगों की मौत हो गई और 14 अन्य घायल हैं। स्थानीय मीडिया ने शनिवार को इसकी जानकारी दी। 

यह हादसा शुक्रवार को सस्कैचवन प्रांत के टिस्डेल के उत्तर में हाइवे 35 पर यह बस और ट्रक के  टकराने की वजह से हुआ। बस में जूनियर आइस हॉकी की हमबोल्ड्ट ब्रॉन्सकोस के सदस्य थे। इसमें बस चालक समेत 28 लोग सवार थे। 

स्थानीय समय के मुताबिक, यह हादसा शाम पांच बजे हुआ। कनाडा के पीएम जस्टिन ट्रूडो ने युवा खिलाड़ियों से जुड़ी इस दुखद घटना संवेदना व्यक्त की है। उन्होंने ट्विटर  पर  लिखा, ‘मैं  कल्पना नहीं कर सकता कि उनके माता-पिता पर क्या गुजर रही होगी। हमबोल्ड्ट समुदाय और इस भयानक त्रासदी से प्रभावित सभी लोगों के प्रति मेरी संवेदना है।’

'हम्बॉल्ट ब्रॉन्कोस' टीम सस्कैचवन जूनियर हॉकी लीग में खेलती है। इसके खिलाड़ी 'निपाविन हॉक्स' के खिलाफ एक मैच खेलने के लिए जा रहे थे, जब यह हादसा हुआ। टीम के सदस्यों की सूची से पता चला कि उनकी उम्र 16 से 21 साल के बीच थी।


नीलमः सीबीआई की एक विशेष अदालत ने रविवार को हीरा कारोबारी नीरव मोदी और उसके मामा मेहुल चोकसी के खिलाफ 13,500 करोड़ रुपये के पंजाब नेशनल बैंक (पीएनबी) घोटाले में गैरजमानती वारंट जारी किया है. अदालत ने यह वारंट सीबीआई के अनुरोध पर जारी किया है. इसके पहले दोनों ने घोटाले से संबंधित जांच में शामिल होने से इनकार कर दिया था.

इस बीच, सीबीआई उन भारतीय बैंकों की विदेशी शाखाओं के अधिकारियों से पूछताछ जारी रखे हुए है, जिन्होंने पीएनबी द्वारा जारी लेटर ऑफ अंडरटेकिंग (एलओयू) के आधार पर मोदी और चोकसी की कंपनियों को कथित ऋण दिए थे. सीबीआई ने कहा कि इलाहाबाद बैंक की हांगकांग शाखा में विदेशी मुद्रा के लेनदेन को देखने वाले अधिकारी को हांगकांग से तलब किया गया था और उससे पूछताछ जारी है.


अदालत से गैरजमानती वारंट जारी होने से दोनों आरोपियों के खिलाफ इंटरपोल से रेड कॉर्नर नोटिस जारी कराने का रास्ता भी खुल गया है. इसके पहले नीरव मोदी और चोकसी के खिलाफ सीबीआई ने एक लुकआउट नोटिस जारी किया था. हालांकि मोदी अपने परिवार के साथ नोटिस जारी होने से पहले ही भारत छोड़ चुका था.


अनिलः अगर आपको..

अगर आपको ट्रेन में सफर करते वक्त हादसे का डर सताता है तो अब निश्चिंत हो जाएं। आने वाले दिनों ने ट्रेनों में प्रोटेक्शन वर्निंग सिस्टम लगाया जाएगा, जिससे वह खतरा को खुद भांप कर स्वत: ही रुक जाएगी। अभी यह सिस्टम देश की पहली सेमी हाईस्पीड ट्रेन गतिमान एक्सप्रेस में लगा है। पहली चरण में झांसी से गुजरने वाली गोवा एक्सप्रेस, जीटी एक्सप्रेस, तामिलनाडू एक्सप्रेस, दक्षिण एक्सप्रेस समेत 12 ट्रेनों को इस तकनीक से लैस किया जाएगा।

आए दिन हो रहे रेल हादसों से आम लोग और रेलवे अफसर परेशान हैं। हादसों का असर रेलवे की छवि पर भी पड़ा है। हादसों को रोकने व छवि को सुधारने के लिए रेलवे अब प्रोटेक्शन वार्निंग सिस्टम (टीपीडब्लूएस) का सहारा लेने जा रहा है। इंग्लैंड में ईजाद किए गए हाईटेक प्रोटेक्शन वॉर्निग सिस्टम से भारतीय ट्रेनों को लैस करने की तैयारी है। कारगर माने जाने वाला यह सिस्टम राह में आने वाले किसी भी खतरे को पहले ही भांप लेगा और ट्रेन खुद-ब-खुद ट्रेन रुक जाएगी। यह प्रक्रिया महज 20 सेकेंड में पूरी हो जाएगी।


इसकी शुरूआत गतिमान एक्सप्रेस से की गई है। पलवल से आगरा के बीच सिग्नल के पास ट्रांसमीटर लगाया गया है। इसके लिए गतिमान एक्सप्रेस के इंजन में रिसीवर लगाया गया है। जो ट्रांसमीटर के संपर्क में आते ही रिसीवर को सिग्नल देगा। सिस्टम में दो 30-30 मीटर के एंटीने लगे हैं, जो रेल इंजन के दोनों ओर लगे हैं। इनसे ही आगे के खतरे (पटरी टूटने, चटकने, रेड सिग्नल, पब्लिक जमा होने आदि) की जानकारी सिस्टम पकड़ लेगा। इसके बाद ट्रेन ड्राइवर को सतर्क करने के लिए तेज बीप बजेगी और महज 20 सेकेंड में ट्रेन में खुद ब खुद ब्रेक लग जाएंगे। जुलाई तक यह सिस्टम आगरा से झांसी के बीच लगाने की तैयारी है। इससे यहां से गुजरने वाली बारह ट्रेनों को भी इस सिस्टम का फायदा मिलेगा। 

टीपीडब्लूएस इंग्लैंड में शुरू की गई ट्रेन रक्षा एवं चेतावनी प्रणाली है। यह तकनीक सिग्नल पर नजर रखती है। साथ ही यह भी देखती है कि ट्रेन चालक ने सिग्नल का पालन किया या नहीं, अगर चालक ने अनदेखी की तो प्रणाली पहले इंजन में लगे बजर से चालक को चेतावनी देगी। इसके बाद भी चालक सक्रिय न हुआ तो प्रणाली अपने आप ट्रेन रोक देगी।


टीपीडब्लूएस के तहत आगरा से झांसी स्टेशन के बीच रेलवे ट्रैक पर सिग्नल के पास ट्रांसमीटर लगेगा। ट्रेन के इंजन में रिसीवर लगेगा। ट्रांसमीटर के संपर्क में आते ही रिसीवर को सिग्नल मिलेगा। उसके अनुसार रिसीवर ट्रेन की स्पीड की गणना करेगा। अगर स्पीड पांच किमी तक ज्यादा मिली तो चेतावनी देगा, लेकिन स्पीड 10 किमी ज्यादा मिली तो ट्रेन को खुद रोक देगा। रिसीवर में चालक की हरकतें भी कैद होंगी। मसलन चालक ने अगर गड़बड़ी की तो यह प्रणाली बता देगी।


नीलमः हेल्थ संबंधी जानकारी...


वहीं गर्मियों के मौसम में हर सड़क पर आपको ताज़ा और ठंडा गन्ने का रस (Sugarcane Juice) मिल जाएगा. यह जूस ना सिर्फ शरीर से गर्मी को दूर करता है बल्कि इस मौसम होने वाली कई परेशानियों में भी राहत देता है. इसीलिए इस जूस का सेवन रोजाना करें, लेकिन चिलचिलाती धूप में आने के बाद थोड़ी देर रुककर इसे पिएं. बिना बर्फ के यह जूस ज्यादा फायदेमंद होता है, क्योंकि बर्फ वाला गन्ने का रस कई लोगों के लिए सर्दी खांसी की वजह बन सकता है. यहां जानें इस रस के फायदों के बारे में. 


गन्ने में अच्छी मात्रा में काइब्रोहाइड्रेट्स, प्रोटीन, आयरन, पोटेशियम और एनर्जी ड्रिंक में मिलने वाली सभी जरूरी न्यूट्रिएंट्स होते हैं. इसी वजह से एक ग्लास गन्ने का रस आपने शरीर को एनर्जी से भर थकान खत्म कर देता है. 



अनिलः जबकि सदियों से पीलिया से पीड़ित मरीजों को गन्ने का रस दिया जाता है. क्योंकि इसका जूस पीलिया के कारण लिवर को प्रभावित करने वाला बिलीरुबिन नामक तत्व (लिवर में पाए जाने वाला भूरे-पीले रंग का द्रव्य, जो लाल रक्त कोशिकाओं के टूटने पर बनता है) को कम करता है, जिससे लिवर धीरे-धीरे मजबूत बनता है.  




जो लोग पेट में बार-बार होने वाली एसिडिटी से परेशान हों, वो इसका सेवन करें. साथ ही यह पेट में जलन में भी राहत देता है.




बच्चे हो या बड़े, बुखार से गर्म शरीर का तापमान कम करने में गन्ने का रस बड़ा फायदेमंद है, खासकर बच्चों को. यह रस शरीर में प्रोटीन की हानि को कम करता है, जिससे बुखार में आराम मिलता है. 




जल्दी बीमार पड़ना, हर वक्त थकान रहना, जरा-सी मेहनत करने से सांस फूलना और शरीर में दर्द रहने जैसी अगर दिक्कतें हो तो गन्ने का रस जरूर पिएं. यह सारे लक्षण कमजोर इम्यून सिस्टम के हैं, जिसे गन्ने का रस बूस्ट कर सकता है. 



नीलमः इसी के साथ आज के प्रोग्राम में जानकारी देने का सिलसिला यही संपन्न होता है। अब समय हो गया है श्रोताओं की टिप्पणी का। 

पहला पत्र आया है, मुक्तसर पंजाब से गुरमीत सिंह का। लिखते हैं कि बहुत-बहुत शुक्रिया कि आपने मेरा पत्र अपने प्रोग्राम में शामिल किया। साथ ही पाँच अप्रैल का टी-टाइम बहुत अच्छा लगा। इसमें पेश कहानी से लगा कि सच में प्यार की कोई सीमा या सरहद नहीं होती है। अगर जीवन साथी वफादार हो तो हर मुश्किल आसान हो जाती है।  वहीं कार्यक्रम में पेश जोक्स भी अच्छे लगे। शुक्रिया। 

गुरमीत जी हमें पत्र लिखने के लिए आपका धन्यवाद।


अनिलः अगला खत आया है बेहाला कोलकाता से प्रियंजीत कुमार घोषाल का। लिखते हैं कि मैं नियमित रूप से आपका कार्यक्रम सुनता हूं। पिछले कार्यक्रम में कराची की लड़की से मुंबई के लड़के की शादी की खबर बहुत अच्छी लगी। वहीं फिल्म की खबर रानी मुखर्जी की फिल्म हिचकी के बारे में सुना। इस फिल्म ने मर्दानी के रिकॉर्ड तोड़ डाले हैं। 

वहीं टप्परवेयर कंपनी अंतरिक्ष यात्रियों को अंतरिक्ष में आहार मुहैया करवाने वाली है। वहीं क्रिकेट कप्तान एम.एस धोनी ने एक समारोह में राष्ट्रपति जी से पुरस्कार हासिल किया। जबकि उनके साथ अन्य खिलाड़ियों को भी पुरस्कार दिया गया। शुक्रिया। 

 

नीलमः अगला पत्र हमें भेजा है जुबैल सऊदी अरब से सादिक आजमी ने। लिखते हैं " टी टाइम " का आनंद लेने के उपरांत आपकी सेवा में उपस्थित हूं। 

आरम्भ में सोशल मीडिया पर वायरल दो प्रमुख खबरों पर समीक्षा सूचनाप्रद के साथ शिक्षाप्रद लगी। एक तरफ प्यार पर भरोसा तो दूसरी तरफ इंसानियत का मान रखते पुलिसकर्मी की जितनी प्रशंसा की जाए कम है। 

आगे अंतरिक्ष में हो रही नई गतिविधियों पर आधारित रिपोर्ट में मानव के नए कीर्तिमान का पता चला, यहां पर कहना आवश्यक समझता हूं कि जिस प्रकार विश्व के वैञानिकों में अंतरिक्ष में कुछ नया करने की होड़ मची है और अरबों खरबों खर्च किए जा रहे हैं अगर उसके विपरीत ज़मीनी स्तर पर मानव हितों की रक्षा उनकी जीवनशैली में सुधार पर ध्यान केन्द्रित किया जाए तो सबसे उत्तम प्राणी होना सार्थक हेजाए,  आज जब किसी नंगे भूखे पर नज़र पड़ती है तो अंतरिक्ष में किसी नए पिंड की खोज व्यर्थ लगती है। धोनी की क्रिकेट में सेवाओं पर गौर करें तो यह सम्मान उनके लिए सटीक बैठता है। 

श्रोताओं की प्रक्रियाओं को कार्यक्रम में उचित स्थान दिया जाना उम्दा लगा, 

CRI परिवार से मेरी पूज्य माता जी को श्रद्धान्जलि प्रेषित किया जाना अपनेपन का अहसास करा गया। 

आजके तीनों जोक्स लाजवाब रहे, 

एक अच्छी प्रस्तुति पर बधाई स्वीकार करें, 


आजमी जी आपका भी शुक्रिया।


सुरेशः अब लीजिए पेश है आखिरी पत्र। जिसे भेजा है वहीं केसिंगा उड़ीसा से सुरेश अग्रवाल ने। लिखते हैं कि कार्यक्रम "टी टाइम" का आगाज़ सच्ची प्यार-मोहब्बत की बातों से किया जाना रुचिकर लगा। आपने सही फ़रमाया कि यदि प्यार सच्चा हो सरहदें भी उसे नहीं रोक सकतीं। फिर चाहे किस्सा कराची की साराह हुसैन और मुम्बई के मुस्तफ़ा दाऊद के बीच का हो या कि किसी और का, क्या फ़र्क़ पड़ता है। हाँ, सोशल का रंग चढ़ने के बाद ऐसे किस्से विशेष अवश्य बन जाते हैं। ऐसे रिश्तों में दुश्वारियां आना भी स्वाभाविक है, पर जो दृढनिश्चयी होते हैं, वे कहाँ घबराते हैं। 

अगली जानकारी में हमेशा सख्त दिखने वाली पुलिस का भीतर से नर्म होने की बात पर यही कहना चाहूंगा कि -पुलिस में इक्का-दुक्का ही ऐसे होते हैं, जिनमें इन्सानी ज़ज़्बा कूट-कूट कर भरा होता है, अन्यथा पुलिस के बारे में व्यक्त आमधारणा ग़लत नहीं है। 

फ़िल्म जगत की ख़बरों में इन दिनों चर्चा में छायी रानी मुखर्जी की फिल्म 'हिचकी' की रिकॉर्ड-तोड़ कमाई के बारे में जान कर हमारे सामान्य-ज्ञान में भी वृध्दि हुई। 

यह जानकारी हमारे लिये अत्यन्त महत्वपूर्ण थी कि घरों में इस्तेमाल होने वाली प्लास्टिक का सामान बनाने वाली कंपनी टपरवेयर अब नासा के अंतरिक्ष यात्रियों को अंतरिक्ष में ताजा आहार मुहैया कराने में भी मदद करेगी। हमने यह भी जाना कि टपरवेयर ब्रांड्स कॉरपोरेशन द्वारा अंतरिक्ष में पौधों को पानी देने का एक नया तरीका भी निकाला गया है। यह तो हमारे भारत के लिये गर्व और गौरव की बात है।

वहीं टीम इंडिया के पूर्व कप्‍तान महेंद्र सिंह धोनी को राष्‍ट्रपति रामनाथ कोविंद के हाथों देश का तीसरा सर्वोच्‍च नागरिक सम्‍मान पद्म भूषण प्राप्त होने का समाचार सुखद लगा। ज्ञात हुआ कि धोनी के अलावा बिलियर्ड्स के वर्ल्‍ड चैंपियन पंकज आडवाणी ने भी पद्म भूषण हासिल किया है। 

वहीं उत्तराखंड के रहने वाले सिद्धांत पर बचपन से दुखों के पहाड़ टूटने के बावज़ूद उनका हिम्मत न हारना सभी के लिये एक प्रेरणा है। उनके ज़ज़्बे को सलाम।

हर बार की तरह आज भी कार्यक्रम में पेश श्रोताओं की प्रतिक्रिया एवं ज़ोक्स लाज़वाब लगे। धन्यवाद प्रोग्राम की रोचकता कायम रखने के लिये।

सुरेश जी आपका भी बहुत-बहुत शुक्रिया।




.........श्रोताओं के पत्र...




अनिलः अब समय हो गया जोक्स का- पहला जोक


बारहवी के बाद B.A. करना उतना ही जरूरी है,

जितना मरने के बाद तेरहवीं करना।

.होता कुछ नहीं, बस आत्मा को शांति मिल जाती है


दूसरा जोक..

संता पेड़ पर उल्टे लटके हुए था,

बंता ने पूछा – क्या हो गया?

संता- कुछ नहीं, सिर दर्द की गोली खाई है, कहीं पेट में ना चली जाए


तीसरा जोक

माता-पिता अपने बच्चे से : हमारा राजा बेटा बड़ा होकर क्या बनेगा ?

बच्चा : बस इतना समझदार कि 3 साल के बच्चे से ये सब ना पूछूँ

शेयर

सबसे लोकप्रिय

Related stories