20180728

2018-07-30 16:33:26
Comment
शेयर
शेयर Close
Messenger Messenger Pinterest LinkedIn

28 जुलाई 2018 आपकी पसंद 

पंकज -  नमस्कार मित्रों आपके पसंदीदा कार्यक्रम आपकी पसंद में मैं पंकज श्रीवास्तव आप सभी का स्वागत करता हूं, हर बार की तरह आज के कार्यक्रम में भी हम आपको देने जा रहे हैं आश्चर्यजनक, ज्ञानवर्धक और हैतरअंगेज़ जानकारियां, साथ में आपको सुनवाएंगे आपकी पसंद के फिल्मी गाने तो शुरु करते हैं आपकी पसंद। 

अंजली श्रोताओं को अंजली का भी प्यार भरा नमस्कार, श्रोताओं हम आपसे हर सप्ताह मिलते हैं आपसे बातें करते हैं आपको ढेर सारी जानकारियां देते हैं साथ ही हम आपको सुनवाते हैं आपके मन पसंद फिल्मी गाने तो आज का कार्यक्रम शुरु करते हैं और सुनवाते हैं आपको ये गाना जिसके लिये हमें फरमाईशी पत्र लिख भेजा है, कापशी रोड अकोला महाराष्ट्र से संतोषराव बाकड़े, ज्योतिताई बाकड़े, दिपाली बाकड़े, पवनकुमार बाकड़े और समस्त बाकड़े परिवार ने आप सभी ने सुनना चाहा है फ़रेब (1996) फिल्म का गाना जिसे गाया है उदित नाराय़ण और अलका याग्निक ने गीतकार हैं नीरज और संगीत दिया है जतिन ललित ने गीत के बोल हैं ------

सांग नंबर 1.  ओ हमसफ़र 

पंकज -  न्यूयॉर्क.अमेरिकी अंतरिक्ष एजेंसी नासा अगले महीने सूर्य के वातावरण जुड़ी जानकारी जुटाने के लिए पहली बार मिशन लॉन्च करेगी। फिलहाल इसकी लॉन्चिंग के लिए 6 अगस्त की तारीख तय की गई है। जिस स्पेसक्राफ्ट को सूर्य के करीब भेजा जाएगा, उसे अमेरिकी वैज्ञानिक यूजीन न्यूमैन पार्कर के नाम पर पार्कर सोलर प्रोबनाम दिया गया है। 9 फीट 10 इंच लंबे और 612 किलो वजन वाले इस स्पेसक्राफ्ट को फ्लोरिडा स्थित केप केनवेरल से लॉन्च करने की तैयारियां आखिरी चरण में है। इसके जरिए वैज्ञानिक सूर्य से निकलने वाली किरणों और उनसे पैदा होने वाले सौर आंंधी पर शोध करना चाहते हैं।

नासा इस सात वर्षीय मिशन में 1.5 अरब डॉलर (करीब 10 हजार करोड़ रुपए) खर्च कर रहा है। स्पेसक्राफ्ट सूर्य की कक्षा तक 2024 में पहुंचेगा, जिसके बाद ये 1 साल तक सूर्य के करीब रहकर अलग-अलग जानकारियां जुटाएगा। नासा इस यान को सूर्य से सिर्फ 61 लाख किलोमीटर की दूरी पर स्थापित करेगा। इससे पहले सूर्य की सबसे करीबी दूरी से 1976 में हिलियोस-2 नाम का यान गुजरा था। हालांकि, वो भी सूर्य से करीब 4.3 करोड़ किमी की दूरी से निकला था यानी पार्कर प्रोब उसके मुकाबले सूर्य से 7 गुना ज्यादा करीब रहेगा।

 

अंजली – मित्रों हमारे अगले श्रोता हैं व्यापारी कॉलोनी, नेपानगर से सुदर्शन शाह, रुद्रेश शाह, सुरभि शाह, अर्जुनदाराजी शाह, राजेन्द्रजी शाह, सुभद्राबेन शाह, मंगलाबेन शाह, रामगोपाल विश्वकर्मा, मृत्युंजय संतोष, मनोहर, रमेश, शांताराम और लीलाधर इनके साथ ही हमें पत्र लिखा है असालतपुरा, मुरादाबाद उत्तर प्रदेश से मोहम्मद फरीद अंसारी, बिलाल, जुबैर अंसारी, करुला मुरादाबाद से मेराज अंसारी और करीम अंसारी ने आप सभी ने सुनना चाहा है फिल्म प्रेम पुजारी (1970) का गाना जिसे गाया है किशोर कुमार और भूपिन्दर, गीतकार नीरज और संगीत दिया है सचिन देव बर्मन ने गीत के बोल हैं ------

सांग 2. यारों नीलाम करो सुस्ती .....

पंकज -  सूर्य के करीब कैसे पहुंचेगा नासा का स्पेसक्राफ्ट?
नासा के लिए ये अपनी तरह का अलग मिशन है, क्योंकि सूर्य के आसपास गर्म तापमान क्षेत्र में पहुंचते ही कोई भी स्पेसक्राफ्ट पिघल सकता है। शुक्रवार को न्यूज कॉन्फ्रेंस में प्रोजेक्ट से जुड़ी वैज्ञानिक निकोला फॉक्स ने बताया कि पार्कर सोलर प्रोब को गर्मी और रेडिएशन से बचाने के लिए इसमें कार्बन की बनी हीट शील्ड्स लगाई गई हैं, जो इसके उपकरणों को गर्म से गर्म तापमान में भी 29 डिग्री सेल्सियस पर स्थिर रख सकता है। वैज्ञानिकों का अनुमान है कि सूर्य के इतना करीब स्पेसक्राफ्ट को 1370 डिग्री सेल्सियस तक का तापमान झेलना पड़ेगा।

क्या काम करेगा पार्कर सोलर प्रोब?
-
नासा का ये स्पेसक्राफ्ट सूर्य तक करीब 7 लाख किलोमीटर प्रतिघंटा की रफ्तार से पहुंचेगा। पृथ्वी पर इस रफ्तार से सिर्फ 7 सेकंड में दिल्ली से मुंबई तक की दूरी तय की जा सकती है। सूर्य की कक्षा में स्थापित होने के बाद पार्कर सोलर प्रोब सूर्य की किरणों और उससे उठने वाले सौर हवाओं की जांच करेगा। सौर हवाएं पृथ्वी से करोड़ों किलोमीटर प्रतिघंटे की रफ्तार से गुजरती हैं और अंतरिक्ष का तापमान बदलने में इनकी अहम भूमिका है। इनके चलते पृथ्वी का तापमान भी प्रभावित होता है। 

अंजली – हमारे अगले श्रोता हैं खुरजा, उत्तर प्रदेश से तिलकराज अरोड़ा, प्रकाश अरोड़ा, चंदन अरोड़ा, अंकुश अरोड़ा इनके साथ हमें पत्र लिखा है कवाई सालपुरा स्टेशन राजस्थान से राधेश्याम बागरी, बद्रीलाल बागरी और लक्ष्मीनारायण बागरी ने आप सभी ने सुनना चाहा है फिल्म शर्मीली (1971) का गाना जिसे गाया है लता मंगेशकर ने गीतकार हैं नीरज और संगीत दिया है सचिन देव बर्मन ने गीत के बोल हैं -----

सांग नंबर 3. मेघा छाए आधी रात .....


पंकज -  अंतरिक्ष का तापमान आम लोगों के लिए नया है, लेकिन वैज्ञानिक मानते हैं कि इसकी वजह से पृथ्वी को बिना किसी चेतावनी के 2 खरब डॉलर्स से भी ज्यादा का नुकसान उठाना पड़ सकता है। साथ ही इसकी वजह से दुनियाभर के कई देशों में 1 साल या उससे ज्यादा समय के लिए बिजली पूरी तरह से खत्म हो सकती है।

 -----------------------------------------------------------------------------------

पंकज -  आयरनमैन की तरह उड़ने के लिए लंदन में बना सूट, तीन करोड़ रुपए में बेचने की तैयारी

सूट की रफ्तार 50 किमी/घंटे, 12 हजार फीट की ऊंचाई तक जाने की क्षमता

 

लंदन. यहां एक ऐसा सूट तैयार किया गया है, जिसे पहनकर आयरनमैन की तरह उड़ा जा सकता है। यह सूट ब्रिटेन के इन्वेन्टर और आंत्रप्रेन्योर रिचर्ड ब्राउनिंग ने बनाया है। अब वे इसे बेचने की तैयारी कर रहे हैं। उन्होंने इसकी कीमत 4.42 लाख डॉलर (करीब तीन करोड़ चार लाख रुपए) तय की है।

ब्राउनिंग का दावा है कि यह करीब 50 किलोमीटर/घंटे की रफ्तार से दूरी तय करता है। इसकी मदद से 12 हजार फीट की ऊंचाई तक उड़ा जा सकता है। सूट को पांच जेट इंजन, खास तकनीक और 3डी प्रिंटेड पार्ट्स से बनाया गया है।

अंजली – हमारे अगले श्रोता हैं लालूचक, भागलपुर, बिहार से विष्णु कुमार चौधरी, श्रीमती गायत्री देवी, आरती कुमारी, सागर और बादल आप सभी ने सुनना चाहा है फिल्म विरासत (1997) का गाना जिसे गाया है कुमार शानू और चित्रा ने गीतकार हैं जावेद अख्तर और संगीत दिया है अन्नू मलिक ने गीत के बोल हैं ------

सांग 4. पायलें छुनमुन छुनमुन .......

 

पंकज-  पिता से परदादा तक सबका विमान से नाता : लंदन शहर में तेल का कारोबार करने वाले ब्राउनिंग के मुताबिक, "मेरे पिता हवाई जहाज कंपनी में इंजीनियर थे। दादा पायलट और परदादा हेलीकॉप्टर बनाते थे। आयरनमैन मूवी देखने के बाद मैंने वैसा ही सूट बनाने की कोशिश शुरू कर दी। पहले जेट विमान की तरह सूट बनाने की कोशिश की, लेकिन कामयाबी नहीं मिली। इसके बाद पांच जेट इंजन इस्तेमाल किए, जो हवा में उड़ते वक्त संतुलन बनाए रखते हैं।"

सेना के लिए इस्तेमाल हो सकता है :ब्राउनिंग का मानना है, यह सूट सेना के लिए मददगार हो सकता है। दरअसल, इससे उन जगहों पर जाया जा सकता है, जहां विमान या हेलिकॉप्टर का जाना नामुमकिन है। ब्राउनिंग ने अब इस सूट को बनाने के लिए कंपनी भी बना ली है जिसका नाम ग्रैविटी रखा है।

अंजली – ये पत्र हमारे पास आया है आज़ाद नगर, लक्सर, हरिद्वार, उत्तराखंड से जिसे लिखा है ताज मोहम्मद अंसारी, गुलाम साबिर राही, मेहराज जहां आपने सुनना चाहा है फिल्म खुदगर्ज़ (1987) का गाना जिसे गाया है मोहम्मद अज़ीज़ और साधना सरगम ने गीतकार हैं फारूख कैसर और संगीत दिया है राजेश रौशन ने गीत के बोल हैं ---------

सांग 5. मय से मिना से ना साकी से ....

 

पंकज -  यहां से खरीदा जा सकता है सूट : ब्राउनिंग ने 1050 हॉर्स पावर वाले इस सूट को लंदन के एक डिपार्टमेंटल स्टोर में बिक्री के लिए रखा है। इसे खरीदने के लिए कुछ लोग संपर्क भी कर चुके हैं। ब्राउनिंग इस सूट से उड़ान का प्रदर्शन कई कार्यक्रमों में कर चुके हैं। इसके अलावा ग्रैविटी के ट्विटर, इंस्टाग्राम और फेसबुक अकाउंट पर भी इस सूट के वीडियो देखे जा सकते हैं। ब्राउनिंग को भरोसा है कि भविष्य में लोग हवाई जहाज के बगैर खुद ही उड़ सकेंगे।

अंजली – ये अगला पत्र हमारे पास आया है हरिपुरा झज्जर हरियाणा से जिसे लिख भेजा है प्रदीप वधवा, आशा वधवा, गीतेश वधवा, मोक्ष वधवा, निखिल वधवा और यश वधवा ने आपने सुनना चाहा है फिल्म इस रात की सुबह नहीं (1996) का गाना जिसे गाया है चित्रा ने गीतकार हैं निदा फाज़ली और संगीत दिया है एम एम क्रिम ने गीत के बोल हैं-------

सांग 6. दुश्मनी होगी ....

पंकज -  तो मित्रों इसी के साथ हमें आज का कार्यक्रम समाप्त करने की आज्ञा दीजिये अगले सप्ताह आज ही के दिन और समय पर हम एक बार फिर आपके सामने लेकर आएंगे कुछ नई और रोचक जानकारियां साथ में आपको सुनवाएँगे आपकी पसंद के फिल्मी गीत तबतक के लिये नमस्कार।

अंजली - नमस्कार। 

 

 

 

 

शेयर

सबसे लोकप्रिय

Related stories