20180630

2018-07-02 16:50:18
Comment
शेयर
शेयर Close
Messenger Messenger Pinterest LinkedIn

30 जून 2018 आपकी पसंद

 

पंकज -  नमस्कार मित्रों आपके पसंदीदा कार्यक्रम आपकी पसंद में मैं पंकज श्रीवास्तव आप सभी का स्वागत करता हूं, हर बार की तरह आज के कार्यक्रम में भी हम आपको देने जा रहे हैं आश्चर्यजनक, ज्ञानवर्धक और हैतरअंगेज़ जानकारियां, साथ में आपको सुनवाएंगे आपकी पसंद के फिल्मी गाने तो शुरु करते हैं आपकी पसंद।

 

अंजली श्रोताओं को अंजली का भी प्यार भरा नमस्कार, श्रोताओं हम आपसे हर सप्ताह मिलते हैं आपसे बातें करते हैं आपको ढेर सारी जानकारियां देते हैं साथ ही हम आपको सुनवाते हैं आपके मन पसंद फिल्मी गाने तो आज का कार्यक्रम शुरु करते हैं और सुनवाते हैं आपको ये गाना जिसके लिये हमें फरमाईशी पत्र लिख भेजा है, ग्राम रामदेवरा, जैसलमेर राजस्थान से दिनेश चौहान, हस्तीसिंह चौहान और इनके साथियों ने आप सभी ने सुनना चाहा है फिल्म राजा हिन्दुस्तानी (1996) का गाना जिसे गाया है अलका याग्निक और कुमार शानू ने गीतकार हैं समीर और संगीत दिया है नदीम श्रवण ने गीत के बोल हैं -------

सांग नंबर 1. पूछो ज़रा पूछो मुझे क्या हुआ है ......

 

पंकज -  मंगल ग्रह की कुछ रोचक बातें

मंगल ग्रह पर चल रही अनेकों खोजों के बारे में तो आप जानते ही होंगे। ये बात भी शायद आप जानते हों कि सौरमंडल में सूर्य से चौथा ग्रह मंगल को लाल ग्रह भी कहा जाता है। लेकिन इस ग्रह से जुड़ी कई बातें ऐसी हैं जो रोचक हैं। आज हम आपको मंगल ग्रह से जुड़ी ऐसी ही कुछ बातें बताने जा रहे हैं जिन्हें जानकर आप एक बार को सोचने पर मजबूर हो जाएंगे कि क्या वाकई में ये सच है.... सालभर रहता है धूल भरा वातावरण। मंगल ग्रह पृथ्वी से केवल छोटा नहीं है बल्कि इसकी सतह का गुरुत्वाकर्षण भी पृथ्वी का लगभग 38 प्रतिशत है। यानि अगर आपका वजन धरती पर 100 किलो है तो मंगल पर कम गुरुत्वाकर्षण के कारण आपका वजन मात्र 37 किलो ही रह जाएगा।

 

अंजली – मित्रों हमारे एक नए श्रोता गुरमीत सिंह ने हमें पत्र लिखा है ये पत्र इन्होंने मुक्तसर पंजाब से लिखा है और हमसे 1942 A Love Story का गाना सुनवाने की फरमाईश की है। जिसे गाया है कुमार शानू ने गीतकार हैं जावेद अख्तर और संगीत दिया है राहुल देव बर्मन ने गीत के बोल हैं --------

 

सांग नंबर 2. रूठ न जाना तुमसे कहूं तो .......

 

 

पंकज -  मंगल पर एक ज्वालामुखी है जिसका नाम है ओलंपस मून। वैज्ञानिकों का मानना है कि ये आज भी सक्रिय है। यह ज्वालामुखी लगभग 27.3 किलोमीटर ऊंचा है। इसकी ऊंचाई पृथ्वी के हवाई स्थित सबसे ऊंचे ज्वालामुखी मौन की और माउंट एवरेस्ट से लगभग 3 गुना ज्यादा है। उदाहरण के तौर पर ये ज्वालामुखी उतनी ही जगह में फैला है जितनी जगह में पूरा फ्रांस है। यह माना जाता है कि इटली के खगोलविद गैलीलियो गैलीली ऐसे पहले व्यक्ति थे जिन्होंने पहली बार पृथ्वी से मंगल को देखा था। उन्होंने साल 1609 में एक प्राचीन दूरबीन की सहायता इस ग्रह को देखा। इसके बाद साल 1659 में डच के खगोलविद ने एक उन्नत दूरबीन का उपयोग कर मंगल ग्रह देखा।

अंजली – कार्यक्रम में हमारे अगले श्रोता भी नए श्रोता हैं निर्मली सुपौल, बिहार से शत्रुघन महतो, अनिता देवी, मुस्कान, अमित, पायल और कृष्णा आप सभी ने सुनना चाहा है फिल्म आशा (1980) का गाना जिसे गाया है लता मंगेशकर ने गीतकार हैं कैफ़ी आज़मी और संगीत दिया है लक्ष्मीकांत प्यारेलाल ने गीत के बोल हैं --------

 

सांग नंबर 3. शीशा हो या दिल हो टूट जाता है ......

 

पंकज -  मंगल ग्रह के बारे में एक अनोखी बात ये भी है कि यह ग्रह पृथ्वी से ज्यादा छोटा, शुष्क और ठंडा है। वैज्ञानिकों ने दावा किया है कि मंगल पर एक साल पृथ्वी के 687 दिनों के बराबर है। इसके अलावा यहां कुछ बातें ऐसी है जो उसे पृथ्वी जैसा ही बनाती हैं। जैसे यहां ज्वालामुखी है, घाटी है और चार मौसम भी हैं। ये मौसम पृथ्वी से ज्यादा लंबे होते हैं। एक तरफ जहां मंगल और पृथ्वी में बहुत सी समानताएं हैं वहीं एक बहुत बड़ी असमानता भी है और वह यहां की हवा। मंगल की ज्यादातर हवा जहरीली है जिसमें बड़ी संख्या में कार्बल डाइऑक्साइड घुली होती है। यहां ऑक्सीजन की मात्रा केवल 0.13 फीसदी ही है।मंगल सूखा और धूलदार ग्रह है। इसकी सतह चट्टानी है और यहां आसमान का रंग नीला नहीं बल्कि लाल है।

अंजली – मित्रों कार्यक्रम में हमारे अगले श्रोता हैं युनिवर्स यूथ क्लब बाजिदपुर चंग्वारा, पोस्ट लहदो, दरभंगा बिहार से शंकर प्रसाद शंभू, टुन्ना, अजित कुमार आलोक, अर्चना आलोक, अल्पना आलोक, कल्पना आलोक, विश्वनाथ मुखिया, मनीष कुमार मुखिया ने इनसे साथ ही हमें पत्र लिखा है ग्राम बलिया, पोस्ट अफजला, दरभंगा बिहार से मोहम्मद मेराज आलम, समर, सदफ़, तोहफ़ा, शबनम, नेमत और अरशद ने आप सभी ने फिल्म बाज़ार (1982) का गाना सुनने की फ़रमाईश की है जिसे गाया है लता मंगेशकर ने गीतकार हैं मीर तकी मीर और संगीत दिया है ख़ैय्याम ने गीत के बोल हैं -----

 

सांग नंबर 4. दिखाई दिने यूं के बेखुद किया .....

 

पंकज -  कई बार तो ऐसा होता है कि विशाल धूल भरा तूफान महीनों चलता है जो पूरे ग्रह को कवर कर लेता है।प्रकृति का एक अजूबा यह भी है कि मंगल में पृथ्वी के मुकाबले एक दिन में 40 मिनट अधिक होते हैं। हमारी धरती पर तो केवल एक ही चांद है लेकिन मंगल पर एक नहीं बल्कि दो चांद हैं। जिनके नाम हैं फोबोस और डिमोस।माना जाता है कि मिस्र की राडधानी काहिरा का नाम मंगल ग्रह के बाद ही पड़ा है। इस शहर को आधिकारिक तौर पर अल-काहिराह कहा जाता है। जिसका अर्थ है वानक्विशर या विजेता। कहा जाता है कि ये नाम अर-नजल अल-काहिर से निकला है जो लाल ग्रह का अरबी नाम है। वैज्ञानिकों का मानना है कि अगले 2-4 करोड़ वर्षों में मंगल ग्रह का सबसे बड़ा चंद्रमा फोबस गुरुत्वाकर्षण बल से अलग हो जाएगा। जिसके बाद यह एक तरह का घेराव बनाएगा जो करीब 10 करोड़ वर्षों तक टिक सकता है।

 

अंजली – हमारे एक पुराने श्रोता हैं जिनका नाम है अनामदर्शी मसीह, अनाम जी ने जिनका पता बुद्ध रेडियो श्रोता संघ, आंबेडकर कॉलोनी, पोस्ट उमरी, ज़िला भिंड, मध्यप्रदेश है ने हमें पत्र लिखकर ये शिकायत की है कि हम आपसे जो गाना सुनवाने को कहते हैं आप वो नहीं बल्कि कोई और गाना सुनवाते हैं, तो अनाम जी आप जो गाने लिखकर भेजते हैं हम आपको वही गाना सुनवाते हैं और इस पत्र में आपने सिर्फ़ शिकायत लिख भेजी है लेकिन अपनी पसंद का गाना नहीं लिखा, अगली बार आप अपनी पसंद का गाना लिख भेजिये हम उसे आपको ज़रूर सुनवाएंगे। इसी के साथ हमें एक और श्रोता ने पत्र लिखा है अपने फरमाईश लिख भेजी है लेकिन इन्होंने न तो अपना नाम लिखा है और न ही पता खैर हम आपकी फरमाइश का गाना आपको ज़रूर सुनवाने जा रहे हैं, फिल्म का नाम है बरसात की रात (1960), गायिका हैं लता मंगेशकर गीतकार हैं साहिर लुधियानवी और संगीत दिया है रौशन ने गीत के बोल हैं -----

सांग नंबर 5. मुझे मिल गया बहाना तेरी दीद का ....

 

पंकज -  नासा के अनुसार साल 2003 तक मंगल पृथ्वी से 3.5 मील की दूरी पर स्थित था। यह करीब 60,000 वर्षों में पृथ्वी के इतना करीब आया है। साल 2287 तक ऐसा होना बंद नहीं होगा।मंगल की सतह चट्टानी है, जिसके खिसकने की घटनाएं आम तौर पर होती रहती हैं। यहां की सूखी और पथरीली सतह की तस्वीर देखते ही ग्रह पर अनोखे वातावरण का अनुभव कराती हैं। वैज्ञानिकों का यह भी कहना है कि मंगल ग्रह पर सौरमंडल का सबसे बड़ा पर्वत है। यहां की घाटियां भी इतनी बड़ी हैं कि यदि यह पृथ्वी पर होतीं तो न्यूयॉर्क से लेकर लॉस एंजिल्स तक फैली होतीं।गर्मियों में यहां सबसे ज्यादा तापमान -27 डिग्री सेल्सियस होता है। वहीं सर्दियों के समय में यहां का तापमान -133 डिग्री सेल्सियस तक पहुंच जाता है।अगर हम पृथ्वी की तुलना सौरमंडल के अन्य ग्रहों से करें तो उनमें मंगल ही एक ऐसा ग्रह जिसमें काफी कुछ पृथ्वी के समान है। इसी कारण से मंगल पर अभियान लगातार तेज हो रहे हैं। यहां जीवन की तलाश की जा रही है। मंगल पर इतनी सारी जानकारी के अलावा अब वैज्ञानिकों का उद्देश्य ये पता करना है कि क्या यहां जीवन संभव है या नहीं और क्या कभी लोग यहां आकर रह सकते हैं।

अंजली – हमारे अगले श्रोता हैं राजेश कुमार मेहरा, नंदकिशोर, विनोद, अर्जुन, दुर्गाशंकर, सिकंदर, राहुल, चंदू, देवराज, लक्ष्य और पूरे ग्राम वासी, आप सभी ने हमें पत्र लिखा है बकानी खुर्द, पोस्ट आँवली कलाँ, भवानी मंडी, जिला झालावाड़, राजस्थान से आप सभी ने सुनना चाहा है फिल्म दिल का क्या कसूर (1992) का गाना जिसे गाया है कुमार शानू और आशा भोंसले ने गीतकार हैं मदन पाल और संगीत दिया है नदीम श्रवण ने गीत के बोल हैं ------

सांग नंबर 6. मिलने की तुम कोशिश करना .....

पंकज -  तो मित्रों इसी के साथ हमें आज का कार्यक्रम समाप्त करने की आज्ञा दीजिये अगले सप्ताह आज ही के दिन और समय पर हम एक बार फिर आपके सामने लेकर आएंगे कुछ नई और रोचक जानकारियां साथ में आपको सुनवाएँगे आपकी पसंद के फिल्मी गीत तबतक के लिये नमस्कार।

अंजली - नमस्कार। 

 

 

 

 

शेयर

सबसे लोकप्रिय

Related stories