20180421

2018-05-02 14:41:04
Comment
शेयर
शेयर Close
Messenger Messenger Pinterest LinkedIn

21 अप्रैल 2018 आपकी पसंद 

पंकज -  नमस्कार मित्रों आपके पसंदीदा कार्यक्रम आपकी पसंद में मैं पंकज श्रीवास्तव आप सभी का स्वागत करता हूं, हर बार की तरह आज के कार्यक्रम में भी हम आपको देने जा रहे हैं आश्चर्यजनक, ज्ञानवर्धक और हैतरअंगेज़ जानकारियां, साथ में आपको सुनवाएंगे आपकी पसंद के फिल्मी गाने तो शुरु करते हैं आपकी पसंद। 

अंजली श्रोताओं को अंजली का भी प्यार भरा नमस्कार, श्रोताओं हम आपसे हर सप्ताह मिलते हैं आपसे बातें करते हैं आपको ढेर सारी जानकारियां देते हैं साथ ही हम आपको सुनवाते हैं आपके मन पसंद फिल्मी गाने तो आज का कार्यक्रम शुरु करते हैं और सुनवाते हैं आपको ये गाना जिसके लिये हमें फरमाईशी पत्र लिख भेजा है, प्रियरंजित कुमार घोषाल और इनके परिजनों ने आप सभी ने हमें पत्र लिखा है रॉय बहादुर रोड, बेहाला, कोलकाता, पश्चिम बंगाल से आप सभी ने सुनना चाहा है फिल्म टाइगर ज़िंदा है (2017) का गाना जिसे गाया है आतिफ़ असलम ने गीतकार हैं इरशाद कामिल और संगीत दिया है विशाल-शेखर और गीत के बोल हैं ------- 

सांग नंबर 1.  दिल दियां गल्लां ..... 

पंकज -  देश में पहली बार तारों पर चलेगी पॉड टैक्सी, गड़करी बोले- डेढ़ महीने में शुरू हो जाएगा दिल्ली-गुड़गांव प्रोजेक्ट पर काम

पॉड टैक्सी 4 से 6 सीटर ऑटोमेटिक व्हीकल है, इसे बिना ड्राइवर और कंडक्टर के ऑपरेट किया जाता है।

गुड़गांव... दिल्ली के धौलाकुआं से मानेसर तक मेट्रिनो पॉड टैक्सी का काम डेढ़ महीने में शुरू हो जाएगा। यह टैक्सी तारों के जरिए हवा में चलेगी। इसके लिए तीन कंपनियों के टेंडर आ चुके हैं। इन पर मंथन चल रहा है। केंद्रीय सड़क परिवहन मंत्री नितिन गडकरी ने यह जानकारी गुड़गांव में एक निजी कार्यक्रम के दौरान दी। साथ ही उन्होंने कहा कि सरकार दिल्ली-जयपुर, दिल्ली-चंडीगढ़ रूट पर डबल डेकर बस चलाने पर भी विचार कर रहा है, इसमें फ्लाइट की तरह सुविधाएं मिलेंगी।

कैसी होती है पॉड टैक्सी ?

- पॉड टैक्सी 4 से 6 सीटर ऑटोमेटिक व्हीकल है, इसे बिना ड्राइवर और कंडक्टर के ऑपरेट किया जाता है। गुड़गांव में ये एक तरह से ऑटो रिक्शा का काम करेगी। इसमें सफर करते हुए न तो रेड सिग्नल मिलेगा और न ही ट्रैफिक जाम।

 

अंजली – कार्यक्रम में हमें अगला पत्र लिख भेजा है तौसीफ़ शोकी, छोटी, गुड्डी, सजा बानो और मोहम्मद अकबर ने आपने हमें पत्र लिखा है दरवेश बाग, बारामूला, कश्मीर से और सुनना चाहा है फिल्म wanted (1984) का गाना जिसे गाया और संगीत से सजाया है बप्पी लाहिरी ने गीत के बोल हैं -----

 

सांग नंबर 2.  राही हूं मैं कहां मेरी मंज़िल .....

पंकज - यह चार्जेबल बैटरी से चलती है यानी पेट्रोल-डीजल की जरूरत नहीं होगी। आमतौर पर यह दो तरह की होती है- ट्रैक रूट पर चलने वाली और केबिल के सहारे हैंगिग पॉड। जापान में इसका खूब चलन है।

- टैक्सी पूरी तरह से कम्प्यूटर सिस्टम से चलती है। इसमें बैठने के बाद मुसाफिरों को टचस्क्रीनपर उस जगह का नाम टाइप करना होता है जहां उन्हें जाना है। तय स्टेशन आते ही टैक्सी रुकती है और गेट अपने आप खुल जाते हैं।

पॉड टैक्सी के लिए कितना बजट ?

- इसके दिल्ली-गुड़गांव प्रोजेक्ट के लिए मोदी सरकार ने 5000 करोड़ का बजट तय किया है। यहां करीब 1100 पॉड चलाने का लक्ष्य है। पिछले साल नितिन गडकरी ने पिछले साल जापान की तर्ज पर इस प्रोजेक्ट का एलान किया था।

पॉड टैक्सी की जरूरत क्यों पड़ी ?
-
दिल्ली और गुड़गांव के ज्यादातर अंदरूनी इलाके बस और मेट्रो ट्रेन की पहुंच से दूर हैं, लेकिन पॉड टैक्सी शहर के कोने-कोने में पहुंच सकती है। यानी यात्रियों को आगे बेहतर कनेक्टिविटी मिलेगी।

 

अंजली -  कार्यक्रम में अगला पत्र हमारे पास आया है ग्राम बांका ए खुर्द, झालावाड़, राजस्थान से जिसे लिख भेजा है क्लासिक रेडियो श्रोता संघ के अध्यक्ष राजेश मेहरा और इनके ढेर सारे साथियों ने आप सभी ने सुनना चाहा है फिल्म मोहब्बत (1985) का गाना जिसे गाया है किशोर कुमार ने और संगीत से सजाया है बप्पी लाहिरी ने गीत के बोल हैं ------

सांग नंबर 3.  सांसों से नहीं .....

 

पंकज -  पीआरटी कॉरिडोर के लिए भी हो चुका है एलान

- बता दें कि दिल्ली से गुड़गांव के बीच 60 किलोमीटर लंबा पीआरटी कॉरिडोर बनना है। पायलट प्रोजेक्ट के तौर पर पहले इसे गुड़गांव के राजीव चौक से सोहना रोड के बीच बनाया जाएगा। पीआरटी कॉरिडोर पर पॉड इलेक्ट्रिक टैक्सियां चलेंगी। ये रोपवे की तरह तारों के जरिए हवा में चलती हैं।

- इस टैक्सी का किराया मेट्रो किराए के आसपास ही रखा जा सकता है। फिलहाल, पीआरटी के तहत 24 घंटे सर्विस देने की योजना है। गडकरी देश में 100 स्थानों पर पीआरटी कॉरिडोर बनाने की बात कह चुके हैं। पहाड़ी इलाकों में भी ऐसे कॉरिडोर बनाए जाएंगे। 

पंकज -  टॉइलट में लगे हैंड ड्रायर से गंभीर बीमारियों का खतरा: स्टडी 

अगर आप भी पब्लिक टॉइलट्स में हाथ धोने के बाद हाथ सुखाने के लिए हैंड ड्राअर का इस्तेमाल करते हैं तो आपको ऐसा करना तुरंत बंद कर देना चाहिए। दरअसल, हाल ही में हुई एक स्टडी में इस बात का खुलासा हुआ है कि बाथरूम हैंड ड्राअर आपके हाथों को सुखाने के साथ-साथ पहले से ज्यादा गंदा कर देते हैं। 

अंजली – ये अगला पत्र मैं उठाने जा रही हं हमारे श्रोता का जिन्होंने हमें पत्र लिखा है ग्राम सगोरिया, तहसील शामगढ़, ज़िला मंदसौर, मध्यप्रदेश से, आप हैं श्याम मेहर, निकिता मेहर, आयुष, संगीता, ललिता, दुर्गाबाई और पूरा मेहर परिवार आप सभी ने सुनना चाहा है फिल्म कब्ज़ा (1988) का गाना जिसे गाया है अनुपमा देशपांडे और किशोर कुमार ने गीतकार हैं आनंद बख्शी और संगीत दिया है राजेश रौशन ने गीत के बोल हैं ------

सांग नंबर 4. तुमसे मिले बिना चैन आता नहीं है ....


पंकज -  ऐप्लाइड ऐंड इन्वाइरनमेंटल माइक्रोबायॉलजी नाम के जर्नल में प्रकाशित इस स्टडी के नतीजे बताते हैं कि बाथरूम हैंड ड्राअर के सामने महज 30 सेकंड के लिए रखी गई प्लेट्स पर 18 से 60 बैक्टीरिया पाए गए। इस स्टडी के ऑथर्स ने बताया कि यह नतीजे इस बात की ओर इशारा करते हैं कि कई बैक्टीरिया जिसमें पैथोजन और स्पोर्स जैसे बैक्टीरिया भी शामिल हैं वे हैंड ड्राअर के नीचे हाथ रखने पर आपके हाथों पर चिपक जाते हैं।स्टडी के ऑथर ने पाया कि वैसे तो ड्राअर के नॉजल यानी टोंटी पर बैक्टीरिया का लेवल बेहद कम था लिहाजा और ज्यादा सबूतों की जरूरत है इस बात को साबित करने के लिए हैंड ड्राअर से बैक्टीरिया को खुद-ब-खुद आश्रय मिल रहा है या फिर ड्राअरटॉइलट की दूषित हवा को बड़ी मात्रा में हाथों पर फैलाता है।

अंजली -  मित्रों कार्यक्रम में हमारे अगले श्रोता हैं गुलशन रेडियो श्रोता संघ के शकील अहमद इदरीसी, पप्पू भाई इदरीसी इशरत जहां इदरीसी और इनके ढेर सारे मित्र आपने हमें पत्र लिख भेजा है कस्बा हाफ़िज़गंज, ज़िला बरेली उत्तर प्रदेश से और सुनना चाहा है फिल्म दिल (1990) का गाना जिसे गाया है उदित नारायण और अनुराधा पौडवाल ने गीतकार हैं समीर और संगीत दिया है आनंद मिलिंद ने गीत के बोल हैं -----

 

सांग नंबर 5. हम प्यार करने वाले .....

 

ऐसा इसलिए कहा जा रहा है क्योंकि टॉइलट की हवा में शौच के तत्व और यूरिन की छोटी-छोटी बूंदें मौजूद हो सकती हैं।स्टडी के लीड ऑथर पीटर सेटलो ने कहा, 'टॉइलट की जितनी ज्यादा हवा फैलेगी, उतना ही ज्यादा बैक्टीरिया आपके हाथों पर शरीर के बाकी हिस्सों पर चिपकेगा और टॉइलट में कितने ज्यादा बैक्टीरिया होते हैं यह बताने की जरूरत नहीं। ऐसे में अगर मैं ऐसा व्यक्ति जिसका इम्यून सिस्टम कमजोर है और मैं जल्दी बीमार पड़ जाता हूं तो मुझे बैक्टीरिया के प्रति अपना एक्सपोजर जितना हो सके उतना कम करना चाहिए। लिहाजा मैंने हैंड ड्राअर्स का इस्तेमाल करना बंद कर दिया है।हालांकि स्टडी में यह बात भी कही गई है कि कुछ हैंड ड्राअर्स जिसमें अलग-अलग तरह के फिल्टर्स लगे होते हैं जैसे- HEPA फिल्टर्स तो इस तरह के हैंड ड्राअर्स बैक्टीरिया को कुछ हद तक रोक सकते हैं। 

 

अंजली – ये अगला पत्र हमारे पास आया है हरिपुरा, झज्जर, हरियाणा से प्रदीप वधवा, आशा वधवा, गीतेश वधवा, मोक्ष वधवा, निखिल वधवा और यश वधवा का आप सभी ने सुनना चाहा है फिल्म अग्निपथ (1990) का गाना जिसे गाया है एस पी बालासुब्रमण्यम और अलका याग्निक ने गीतकार हैं आनंद बख्शी और संगीत दिया है लक्ष्मीकांत प्यारेलाल ने गीत के बोल हैं ------

सांग नंबर 6. किसको था पता .... 

पंकज तो मित्रों इसी के साथ हमें आज का कार्यक्रम समाप्त करने की आज्ञा दीजिये अगले सप्ताह आज ही के दिन और समय पर हम एक बार फिर आपके सामने लेकर आएंगे कुछ नई और रोचक जानकारियां साथ में आपको सुनवाएँगे आपकी पसंद के फिल्मी गीत तबतक के लिये नमस्कार।

अंजली - नमस्कार। 

  

 

 

शेयर

सबसे लोकप्रिय

Related stories