20190424

2019-04-24 21:00:00
Comment
शेयर
शेयर Close
Messenger Messenger Pinterest LinkedIn

अनिलः आपका पत्र मिला प्रोग्राम सुनने वाले सभी श्रोताओं को अनिल पांडेय का नमस्कार।

ललिताः सभी श्रोताओं को ललिता का भी प्यार भरा नमस्कार।

अनिलः दोस्तों, आज के कार्यक्रम में भी हम हमेशा की तरह श्रोताओं के ई-मेल और पत्र शामिल करेंगे। पहला पत्र हमें भेजा है छत्तीसगढ़, भिलाई, दुर्ग से आनंद मोहन बैन ने। लिखते हैं कि विश्व का आईना कार्यक्रम में छंगतु शहर के बौद्ध तीर्थ स्थल वनशूयुआन मंदिर पर एक विशेष आलेख पढ़ने को मिला। हम हिन्दू लोग हमेशा मंदिर और देवताओं के बारे में जानना चाहते हैं, लेकिन बौद्ध मंदिर धर्म के साथ साथ कलाकृतियों के खजाने वनशूयुआन मंदिर में भारतीय पत्र सूत्र, थांग राजवंश के बांस पर लिखित सूत्र, सहस्र बुद्ध चोला और बालों से तैयार बौधिसत्व मूर्ति जैसे बौद्ध धार्मिक और सांस्कृतिक अवशेष भी सुरक्षित रखे गए हैं। बौद्ध धर्म भारत से चीन पहुंचा। इस प्रकार के कार्यक्रम हमें बहुत अच्छे लगते हैं, धन्यवाद।

आपका पत्र मिला कार्यक्रम में 12 श्रोताओं के पत्रों का उत्तर दिया गया। श्रोताओं की ओर से दी गई जानकारी ज्ञानवर्धक है, लेकिन मुझे लगता है कि आपका पत्र मिला में कार्यक्रम पर टिप्पणी ज्यादा महत्वपूर्ण होती है।

ललिताः अब पेश है अगला पत्र, जिसे भेजा है बेहाला कोलकाता से प्रियंजीत कुमार घोषाल ने। लिखते हैं कि पिछले टी-टाइम कार्यक्रम में हाल में अमेरिका में दुनिया के सबसे बड़े विमान की सफल उड़ान के बारे में जानकारी मिली। वहीं चीन में टेस्ट-ट्यूब बेबी के बारे में बताया गया। जबकि जलियावाला बाग़ नरसंहार की बरसी पर भी बहुत अहम जानकारी दी गयी। इसके साथ ही प्रोग्राम में पेश अन्य जानकारियां व जोक्स भी अच्छे लगे।

अनिलः दोस्तों अब पेश कर रहे हैं अगला पत्र, जिसे भेजा है मुक्तसर पंजाब से गुरमीत सिंह ने। लिखते हैं कि प्रोग्राम टी टाइम हमें बहुत अच्छा लगा। जानकारियों के तहत बताया गया कि दुनिया का सबसे बड़ा विमान जिस में 747 विमान के ईंजन लगे हुए हैं। अमेरिका के कैलिफॉनिया में उड़ान भरी। यह जानकारी बहुत अच्छी लगी। इस विमान को बनाने वाली कंपनी को हमारी ओर से भी बधाई। आगे बताया गया कि अमेरिका में दुनिया के सबसे ख़तरनाक पंछी कैसोवेरी ने अपने ही मालिक की जान ले ली। यह सुनकर बहुत दुख़ हुआ। वैसे आदमी को इतने ख़तरनाक पंछी या जानवर पालने ही नहीं चाहिए। इस के अलावा जॉन अब्राहम की नई फिल्म रोमिओं अकबर वालटर और गूगल और एपल पर टिक टॉक एप पर प्रतिबंध लगाने पर दी गई जानकारी भी अच्छी लगी। धन्यवाद एक अच्छी प्रस्तुति के लिए।

ललिताः लीजिए अब पेश है अगला पत्र, जिसे भेजा है पश्चिम बंगाल से धीरेन बसाक ने। लिखते हैं कि चीन का तिब्बत कार्यक्रम में विश्व के सबसे ऊंचे शिखर माउण्ट चोमोलंगमा पर पर्वतारोहण नियम और प्राकृतिक संरक्षण के विषय पर एक रिपोर्ट सुनी, पसंद आई।

अनिलः दोस्तों अब शामिल करते हैं अगला ख़त, जिसे भेजा है दिल्ली से वीरेंद्र मेहता ने। लिखते हैं कि चीन के अंतरिक्ष में अनुप्रयोग की खबर सुनी और चीन अंतिम कुछ वर्षों में अंतरिक्ष में खूब बढ़ चढ़कर काम भी कर रहा है। यह तो सूचना के प्रसार में अहम कदम है और ट्रंप का चिंता जताना कि चीन अमेरिका से आगे निकल जाएगा। यह खबर भी रोचक लगी।

आपका पत्र मिला प्रोग्राम में सभी श्रोता बंधुओं के पत्र सुने और सुरेश अग्रवाल जी को बहुत-बहुत बधाई कि उन्हें दिल्ली में चीनी दूतावास में भारत-चीन रिश्ते को प्रगाढ़ करने के लिए अपनी राय व्यक्त रखने का मौका मिला। यह हमारे लिए बहुत ही गर्व की बात है। सुंदर प्रोग्राम पेश करने के लिए धन्यवाद।

आज मैं आपको पांडूखोलि से कौसानी तक का सफर कराने वाला हूं। इस ऑडियो रिकॉर्डिंग के माध्यम से और अगली बार कुछ साइंस फैक्ट आप के सामने रखूंगा।

ललिताः अब पेश है अगला पत्र, जिसे भेजा है जैसलमेर राजस्थान से दिनेश चौहान ने। लिखते हैं कि आपका पत्र मिला कार्यक्रम में सबसे पहले मेरा पत्र पढ़ा गया, मुझे बहुत खुशी हुई। विश्व का आईना कार्यक्रम से जितनी भी जानकारी मिली, अच्छी लगी। अच्छी प्रस्तुति के लिए एक बार फिर धन्यवाद।

अनिलः अब पेश है कार्यक्रम का अगला पत्र, जिसे भेजा है सऊदी अरब से सादिक आज़मी ने। लिखते हैं कि मनोरंजन के साथ ज्ञान की फुहार छोड़ते रोचक टी टाइम के एक और अंक से लाभान्वित होने के बाद संक्षिप्त प्रतिक्रिया के साथ उपस्थित हूं। मानव आविष्कारों की एक और ऐतिहासिक उपलब्धि के तौर पर विश्व के सबसे विशाल हवाई जहाज के निर्माण की खबर बहुत उत्साहित कर गई। सबसे पहले आपके माध्यम से उन्हें बधाई। निसंदेह यातायात व्यवस्था में व्यापक परिवर्तन होगा और समय की बचत होगी। धन्यवाद।

ललिताः अब पेश है कार्यक्रम का अगला पत्र, जिसे भेजा है दरभंगा बिहार से मॉनिटर शंकर प्रसाद शंभू ने। लिखते हैं कि साप्ताहिक कार्यक्रम "अतुल्य चीन" में सुना कि सेवा उद्योग के खुलेपन की व्यवस्था के निर्माण के लिए परीक्षात्मक शहर होने के नाते पेइचिंग में सेवा उद्योग के खुलेपन का विस्तार बढ़ाना शुरू किया गया। चीन में देशी विदेशी पूंजी से संयुक्त रूप से संचालित कंपनी में चीनी पक्ष के शेयर कम से कम 51 प्रतिशत हैं और विदेशी पूंजी की सीमा 49 फीसदी है।

कार्यक्रम "नमस्कार चाइना" में 'आधुनिक तकनीक से सम्पन्न हुई चीनी काउंटी' विषय पर एक रिपोर्ट सुनी, जिसमें बताया गया कि चीन के येनबो काउंटी में आधुनिक तकनीक का उपयोग करते हुए कृषि आधारित अनाज, फल, सब्जियोँ इत्यादि का उत्पादन कर आय का स्रोत बढ़ाया गया है। खासकर वहाँ की सब्जियों का उत्पादन काफी उन्नतशील है। भंडारण की व्यवस्था भी अच्छी है।

अनिलः दोस्तों कार्यक्रम को आगे बढ़ाते हुए सुनते हैं पश्चिम बंगाल से माधव चन्द्र सागौर का पत्र। लिखते हैं कि "विश्व का आईना" कार्यक्रम में इस्राइल ने रूस अमेरिका और चीन के बाद चांद में पहुंचने वाला चौथा देश बनने की ओर कदम बढ़ा लिया है और अपनी उपलब्धि पर गर्व कर सकता है। अमेरिका के कैनबरा स्पेस स्टेशन से अंतरिक्ष यान चांद के लिए भेजा गया है। अब तक 11 देशों ने इस बारे में कामयाबी पाई है। 7 सप्ताह का चंद्रमा अभियान 22 फरवरी को शुरू हुआ था और 14 अप्रैल को गुरुत्वाकर्षण में प्रवेश कर पृथ्वी के चक्कर लगाने में भी सफलता हासिल की है। यह जानकारी सूचनाप्रद लगी।

वहीं "दक्षिण एशिया फोकस" में चीन में चल रहे नौवें फिल्म फेस्टिवल में केरल के रहने वाले वीरंजीत जी के साथ भेंटवार्ता अच्छी लगी। उनकी इस फिल्म के लिए प्रशंसा की जानी चाहिए।

ललिताः अब पेश है अगला पत्र, जिसे भेजा है केसिंगा ओड़िशा से मॉनिटर सुरेश अग्रवाल ने। लिखते हैं कि साप्ताहिक "बाल-महिला स्पेशल" के तहत चार साल पहले 25 अप्रैल को नेपाल में आये 8.1 तीव्रता वाले भीषण भूकंप से पीड़ित लोगों को फ़ौरी सहायता पहुंचाने के लिए चीनी गरीबी उन्मूलन कोष द्वारा त्वरित गति से धनराशि एकत्रित कर नेपाल में शुरू किये गये बचाव और पुनर्निर्माण कार्यों पर पेश रिपोर्ट अच्छी लगी। बताया जाता है कि प्रारंभिक चरण के राहत कार्यों के बाद गरीबी उन्मूलन कोष द्वारा 'एक पट्टी एक मार्ग' योजना को लागू करने नेपाल के साथ साझा नियति समुदाय निर्माण के आधार पर अगस्त 2015 में नेपाल में अपना कार्यालय स्थापित किया गया। तभी से वह लगातार आपदा राहत और पुनर्निर्माण कार्यों को ज़ारी रखे हुए हैं।

अनिलः सुरेश जी ने आगे लिखा है कि श्रोताओं के अपने मंच साप्ताहिक "आपका पत्र मिला" के अन्तर्गत आज एक बार फिर पत्रों की अच्छी तादाद में शामिल किया गया। यह देख कर मन बाग़-बाग़ हो उठा। विभिन्न कार्यक्रमों पर श्रोताओं की तमाम प्रतिक्रियाएं एक से बढ़ कर एक थीं, परन्तु मैं ख़ास तौर पर आभार जताना चाहूँगा सऊदी अरब से भाई सादिक़ आज़मी और जैसलमेर के दिनेश चौहान का, जिन्होंने निःस्वार्थ और बेलाग ढ़ंग से मेरी मेहनत को सराहा।

अब पेश करते हैं सुरेश अग्रवाल जी के साथ हुई हमारी बातचीत के मुख्य अंश।

अनिलः दोस्तों, आप सभी के लिए एक सूचना है। 6 मई से हमारे कार्यक्रमों में परिवर्तन होने वाला है। आप सब को यह सूचित किया जाता है कि अगले मई महीने से हमारे कार्यक्रमों में कुछ बदलाव किए जा रहे हैं, जिसके तहत आपका पत्र मिला कार्यक्रम के स्थान पर खेल संबंधी कार्यक्रम और दूसरा कार्यक्रम पेश किया जाएगा। इस तरह 1 मई को आपका पत्र मिला प्रोग्राम आखिरी प्रोग्राम होगा। उम्मीद करते हैं कि आप इस बदलाव को समझेंगे, जैसा कि आप सभी जानते हैं कि श्रोताओं के पत्रों को हम अन्य कार्यक्रमों में भी शामिल किया करते हैं। धन्यवाद।

अनिलः दोस्तों, इसी के साथ आपका पत्र मिला प्रोग्राम यही संपन्न होता है। अगर आपके पास कोई सुझाव या टिप्पणी हो तो हमें जरूर भेजें, हमें आपके खतों का इंतजार रहेगा। इसी उम्मीद के साथ कि अगले हफ्ते इसी दिन इसी वक्त आपसे फिर मुलाकात होगी। तब तक के लिए अनिल पांडेय और ललिता को दीजिए इजाजत, नमस्कार।

ललिताः बाय-बाय।

शेयर

सबसे लोकप्रिय

Related stories