20181024

2018-10-24 21:00:00
Comment
शेयर
शेयर Close
Messenger Messenger Pinterest LinkedIn

अनिलः आपका पत्र मिला प्रोग्राम सुनने वाले सभी श्रोताओं को अनिल पांडेय का नमस्कार।

 

ललिताः सभी श्रोताओं को ललिता का भी प्यार भरा नमस्कार।

 

अनिलः दोस्तों, आज के कार्यक्रम में भी हम हमेशा की तरह श्रोताओं के ई-मेल और पत्र पढ़ेंगे। इसके साथ ही व्हट्सएप के जरिए हम तक भेजे गए श्रोताओं के पत्र भी शामिल किए जाएंगे। पहला खत हमें भेजा है केसिंगा ओड़िशा से मॉनिटर सुरेश अग्रवाल ने, जो कि हमेशा बड़ी मेहनत से हमारे प्रोग्राम के बारे में टिप्पणी करते हैं। सुरेश अग्रवाल लिखते हैं कि साप्ताहिक "अतुल्य चीन" में पेश बातचीत से हमने चीन में शरद ऋतु के तमाम रंगों को महसूस किया। बताया जाता है कि शरद ऋतु के दौरान चीन का आकाश नीला और साफ़ होता है और शरद के साथ-साथ यहां वसन्त की भी धूम होती है। बातचीत के दौरान चीन में पैदा होने वाले ख़ास क़िस्म के बेर, बेर से ही कुछ बड़े आकार के संतरे, ख़ास क़िस्म की नाशपति, शकरकंदी, मुमफली आदि तमाम चीज़ों की विशेषता के बारे में सुन कर मुँह में पानी आ गया। और हाँ, उबाल कर खायी जाने वाली मकई के तो कहने ही क्या। यह भी पता चला कि विश्व में सबसे अधिक फल, फूल और फ़सलें चीन में ही होती हैं, जबकि चीन की कृषि योग्य भूमि का क्षेत्र भारत के मुक़ाबले आधा है।

कार्यक्रम "चीनी कहानी" के अन्तर्गत पेश श्रृंखला 'सात बहनें' में आज की कड़ी 'हू मेई का स्वयम्बर' सुनी। युवा शिकारी यानचाओ का किस्सा बहुत दिलचस्प लगा। अगली कड़ी में देखना है कि उसकी मुराद पूरी होती है या नहीं।

 

ललिताः सुरेश जी ने आगे लिखा है कि साप्ताहिक "विश्व का आइना" में हाल में भारतीय अख़बार 'द ट्रिब्यून' द्वारा भारत स्थित चीनी राजदूत ल्वो चाओह्वेई से लिये गये लम्बे साक्षात्कार पर पेश रिपोर्ट अच्छी लगी। इस मौके पर ल्वो चाओह्वेई ने चीन-भारत संबंध, क्षेत्रीय स्थिति, एक पट्टी एक मार्ग, चीन-अमेरिका व्यापारिक विवाद, चीन में सुधार और खुलेपन की 40वीं वर्षगांठ और शिनच्यांग में धार्मिक स्वतंत्रता आदि मुद्दों पर खुल कर सवालों का ज़वाब दिया।

उन्होंने भारत में अपने दो साल के कार्यकाल के दौरान चीन-भारत संबंधों में आये तमाम उतार-चढ़ावों का भी बख़ूबी बयान किया। पिछले साल सितम्बर में चीनी राष्ट्रपति शी चिनफिंग और भारतीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के बीच श्यामन में हुई अनौपचारिक भेंटवार्ता का भी उन्होंने उच्च मूल्यांकन किया।

राजदूत ने गत अप्रैल में चीन और भारत के नेताओं के बीच वूहान में हुई अनौपचारिक मुलाकात और उससे द्विपक्षीय संबंधों में आये सुधार के साथ-साथ संचार, उद्योग, सम्पर्क, तालमेल और नियंत्रण-प्रबंधन आदि पर बनी बात का भी उल्लेख किया।

ल्वो चोओह्वेई ने आतंकवाद पर भी भारत के साथ पूरे सहयोग की बात कही। उन्होंने भारत के शांगहाई सहयोग संगठन के औपचारिक सदस्य देश बनने पर चीनी रुख को स्पष्ट किया, जो कि सकारात्मक लगा।

 

अनिलः सुरेश अग्रवाल आगे लिखते हैं कि श्रोताओं के अपने मंच साप्ताहिक "आपका पत्र मिला" के तहत आज यह देख कर मन उत्साह से भर गया कि आपने श्रोताओं की प्रतिक्रियाओं पर अपनी प्रतिक्रिया दी। यही तो हम चाहते थे।

सप्ताहिक "बाल-महिला स्पेशल" के तहत पाकिस्तान के पेशावर स्थित एक स्कूल में 29 सितम्बर को आयोजित एक विशेष कार्यक्रम की झलक सुनाई गई, जिसे सुन कर पता चला कि पाकिस्तान में लोग किस क़दर चीनी भाषा सीखने के दीवाने हो गये हैं। फिर चाहे वह मिलेनियम रूस स्कूल हो या कि सीआरआई मीडिया ग्रुप द्वारा संचालित कन्फ्यूशियस स्कूल, पाकिस्तान में चीनी भाषा सीखने का जुनून है। और क्यों ना हो, पाकिस्तान में चीन-पाकिस्तान आर्थिक गलियारा बनने के बाद वहां के लोगों की किस्मत जो बदल गयी है। निश्चित तौर पर चीनी भाषा जानने वाले लोगों के लिये आज बढ़िया रोज़गार की कोई कमी नहीं है। फिर चाहे एक पट्टी एक मार्ग योजना हो, या फिर अन्य चीजें चीनी भाषा सीखने वालों को तो महत्ता बढ़ चुका है।

कार्यक्रम "टी टाइम" का आगाज़ आयरलैंड की लेखिका 56 वर्षीया एना बर्न्स को उनकी किताब 'मिल्कमैन' के लिए दिये गए प्रतिष्ठित मैन बुकर पुरस्कार से किया जाना सुखद लगा। पता चला कि उनके इस उपन्यास की कहानी 1970 के काल में उत्तरी आयरलैंड में रहने वाली एक 18 वर्षीय लड़की के इर्द-गिर्द घूमती है। इस कहानी में लड़की एक रहस्यमयी और उम्र में उससे कहीं बड़े एक व्यक्ति से संबंध बनाने के लिए मजबूर होती है। कार्यक्रम में लेखिका के अन्य मशहूर उपन्यासों का ज़िक्र किये जाने का भी शुक्रिया।

 

ललिताः सुरेश जी ने आगे लिखा है कि सप्ताहिक "चीन का तिब्बत" के तहत तिब्बत में सबसे ठण्डा क्षेत्र समझी जाने वाली त्सोना काउन्टी, जो कि शाननान प्रिफेक्चर में कोई 4400 मीटर ऊंचे पठार पर स्थित है, पर पेश रिपोर्ट सुनी, जो कि अच्छी लगी। बताया जाता है कि वार्षिक औसत तापमान शून्य से 0.6 डिग्री सेल्सियस और सर्वनिम्न तापमान शून्य से 37 डिग्री सेल्सियस रहने वाले इस क्षेत्र के निवासियों के लिये एक बेहतर जीवन वातावरण तैयार करने के लिए सरकार ने काउंटी नगर में हीटिंग व्यवस्था का निर्माण शुरू किया है।

कार्यक्रम "दक्षिण एशिया फ़ोकस" के अंतर्गत भारत की सुप्रसिध्द संगीतकार जोड़ी लक्ष्मीकांत प्यारेलाल के प्यारेलालजी से ली गई भेंटवार्ता का पहला भाग सुन कर मन गदगद हो उठा। बातचीत के दौरान उन्होंने ऐसे-ऐसे वाद्य-यंत्रों का ज़िक्र किया, जिनका नाम तक हमने इससे पहले नहीं सुना था। यह भी पता चला कि स्वयं को स्थापित करने में इस मशहूर जोड़ी को कितनी मशक्क़त करनी पड़ी थी।

 

अनिलः लीजिए दोस्तों अब समय हो गया है अगले पत्र का, जिसे भेजा है जमशेदपुर झारखण्ड से हमारे पुराने श्रोता एस बी शर्मा ने। लिखते हैं कि यह जानकार बहुत ख़ुशी हुई कि सी आर आई हिंदी सेवा चीन में सुधार और खुलेपन की नीति लागू होने की 40वीं वर्षगाठ पर अधिक जानकारी देने के लिए एक प्रतियोगिता अपने फेसबुक पेज पर चालू कर रहा है। यह प्रतियोगिता 18 अक्तूबर से शुरू हो गयी है और 30 नवंबर तक चलेगी। इस दौरान सी आर आई हिंदी सेवा अपने फेसबुक पेज पर सिलसिलेवार ढंग से वीडियो, ऑडियो, फोटो और समाचार टेक्स्ट प्रकाशित करेगी। इस पर आधारित सवाल पूछे जायेंगे और उसका वही उत्तर कमेंट बॉक्स में देना होगा। इस तरह सी आर आई श्रोता इस प्रतियोगिता में भाग लेकर चीन के खुलेपन और विकास पर अपनी जानकारी में इजाफा कर पाएंगे और पुरस्कार भी हासिल करेंगे। ऐसा अवसर श्रोताओं को देने के लिए आप को हमारी ओर से धन्यवाद।

 

ललिताः अब पेश है अगला पत्र, जिसे भेजा है बेहाला कोलकाता से प्रियंजीत कुमार घोषाल ने। लिखते हैं कि टी-टाइम प्रोग्राम में बुकर पुरस्कार विजेता आइरिश महिला के बारे में जानकारी हासिल हुई। वहीं एक अफगान क्रिकेटर द्वारा एक ओवर में छह छक्के मारे जाने का समाचार सुना। इसके साथ ही कार्यक्रम में पेश अन्य समाचार और चीन में एक व्यक्ति के सिर के अंदर नाखून मिलने का समाचार वाकई हैरान करने वाला था।

 

अनिलः अब दोस्तों समय हो गया है एक और खत का, जिसे भेजा है सऊदी अरब जुबेल से सादिक आज़मी ने। लिखते हैं कि हमेशा की भांति इस बार भी अपने पसंदीदा और सी आर आई का सबसे लोकप्रिय कार्यक्रम आपका पत्र मिला सुनने का मौका मिला। वरिष्ठ श्रोता भाई सुरेश अग्रवाल जी का पत्र सबसे पहले शामिल किया गया, जो हमेशा की भांति समस्त कार्यक्रमों पर विस्तृत समीक्षा से सुसज्जित था। अलबत्ता इस मर्तबा अनिल पांडे जी द्वारा उत्तर देने के अंदाज में बदलाव सुखद एहसास करा रहा था जिसकी हम सदैव मांग करते आ रहे थे। श्रोताओं के पत्रों और उनकी प्रतिक्रियाओं पर सीआरआई का पक्ष और अपने विचार प्रेषित होने चाहिए। आशा है इस क्रम को विस्तार का रूप देकर भविष्य में जारी रखा जाएगा। हां इस अवसर पर सुरेश अग्रवाल जी को बधाई प्रेषित करता हूं जो अत्यंत गंभीरता से अपने विचार साझा करते हैं। इस नाचीज के पत्र को इस कार्यक्रम में जगह देने के लिए आपका दिल की गरहाइयों से आभार और धन्यवाद।

यहां शहर जुबेल सऊदी अरब में मौसम का मिजाज परिवर्तन की दिशा में अग्रसर है और ठंड ने अपने आगमन का आगाज कराना आरंभ कर दिया है। आज आपके माध्यम से यहां जुबेल शहर में पढ़ने वाली ठंडक से अवगत कराना चाहता हूं। ताकि उन श्रोताओं को लाभ पहुंचे या वह समय रहते सचेत रहे जो घूमने या कार्य के सिलसिले में सऊदी अरब विशेषकर जुबेल शहर आना चाहते हैं और यहां ठंड के समय पारा बहुत नीचे गिर जाता है। कई बार नलों के अंदर पानी जम जाता है। इसी से आप अंदाजा लगा सकते हैं की इस क्षेत्र में कितनी अधिक ठंड पड़ती होगी। अतः पूरी तैयारी करके आना जरूरी है।

 

ललिताः अब पेश है अगला पत्र, जिसे भेजा है दरभंगा बिहार से रंजू मुखिया ने। लिखते हैं कि कार्यक्रम 'अतुल्य चीन' में शरद ऋतु के बारे में चर्चा सुनी और 'नमस्कार चाइना' में भोपाल मध्य प्रदेश से चीन पहुँची एक महिला, जिसका नाम ठीक से नहीं सुन सके, उससे बातचीत सुनकर जानकारी मिली कि वह भाषा पर रिसर्च कर रही है। खुशी की बात है कि वह चीन का अनुभव लेकर भारत आएगी। चीनी कहानी भी अच्छी लगी।

 

अनिलः दोस्तों अब पेश करते हैं अगला पत्र, जिसे भेजा है उत्तर प्रदेश से तिलक राज अरोड़ा ने। लिखते हैं कि कार्यक्रम विश्व का आईना सुना। इस कार्यक्रम से बहुत जानकारी हासिल होती है। आप का पत्र मिला कार्यक्रम में श्रोताओं के पत्र और उनके उत्तर बहुत संतोष जनक ढंक से दिये गए। कार्यक्रम सुनकर दिल खुशी से झूम उठा। आप ने कार्यक्रम में मेरे पत्र को शामिल किया, इसलिए मुझे भी बेहद खुशी हुई। कार्यक्रम में व्हाट्सएप किस नंबर पर किया जाता है बताने की कृपा करें।

 

ललिताः दोस्तों, हम आपको बताते हैं कि हमारा व्हाट्सएप नंबर है 18310693182, हमें मैसेज भेजने के लिए आपका धन्यवाद।

 

अनिलः अरोड़ा जी लिखते हैं कि कार्यक्रम टी टाइम में जो जानकारियां सुनवायी बेहद पसंद आई। फिल्मी गीत ने कार्यक्रम को रोचक बना दिया। जोक्स बंगाली भजन, संता का इंटरव्यू, और पंडित और पत्नी वाले जोक सुनकर बहुत देर तक हम परिवार सहित हँसते रहे। सारा कार्यक्रम कब शुरू हुआ और कब संपन्न हुआ पता ही नहीं चला। सुंदर कार्यक्रम सुनवाने के लिए सी आर आई का शुक्रिया और ढ़ेरो शुभकामनाये प्रेषित करते हैं।

 

ललिताः दोस्तों, अब पेश है अगला पत्र, जिसे भेजा है पश्चिम बंगाल से धीरेन बसाक ने। लिखते हैं कि 15 अक्तूबर को प्रस्तुत अतुल्य चीन कार्यक्रम में चीन में शरत ऋतु पर एक बातचीत सुनी। चीन में शरत ऋतु अच्छी ऋतु है, जो मौसम बहुत सुरावना है।

 

अनिलः लीजिए अब पेश करते हैं अगला पत्र, जिसे भेजा है गोरखपुर उत्तर प्रदेश से ब्रदी प्रसाद वर्मा अंजान ने, जो कि हमारे पुराने श्रोता हैं। लिखते हैं कि

20181024

20181024

20181024

ललिताः अब पेश है अगला पत्र, जिसे भेजा है दरभंगा बिहार से मॉनिटर शंकर प्रसाद शंभू ने। लिखते हैं कि साप्ताहिक कार्यक्रम "अतुल्य चीन" में सुना कि चीन का शरद ऋतु बहुत मनोरम और सुहावना होता है। पेइचिंग में दिल्ली से कम बारिश होती है। पेइचिंग में न ज्यादा गर्मी होती है और न ज्यादा ठंड। इस ऋतु में पहाड़ी क्षेत्र का प्राकृतिक नजारा रंगीन दिखता है। विभिन्न फलों की तुलनात्मक चर्चा भी की गई, जो पसन्द आई।

कार्यक्रम "नमस्कार चाइना" में बताया गया कि चीनी राष्ट्रीय दिवस की छुट्टियों के दौरान चीनी लोग स्थानीय और विदेशी पर्यटन स्थल का भ्रमण करने के लिये निकल जाते हैं। अधिकांश चीनी लोग पर्यटन स्थलों की फोटो खींचना पसन्द करते हैं।

वहीं कार्यक्रम "विश्व का आईना" से पता चला कि इस वर्ष नवम्बर माह में पहला चीनी अंतर्राष्ट्रीय आयात मेला चीन के शांगहाई शहर में आयोजित होगा। इसमें 180 से अधिक देशों के लगभग 1500 उद्यमों को भाग लेने की संभावना है। यह चीन और भारत के व्यापारिक असंतुलन की समस्या दूर करने में मददगार होगा।

 

अनिलः शंभू जी ने आगे लिखा है कि कार्यक्रम "टी टाईम" में सुना कि अफगानिस्तान प्रीमियर लीग में एक अफगानी खिलाड़ी ने 6 छक्के लगाकर तहलका मचा दिया है और 12 गेंदों में अर्धशतक भी पूरा किया है। हम लोग उभरते हुए उस खिलाड़ी के लिए कामना करते हैं।

अगली जानकारी में बताया गया कि कैंट नेविंगटन की 33 वर्षीय योग शिक्षक केली ओकली को खुद का मूत्र पीने से उन्हें हाशिमोटो की थायरॉइड की बीमारी और लंबे दर्द से निजात मिली। यह जानकारी भी हमें अच्छी लगी।

साप्ताहिक कार्यक्रम "दक्षिण एशिया फोकस" में मशहूर संगीतकार प्यारे लाल जी के साथ साक्षात्कार का पहला भाग भी बेहद अच्छा लगा। धन्यवाद।

 

ललिताः अब पेश है कार्यक्रम का अंतिम पत्र, जिसे भेजा है पश्चिम बंगाल से देव कुमार गोंड ने। लिखते हैं कि आप का पत्र मिला कार्यक्रम में बहुत श्रोताओं के पत्र शामिल किये गये। अंत में मेरा पत्र भी शामिल हुआ।

चीन का तिब्बत प्रोग्राम में सुना कि तिब्बत के सीमांत क्षेत्रों में हीटिंग व्यवस्था शुरू हुई है। तिब्बत की शाननान ऊंचे पठार पर स्थित है और मौसम बहुत ठंड होता है। यहां ऑक्सीजन स्टेशनों का निर्माण हुआ, जिससे लोगों के जीवन वातावरण में सुधार आया है।

वहीं आप की पसन्द प्रोग्राम में सुना कि दुनिया का पहला पर्यटक जो चाँद पर यात्रा करने वाले हैं। एलन कम्पनी जापान के एक बिजनेसमेन को चाँद पर यात्रा करने के लिए चयनित किया है। अब तक कुल 24 लोगों ने चाँद पर यात्रा किये हैं। अच्छी प्रस्तुत के लिए धन्यवाद।

 

अनिलः दोस्तों, इसी के साथ आपका पत्र मिला प्रोग्राम यही संपन्न होता है। अगर आपके पास कोई सुझाव या टिप्पणी हो तो हमें जरूर भेजें, हमें आपके खतों का इंतजार रहेगा। इसी उम्मीद के साथ कि अगले हफ्ते इसी दिन इसी वक्त आपसे फिर मुलाकात होगी। तब तक के लिए अनिल पांडेय और ललिता को दीजिए इजाजत, नमस्कार।

 

ललिताः बाय-बाय।

शेयर

सबसे लोकप्रिय

Related stories