20180606

2018-06-06 21:00:00
Comment
शेयर
शेयर Close
Messenger Messenger Pinterest LinkedIn

सपनाः आपका पत्र मिला कार्यक्रम सुनने वाले सभी श्रोताओं को सपना श्रीवास्तव का नमस्कार।

 

ललिताः सभी श्रोताओं को ललिता का भी प्यार भरा नमस्कार।

 

सपनाः दोस्तों, आज के प्रोग्राम में भी हम हमेशा की तरह श्रोताओं के ई-मेल और पत्र पढ़ेंगे। इसके साथ ही व्हट्सएप के जरिए हम तक जानकारी पहुंचाने वाले श्रोताओं के पत्र भी शामिल करेंगे। तो लीजिए प्रोग्राम का आगाज़ करते हैं। पहला पत्र हमारे पास आया है सिद्धार्थ कुमार का। लिखते हैं कि पिछले हफ्ते "आप की पसंद" में सुनाया गया कि कुछ लोगों के व्हट्सएप में ग्रुप वीडियो कालिंग का ऑप्शन देखा गया है। यह खबर सही हो सकती है। दरअसल व्हट्सएप अपने एप में कोई भी नया फीचर जोड़ने के बाद उसे डेरेक्ट लांच नहीं करता, बल्कि उसे टेस्ट करता है। इसे बैट टेस्टिंग कहते हैं, जो इस प्रोग्राम को जॉइन करता है, वह बैट टेस्टर होता है। आप भी बैट टेस्टर बन सकते हैं। बैट टेस्टर बनने के बाद आप वो वर्श़न भी इन्स्टॉल कर इस्तेमाल कर सकते हैं, जो अभी तक लांच नहीं हुआ है। यह इसलिए किया जाता है ताकि नए फीचर में कोई दिक्कत हो, तो यूजर वह दिक्कत व्हट्सएप को बताकर उसे साल्व करवाये। उसके बाद उस फीचर को पब्लिक लांच किया जाता है। तो कुछ लोगों के मोबाइल में ग्रुप वीडियो कालिंग देखी गयी है, शायद वो लोग बैट टेस्टर हो। यह जानकारी देने के लिए धन्यवाद।

छत्तीसगढ़, भिलाई, दुर्ग से आनंद मोहन बैन जी ने भी हमें ई-मेल भेजकर "आप की पसंद" पर टिप्पणी लिखी है। लिखते हैं कि हमने 26 मई को प्रस्तुत "आप की पसंद" कार्यक्रम सुना। फरमाइशी गीतों के साथ सुन्दर रोचक जानकारी अच्छी लगी। सीएम फडणवीस ने दी मंजूरी, सेक्स चेंज कराकर कॉन्स्टेबल ललिता बनेगी ललित। ये समाचार जितना सुखद ललित के लिए है, उतना हम श्रोताओं के लिए भी है।

सिद्धार्थ कुमार और आनंद मोहन बैन जी, हमें पत्र भेजने के लिए आपका बहुत बहुत धन्यवाद। हम भी आशा करते हैं कि अधिक से अधिक श्रोता हमें भी पत्र भेजते रहेंगे। शुक्रिया।

 

ललिताः लीजिए अब पेश है अगला पत्र, जिसे भेजा है छिंदवाड़ा मध्य प्रदेश से उदयभान ठाकरे ने, जो हमारे नए श्रोता भी हैं। लिखते हैं कि रेडियो सीआरआई हिंदी सेवा के सभी भाई बहनों को हमारी ओर से नमस्कार। आज शनिवार को सीआरआई हिंदी सेवा के ताजा प्रसारण में देश दुनिया की ताजा खबरों के पश्चात आप की पसंद में फिल्मों के गीत सुने।

वहीं अगले दिन संडे की मस्ती कार्यक्रम का आगाज वर्ष 1997 में गठित फिनिक्स संगीत दल द्वारा गाए गए गीत से हुआ। जानकारी के क्रम में जर्मनी में उल्टी चलने वाली हैंगिंग मोनो ट्रेन की 13.3 किलोमीटर लंबे और 40 फुट ऊंचे मार्ग पर कुल 20 स्टेशनों के बीच का फासला तय करती जानकारी प्राप्त हुई। मनोरंजन खंड में शुक्रवार रिलीज हुई हर्षवर्धन की फिल्म भावेश जोशी की चर्चा के साथ उनका प्रमुख और श्रोताओं की तमाम प्रतिक्रिया को सम्मानित किया जाना बेहतरीन जाना। धन्यवाद।

उदयभान ठाकरे जी, हमें पत्र भेजने के लिए आपका भी बहुत बहुत धन्यवाद।

 

सपनाः अब पेश है कार्यक्रम का अगला पत्र, जिसे भेजा है बेहाला कोलकाता से प्रियंजीत कुमार घोषाल ने। लिखते हैं कि चीन का तिब्बत कार्यक्रम में तिब्बत में घरेलू और विदेशी पोर्योटोक्टर भ्रमण संबंधित जानकारी सुनी। उसके बाद दक्षिण एशियाई फोकस कार्यक्रम में एक बेहद वार्ता में साइंस फिक्शन भारत चीन संबंध, खाने की आदत के बारे में चर्चा पीछे पीछे में संगीत अच्छी लगी।

टी टाइम कार्यक्रम में एपल का एप केमिंग आई फोन के बारे में चर्चा सुनी, वायरलेस एक्सेसरीज़ निर्माता रैपू का नया गेमिंग की बोर्ड के बारे में चर्चा, फिल्म का खबर में सलमान खान और अली अब्बास ज़फर का जोड़ी, भारत की फिल्म के बारे में चर्चा अच्छी लगी।

प्रियंजीत कुमार घोषाल जी, हमें पत्र भेजने के लिए आपका बहुत बहुत धन्यवाद।

 

ललिताः लीजिए अब पेश है अगला पत्र, जिसे भेजा है सऊदी अरब से सादिक आज़मी ने। लिखते हैं कि अपेक्षा के अनुरूप इस बार का साप्ताहिक कार्यक्रम "संडे की मस्ती" रोचक और ज्ञानवर्धक लगा। आरम्भ में अकेलेपन शीर्षक नामक गीत से समां रंगीन हुआ और फिर माइक्रो ग्रुप आफ कम्पनी के चेयरमैन आदित्य शेखर जी के विचारों को हमारे समक्ष प्रस्तुत किया गया। पूरी वार्ता में एक बात खुल कर सामने आई कि हम चीन से आधुनिकीकरण का गुण लेने में दिलचस्पी दिखा रहे हैं, जो इस बात को दर्शाता है कि हम मोडलाइज़ युग में प्रवेश के इच्छुक हैं, पर बुनियादी ढांचे की दुरुस्तगी को महत्व देना उतना ही आवश्यक जितना जीवन के लिए जल।

नये मॉनीटर भाई शंकर प्रसाद संभु जी की संवेदनशील कहानी शिक्षाप्रद लगी और नई मूवी का प्रोमो भी अच्छा लगा। लगता है फिल्म में कुछ जीवन की सच्चाई को दर्शाया गया है।

सादिक आज़मी जी, हमें पत्र भेजने के लिए आपका बहुत बहुत धन्यवाद।

 

सपनाः अब पेश है अगला पत्र, जिसे भेजा है मुक्तसर पंजाब से गुरमीत सिंह ने। लिखते हैं कि पिछले टी टाइम कार्यक्रम में इस साल के अंतरराष्ट्रीय बाल दिवस के बारे में रिपोर्ट सुनी, पसंद आई। एप्पल द्वारा नए आइफोन लांच करना, इस के बारे में दी गई जानकारी भी अच्छी लगी।

स्वास्थ्य संबंधी जानकारी में गंदी टायलिट में जाने से होने वाले नुकसानों के बारे में दी गई जानकारी पसंद आई। क्योंकि हम अकसर ऐसी छोटी छोटी बातों को अनदेखा कर देते हैं, मग़र बाद में हमें बड़े नुकसान उठाने पड़ते हैं। अपने शरीर की बाहरी सफ़ाई के साथ साथ हमें सूख़म कीटानुयों से होने वाले इनफैक्शन का भी धियान रखना चाहिए। क्योंकि इन छोटे छोटे कीटानुयों से ही बड़ी बिमारीयां जनम लेती हैं। अच्छा प्रोग्राम पेश करने और ताज़ा जानकारीयां देने के लिए आपका फिर से धन्यवाद।

गुरमीत सिंह जी, हमें पत्र भेजने के लिए आपका बहुत बहुत धन्यवाद।

 

ललिताः लीजिए अब पेश है अगला पत्र, जिसे भेजा है केसिंगा ओड़िशा से मॉनिटर सुरेश अग्रवाल ने। लिखते हैं कि साप्ताहिक "अतुल्य चीन" के तहत चीनी शिक्षा मंत्रालय द्वारा ज़ारी आंकड़ों के हवाले से दी गई यह जानकारी महत्वपूर्ण लगी कि पिछले साल के अन्त तक चीन के उच्च शिक्षण संस्थानों में कोई पांच लाख विदेशी छात्र अध्ययन कर रहे थे और इस संख्या में निरंतर वृद्धि हो रही है। विदेशी छात्रों में 'एक पट्टी एक मार्ग' वाले देशों के विद्यार्थियों की संख्या तीन लाख तीस हज़ार बतायी गयी, जो कि चीन में पढ़ रहे कुल विदेशी विद्यार्थियों का साठ प्रतिशत है। चीन में उच्च शिक्षण संस्थानों की कुल संख्या 933 बतलायी गई, जो कि चौंकाने वाली है।

कार्यक्रम में आगे बतलाया गया कि पिछले साल तक एक अरब उन्तालीस करोड़ की जनसंख्या वाले देश चीन कृषि-उत्पादन के क्षेत्र में भी दुनिया का अग्रणी देश है। चीन में कॉफी का उत्पादन बढ़ने के साथ-साथ उसकी मांग में भी बीस प्रतिशत की वृद्धि हुई है।

 

सपनाः सुरेश जी ने आगे लिखा है कि कार्यक्रम "स्वर्णिम चीन के रंग" के तहत गतांक की कड़ी दोहराये जाने के बाद आज के अंक में छांगआन की प्राचीन चारदीवारी और चौड़े दरवाजों पर दी गई जानकारी चौंकाने वाली थी। द्वार इतना चौड़ा कि जिसमें से चार घोड़ा-गाड़ियां एक साथ गुज़र जायें और 155 मीटर चौड़ी सड़क –सचमुच, यह तो कोई अज़ूबा ही रही होगी यह जानकारी भी अहम लगी कि जापान का प्राचीन नारा शहर भी छांगआन का प्रतिरूप है।

वहीं साप्ताहिक "नमस्कार चाइना" के तहत शुरुआत में मधुर चीनी गीत का लुत्फ़ उठाने के बाद दिल्ली विश्वविद्यालय स्थित सामुदायिक रेड़ियो द्वारा अखिल पाराशर से ली गयी भेंटवार्ता का चौथा और अन्तिम भाग सुना। 'कर्म किये जा फल की चिंता मत कर' उक्ति का चीनी-भाषा में भावार्थ समझाये जाने के अलावा अखिलजी द्वारा पिछले दिनों डीयू के छात्रों द्वारा चीन दौरे के समय सीआरआई हिन्दी के स्टूडियोज़ में उनसे हुई बातचीत पर भी अपने विचार व्यक्त किया जाना अच्छा लगा। उन्होंने चीन में मोबाइल के ज़रिये मोबाइक के इस्तेमाल और कैशलेस लेन-देन में आयी क्रांति का भी बख़ूबी उल्लेख किया।

 

ललिताः सुरेश जी लिखते हैं कि साप्ताहिक "विश्व का आइना" में जून माह में शानतोंग प्रान्त के छिंगताओ शहर में आयोजित होने वाले शांगहाई सहयोग संगठन के शिखर सम्मेलन पर पेश रिपोर्ट महत्वपूर्ण लगी। बताया जाता है कि शांगहाई सहयोग संगठन के शिखर सम्मेलन और 'एक पट्टी एक मार्ग' के निर्माण के चलते छिंगताओ अब समुद्री, थलीय वायु और रेल मार्ग जैसे परस्पर संचार-सुविधा वाला अहम व्यापारिक केन्द्र बनने जा रहा है।

श्रोताओं के अपने मंच साप्ताहिक "आपका पत्र मिला" के आज के अंक में तीन नये श्रोताओं का आगमन किसी शुभ-शकुन जैसा लगा। श्रोताओं के पत्र और प्रतिक्रियाओं को समाहित किये जाने के बाद व्हट्सएप्प के ज़रिये श्रोता भाई एसबी शर्मा द्वारा प्रेषित जानकारी और माँ को समर्पित कविता की जितनी भी प्रशंसा की जाये, कम है।

 

सपनाः वहीं साप्ताहिक "बाल-महिला स्पेशल" के तहत अन्तर्राष्ट्रीय बाल दिवस के मौके पर पेइचिंग स्थित एक प्रायमरी स्कूल में आयोजित विशेष कार्यक्रम पर पेश रिपोर्ट अच्छी लगी। हमें रिपोर्ट में स्कूल में बनायी जाने वाली माइक्रो फ़िल्म की चर्चा बहुत सार्थक लगी, क्यों कि इसके ज़रिये विद्यार्थी न केवल अपने बचपन को कैमरे में क़ैद कर संजो कर रख सकेंगे, बल्कि उन विद्यार्थियों को अधिक लाभ होगा, जो आगे चल कर फ़िल्मों में प्रवेश करना चाहते हैं।

"टी टाइम" कार्यक्रम का आगाज़ एप्पल के आने वाले आईफ़ोन को लेकर सामने आ रहीं तमाम तरह की लीक्स सम्बन्धी जानकारी के साथ किया जाना रुचिकर लगा। वहीं तकनीक और स्वास्थ्य संबंधी जानकारी, कार्यक्रम में पेश श्रोताओं की प्रतिक्रिया और ज़ोक्स बेहद मनोरंजक लगे।

साप्ताहिक "चीन का तिब्बत" में सछ्वान प्रान्त स्थित गैनत्सी तिब्बती स्वायत्त प्रदेश में वर्ष 2011 में स्थापित एक वृध्दाश्रम, जिसमें साठ साल से अधिक उम्र के कोई चालीस बुज़ुर्ग रहते हैं, के बारे में पेश रिपोर्ट अच्छी लगी।

कार्यक्रम "दक्षिण एशिया फ़ोकस" के अन्तर्गत चीन में साइंस फ़िक्शन पर आयोजित कॉन्फ्रेंस में भारत से भाग लेने गये प्रोफ़ेसर रामकिशन से की गयी बातचीत सुन कर इस अनूठे विषय पर दिलचस्प जानकारी हासिल हुई। एक सामान्य सामाजिक उपन्यास और साइंस फ़िक्शन कहानी का अन्तर भी बख़ूबी समझ में आया।

 

ललिताः सुरेश जी लिखते हैं कि सीआरआई हिन्दी वेबसाइट पर शांगहाई सहयोग संगठन यानी एससीओ के संदर्भ में आयोजित पहले मीडिया शिखर सम्मेलन पर रिपोर्ट पढ़ी, बहुत अच्छी लगी। मीडिया शिखर सम्मेलन में सबसे पहले चीनी राष्ट्रपति शी चिनफिंग का बधाई संदेश पढ़ा गया, जो कि एससीओ के पहले मीडिया शिखर सम्मेलन के लिए ख़ास तौर पर प्रेषित किया गया था। मुझे शी चिनफिंग के बधाई संदेश की यह पंक्तियां बेहद प्रभावकारी लगीं, जिसमें उन्होंने मीडिया से शांगहाई भावना को बढ़ावा देने और एससीओ के भीतर व्यावहारिक सहयोग के लिए अग्रणी के रूप में सेवा करने की बात कही गयी है। ऐसा संदेश कोई विश्वस्तरीय मानसिकता रखने वाला नेता ही दे सकते हैं।

सुरेश अग्रवाल जी, हमें पत्र भेजने के लिए आपका बहुत बहुत धन्यवाद।

 

सपनाः अब पेश है दरभंगा बिहार से मॉनिटर शंकर प्रसाद शंभू का पत्र। लिखते हैं कि कार्यक्रम "अतुल्य चीन" में सुना कि गत वर्ष के अन्त तक लगभग ५ लाख विदेशी छात्र चीन की उच्च शिक्षा संस्थाओं में अध्ययन कर रहे हैं। चीन एशिया में विदेशी छात्रों के अध्ययन का सबसे लोकप्रिय केन्द्र बनता जा रहा है। दक्षिण कोरिया, थाईलैण्ड और पाकिस्तान से आये छात्रों की संख्या पहले तीन स्थानों पर है, जिससे स्पष्ट होता है कि इस तीनों देशों के युवाओं को चीनी शिक्षण संस्थान सर्वाधिक आकर्षित किया है। चीनी परम्परागत संस्कृति कूम्फू यानि मार्शल आर्ट और थाई ची बड़ी संख्या में विदेशी छात्रों को अपनी ओर खींचती है।

"आर्थिक जगत" कार्यक्रम में चीन का मधुमक्खी उद्योग और शहद उत्पादन पर चर्चा की गई। बताया गया है कि चीन विश्व के सबसे बड़ा शहद उत्पादक देश है और मधुमक्खी उद्योग में विश्व में प्रथम स्थान है।

 

ललिताः शंभू जी ने आगे लिखा है कि कार्यक्रम "नमस्कार चाइना" में दिल्ली विश्वविद्यालय स्थित सामुदायिक रेडियो के गीतांजली द्वारा अखिल पराशर जी से ली गई साक्षात्कार का अंतिम भाग सुना, जिसमें अखिल जी ने गीतांजली जी द्वारा पूछे गए सभी प्रश्नों का उत्तर सरलता से दिए। उन्होंने श्रोताओं के लिए अपने संदेश में बताया कि मेहनत के जो आपका रास्ता है वह कभी न कभी आपके किस्मत का दरवाजा जरूर खोलेगा। हर चीज का फल जरूर मिलेगा। अखिल भैया के संदेश से हिन्दी कहावत "परिश्रम का फल मीठा होता है" याद आते हुए अच्छी सीख मिली।

कार्यक्रम "विश्व का आईना" में सुनाया गया कि जून माह में होने वाली 2018 शांगहाई सहयोग संगठन का शिखर सम्मेलन सुन्दर समुद्रतटीय शहर छिंगताओ में आयोजित होने के लिए सभी तैयारी कार्य पूरा हो चुका है और सहयोग के लिए स्वयं सेवक भी तैयार हो चुके हैं। सब से सुन्दर ऋतु में छिंगताओ शहर के स्वयं सेवक देश विदेश के अतिथियों को आमंत्रित कर रहे हैं। ये रिपोर्ट बेहद पसन्द आई।

श्रोताओं के चहेता साप्ताहिक कार्यक्रम "आप का पत्र मिला" में सर्वप्रथम दरभंगा बिहार के नए श्रोता मेराज आलम का पत्र पढ़ा गया। उसके बाद क्रमश: महराष्ट्र के श्रोता भाई सुधीर पाण्डेय, दरभंगा के नया श्रोता राज किशोर मुखिया, उड़ीसा के मॉनिटर भाई सुरेश अग्रवाल, पंजाब के श्रोता भाई गुरमीत सिंह, सउदी अरब के श्रोता भाई सादिक आजमी, पश्चिम बंगाल के श्रोता भाई शिवेन्दु पॉल के पत्र पढ़े गए। जमशेदपुर झारखण्ड के श्रोता भाई एस.बी.शर्मा द्वारा भेजी गई जानकारी का दूसरा भाग भी महत्वपूर्ण और लाभदायक सिद्ध हुआ।

 

सपनाः शंभू जी ने आगे लिखा है कि कार्यक्रम "बाल महिला स्पेशल" में सुनाया गया कि चीन के विभिन्न क्षेत्रों में स्थित स्कूलों में रंगारंग कार्यक्रम आयोजित करके बाल दिवस की खुशी मनायी गई। 31 मई की सुबह पेइचिंग के एक प्राइमरी स्कूल के घास के मैदान में सपने के पीछे दौड़ें नामक माइक्रो फिल्म कार्निवल का पुरस्कार वितरण समारोह आयोजित हुआ। इस गतिविधि का मुद्दा आसपास के सुन्दर जीवन का रिकॉर्ड है। माइक्रो फिल्म की कक्षा को न सिर्फ़ विशेषज्ञों का स्वीकार मिला, बल्कि बच्चों ने भी इसे बहुत पसंद किया है।

अगले साप्ताहिक कार्यक्रम "टी टाइम" में फिल्मी खबर में बताया गया कि बॉलीवुड में सलमान खान और डायरेक्टर अली अब्बास जफर दोनों की जोड़ी ने पहले "सुल्तान" और फिर "टाइगर जिंदा है" इन दोनों फिल्मों के हिट होने के बाद अब अपनी तीसरी फिल्म "भारत" पर काम कर रहे हैं। बाकी जानकारी भी अच्छी लगी।

साप्ताहिक कार्यक्रम "दक्षिण एशिया फोकस" में मुम्बई से आये राम किशन जी से भेंटवार्ता सुनाया गया, जिसमें साइन्स फिक्शन और सोनोग्राफी के टेक्नोलॉजी पर किया गया वार्तालाप बेहद पसंद आया।

वहीं कार्यक्रम "आप की पसंद" में श्रोताओं के फरमाइशी गीत और जानकारी भी पसंद आई। अच्छी प्रस्तुति के लिए धन्यवाद।

शंकर प्रसाद शंभू जी, हमें पत्र भेजने के लिए आपका भी बहुत बहुत धन्यवाद।

 

ललिताः अब पेश है अगला पत्र, जिसे भेजा है मुर्शिदाबाद पश्चिम बंगाल से शिवेन्दु पल ने। लिखते हैं कि पिछले आपका पत्र मिला कार्यक्रम बहुत अच्छा लगा। मेरा पत्र शामिल करने के लिए बहुत बहुत धन्यवा। टी टाइम कार्यक्रम में बहुत अच्छी और रोमांचक जानकारी सुनने को मिली।

बाकी आप की पसंद, सन्डे की मस्ती, नमस्कार चाइना, विश्व का आईना, चीन का तिब्बत, दक्षिण एशिया फोकस, अतुल्य चीन और आर्थिक जगत कार्यक्रम भी बहुत अच्छे लगे।

शिवेन्दु पल जी, हमें पत्र भेजने के लिए आपका बहुत बहुत धन्यवाद।

 

सपनाः दोस्तों अब पेश है शंभू जी द्वारा व्हट्सएप के जरिए हम तक पहुंचाने वाले हंसगुल्ले।

ट्रिंग ट्रिंग

लड़काः हेल्लो कौन ?

लड़कीः मैं सपना और तुम कौन ?

लड़काः मैं हकीकत !

ट्रिंग ट्रिंग

लड़काः हेल्लो कौन ?

लड़कीः मैं तुलसी और तुम कौन ?

लड़काः मैं रजनीगंधा

ट्रिंग ट्रिंग

लड़काः हेल्लो कौन ?

लड़कीः मैं पूनम और तुम कौन ?

लड़काः मैं अमावस

ट्रिंग ट्रिंग

लड़काः हेल्लो कौन ?

लड़कीः मैं बिजली और तुम कौन ?

लड़काः मैं ट्रांसफ़ारमर !

दूसरा जोकः

ग्राहकः भाई चूहे मारने की दवाई देना।

दुकानदारः घर ले जाना है ?

ग्राहकः नहीं चूहा साथ लेकर आया हूँ, इधर ही खिला दूँगा।

शंभू जी, हमें जोक्स भेजने के लिए आपका बहुत धन्यवाद।

 

सपनाः दोस्तों, इसी के साथ आपका पत्र मिला प्रोग्राम यही संपन्न होता है। अगर आपके पास कोई सुझाव या टिप्पणी हो तो हमें जरूर भेजें, हमें आपके खतों का इंतजार रहेगा। इसी उम्मीद के साथ कि अगले हफ्ते इसी दिन इसी वक्त आपसे फिर होगी मुलाकात। तब तक के लिए सपना श्रीवास्तव और ललिता को दीजिए इजाज़त, नमस्कार।

 

ललिताः बाय-बाय।

शेयर

सबसे लोकप्रिय

Related stories