01 सितम्बर 2019

2019-09-01 21:11:00
Comment
शेयर
शेयर Close
Messenger Messenger Pinterest LinkedIn


शानशी प्रांत:“बेल्ट एंड रोड”के निर्माण में सक्रिय, खुलपेन का लगातार विस्तार

इधर के सालों में पश्चिमोत्तर चीन में स्थित शानशी प्रांत अर्थतंत्र के लगातार और स्वस्थ विकास को आगे बढ़ा रहा है। पूरे प्रांत में अर्थतंत्र की नवाचार और स्पर्धा शक्ति लगातार मजबूत हो रही है। अब यह प्रांत चीन के पश्चिम की ओर खुलेपन की खिड़की और अग्रिम स्थल बन चुका है। वर्तमान में शानशी प्रांत सक्रिय रूप से“बेल्ट एंड रोड”के निर्माण में भाग ले रहा है और खुलेपन का लगातार विस्तार करने में लगा हुआ है।

पश्चिमोत्तर चीन में महत्वपूर्ण प्रांत ही नहीं, शानशी प्रांत प्राचीन रेशम मार्ग का शुरुआती स्थल भी है। इस प्रांत के गवर्नर हू हफिंग ने हाल ही में चीनी राज्य परिषद के सूचना कार्यालय में आयोजित न्यूज़ ब्रीफिंग में कहा कि“बेल्ट एंड रोड”के गहरे निर्माण के चलते शानशी प्रांत की भौगोलिक स्थिति और यातायात की श्रेष्ठता लगातार दिखाई दे रही है और वह चीन के पश्चिम की ओर खुलेपन की खिड़की और अग्रिम इलाका बन चुका है। उन्होंने कहा:“हम केंद्रीय अर्थतंत्र, द्वार वाले अर्थतंत्र, फ्लो अर्थव्यवस्था का जोरदार विकास करते हैं और बेल्ट एंड रोड के तहत यातायात व्यापारिक वाणिज्यिक लॉजिस्टिक्स केंद्र, अंतरराष्ट्रीय उत्पादन क्षमता के सहयोग केंद्र, वैज्ञानिक तकनीकी शिक्षा केंद्र, अंतरराष्ट्रीय सांस्कृतिक पर्यटन केंद्र और रेशम मार्ग वित्तीय केंद्र जैसे पाँच केंद्रों के निर्माण में गति दे रहे हैं। ताकि पूर्व और पश्चिम दोनों तरफ़ आपसी आपूर्ति वाले खुलेपन का नया नमूना स्थापित किया जा सके।”

हू हफिंग ने जानकारी देते हुए कहा कि शानशी प्रांत“बेल्ट एंड रोड”में सक्रिय रूप से भाग ले रहा है और खुलेपन का लगातार विस्तार कर रहा है। यूरोप-एशिया ब्रिज के महत्वपूर्ण यातायात केंद्र और चीन में उच्चतम मिश्रित यातायात केंद्रों में एक होने के नाते इधर के सालों में शानशी प्रांत अपनी क्षेत्रीय श्रेष्ठता के आधार पर अंतरराष्ट्रीय परिवहन गलियारे और अंतरराष्ट्रीय हवाई केंद्र के निर्माण को गति दे रहा है। उन्होंने कहा:“गत वर्ष शीआन का श्येनयांग अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे में विदेशी पर्यटकों और हवाई माल परिवहन की वृद्धि गति देश भर के 10 हवाई अड्डों में पहला स्थान पर रही। यहां 4 करोड़ 46 लाख 50 हज़ार यात्रियों का सत्कार किया गया। इसके अलावा, छांगआन नाम की चीन-यूरोप रेल गाड़ियों ने रेशम मार्ग के 44 तटीय देशों और क्षेत्रों को जोड़ा। गत वर्ष 1235 चीन-यूरोप रेल गाड़ियों का आवागमन हुआ, जो साल 2017 से 6.37 गुना अधिक रहा। इस वर्ष जनवरी से जुलाई तक एक हज़ार से अधिक रेल गाड़ियों का आवागमन हो चुका है। यातायात की मात्रा, माल का भार और माल के परिवहन की संख्या देश भर में पहली पंक्ति में बनी हुई है।”

प्राचीन काल से आज तक शानशी प्रांत चीन में खुलेपन का महत्वपूर्ण द्वार है। गवर्नर हू हफिंग ने कहा कि द्वार वाले अर्थतंत्र के विकास को शानशी प्रांत महत्व देता है, अब यह प्रांत चीन में सबसे बड़ा थलीय बंदरगाह बन चुका है। उनका कहना है:“राजधानी शीआन में चीन में सबसे बड़ा थलीय बंदरगाह उपलब्ध है। इसके साथ ही हवाई अड्डे और रेलवे के विकास से शानशी प्रांत से मध्य एशिया और यूरोप के बीच आवाजाही ज्यादा सुविधापूर्ण होने लगी। मध्य एशिया और यूरोप से आई कई वस्तुएं शानशी प्रांत, यहां तक कि पूरे देश में विभिन्न सुपर मार्केट्स में प्रवेश कर चुकी हैं। शीआन लिनखोंग आर्थिक आदर्श क्षेत्र और शीआन सीमा पार ई-कॉमर्स मिश्रित परीक्षण केंद्र आदि के निर्माण में पुष्टि मिली, जिससे शानशी प्रांत के द्वार वाली क्षमता और मजबूत होगी।”

इस वर्ष चीन लोक गणराज्य की स्थापना की 70वीं वर्षगांठ हैं। शानशी प्रांत के खास न्यूज़ ब्रीफिंग के आयोजन के साथ प्रांत की गैर-भौतिक सांस्कृतिक विरासत जैसी छाया कठपुतली और मिट्टी की मूर्तियों का प्रदर्शन किया गया।

चीन में छाया कठपुतली या छाया खेल वाली कला का हजार साल पुराना इतिहास है। वर्ष 2011 में इसे "अमूर्त सांस्कृतिक विरासत की सूची" में शामिल किया गया। शानक्सी प्रांत की ह्वाश्यैन काउंटी में छाया कठपुतली खेलने की पुरानी परंपरा है और इसे "फिल्म का पूर्वज" बताया गया है। राष्ट्र स्तरीय गैर-भौतिक विरासत की उत्तराधिकारी वांग हाई यान ने कहा कि आधुनिक समाज में परंपरागत सांस्कृतिक विरासत की शक्ति उजागर करने के लिए उन्होंने छाया कठपुतली बनाने के कौशल और प्रदर्शन रूप में नवाचार किया है। उन्होंने कहा:“पारंपरिक छाया कठपुतली का रंग गहरा होता है, जो ज्यादा तौर पर लाल, पीला, हरा, सफेद और काला आदि रंगों से रंगा जाता था। हमने युगात्मक प्रगति के अनुकूल वर्तमान लोगों की पसंद के अनुसार छाया कठपुतलियां बनाते समय बैंगनी और हल्के रंग का प्रयोग किया। प्रदर्शन के दौरान हम लाइट और बिजली आदि आधुनिक विज्ञान और तकनीक का इस्तेमाल करते हैं। कभी-कभार तीन स्क्रीनों में एक ही कहानी वाला प्रदर्शन किया जाता है।”

उधर प्रांत की फंगश्यांग काउंटी में प्रचलित मिट्टी की मूर्तियां बनाने की बहुत पुरानी परंपरा है। वर्ष 2006 में इसे भी राष्ट्र स्तरीय गैर-भौतिक विरासत की सूची में शामिल किया गया। मिट्टी की मूर्ति कला के उत्तराधिकारी हू शिन मिंग ने कहा कि गैर-भौतिक सांस्कृतिक विरासत का अच्छी तरह संरक्षण करने के लिए इसमें आधुनिक जीवन को मिलाकर रखना चाहिये। उन्होंने कहा:“हम इससे संबंधित ऐतिहासिक डिज़ाइनों की खोज करते हैं। हम मिट्टी की मूर्ति वाले शराब सेट, खानपान के बर्तन और मोबाइल फोन का कवर आदि उत्पाद बनाते हैं। प्रति वर्ष मिट्टी की मूर्ति कला की शैली के डेढ़ लाख कप और शराब सेट जैसी वस्तुओं का उत्पादन करते हैं और इन उत्पादों से 1.6 करोड़ युआन की कमाई होती है।”


शेयर

सबसे लोकप्रिय

Related stories