टिप्पणी: गुप्त मकसद वाले अमेरिकी राजनीतिज्ञ धार्मिक स्वतंत्रता की चर्चा क्यों कर रहे हैं?

अमेरिका के उप राष्ट्रपति माइक पेन्स और विदेश मंत्री माइक पोम्पेओ ने 18 जुलाई को अलग अलग तौर पर भाषण देते हुए चीन को धार्मिक स्वतंत्रता को दबाने और मानवाधिकार का आक्रमण करने का आरोप लगाया। वास्तव में उन्होंने तथ्यों को अनदेखा कर धर्म और मानवाधिकार के झंडे के नीचे चीन के अन्दरूनी मामलों में हस्तक्षेप किया है। उन का मकसद है कि चीन में विभाजन और हंगामा बनाया जाएगा। इससे चीन-अमेरिका संबंधों को गंभीरता से नुकसान पहुंचाया गया है।

टिप्पणी: चीन बौद्धिक संपदा अधिकार के संरक्षण में आगे कोशिश करेगा

​17 जुलाई को आयोजित चीनी राज्य परिषद की एक मीटिंग में चीन बौद्धिक संपदा अधिकार के संरक्षण में अधिक कदम उठाने का फैसला लिया गया। जिस के मुताबिक चीन मुख्य तौर पर कई क्षेत्रों में बौद्धिक संपदा अधिकार का संरक्षण करेगा। यानी कि पहला, बाजार में सभी इकाइयों को बराबर व्यवहार किया जाएगा। सभी इकाइयों को एकीकृत मानक और कार्यक्रम अपनाया जाएगा। सरकार भी बौद्धिक संपदा अधिकार का उल्लंघन करने वाली कार्रवाइयों के खिलाफ अधिक जबरदस्त कदम उठाएगी। 

टिप्पणी:आईएमएफ में नव उभरती शक्तियों के प्रतिनिधित्व को बढ़ाना चाहिये

अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष यानी आईएमएफ ने 16 जुलाई को अध्यक्ष क्रिस्टिन लागार्ड का इस्तीफा स्वीकृत करने और नये अध्यक्ष निर्वाचित करने वाला कार्यक्रम शुरू करने की बात कही। जबकि कोई भी व्यक्ति नये अध्यक्ष का पद संभाले, आईएमएफ में नव उभरती शक्तियों के बोलने वाले अधिकार और प्रतिनिधित्व को बढ़ाया जाना चाहिये।

टिप्पणी:शिंच्यांग प्रदेश में आतंकविरोध का जो अनुभव है पश्चिम को सीखना चाहिये

हाल ही में रूस, सऊदी अरब और पाकिस्तान समेत 37 देशों के जेनेवा स्थित राजदूतों ने संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार परिषद के अध्यक्ष और उच्चायुक्त के समक्ष पत्र लिखकर चीन के शिंच्यांग प्रदेश में आतंकवाद का विरोध किये जाने में प्राप्त अनुभवों का उच्च मूल्यांकन किया। इससे यह जाहिर है कि शिंच्यांग के आतंक विरोध में प्राप्त जो अनुभव हैं, पश्चिमी देशों को सीखना चाहिये।

टिप्पणी:चीन की स्थिर अर्थव्यवस्था का निरंतर विकास

चीनी राष्ट्रीय सांख्यिकी ब्यूरो ने 15 जुलाई को यह घोषित किया कि इस साल के पहले छह महीनों में चीन का जीडीपी 450.9 खरब युआन तक रहा जो पिछले साल से 6.3 प्रतिशत अधिक रहा है।

टिप्पणी : चीन के अमेरिकी उद्यमों पर प्रतिबंध लगाने से अपने राष्ट्रीय हितों की दृढ़ता रक्षा करना

​अमेरिका ने हाल ही में थाईवान को 2 अरब 22 करोड़ अमेरिकी डॉलर के हथियार बेचने की योजना की घोषणा की। चीनी विदेश मंत्रालय ने शुक्रवार को कहा कि चीन संबंधित अमेरिकी उद्यमों पर प्रतिबंध लगाएगा। यह एक संप्रभु देश द्वारा अपने राष्ट्रीय मूल हितों की रक्षा करने वाला अपरिहार्य कदम है।

टिप्पणी : एआईआईबी के सदस्यों की संख्या सौ तक हुई

एआईआईबी यानी एशियाई आधारभूत संस्थापन निवेश बैंक ने 13 जुलाई को लक्समबर्ग में आयोजित वार्षिक सम्मेलन में बेनिन, जिबूती और रवांडा तीन अफ्रीकी देशों को सदस्यता स्वीकार की, जिससे इस बैंक में सदस्यों की संख्या सौ तक हो गई है। अंतरर्राष्ट्रीय अर्थतंत्र में अनिश्चितता पैदा होने की स्थिति में एआईआईबी का विस्तार हुआ है जिससे अंतर्राष्ट्रीय समुदाय में इसका विश्वास बढ़ा है।

टिप्पणीः चीनी वैदेशिक व्यापार में पर्याप्त लचीलापन है

चीनी कस्टम द्वारा 12 जुलाई को जारी आंकड़ों के अनुसार इस साल के पहले छै महीनों के आयात निर्यात की कुल राशि 146 खरब 70 अरब युवान थी ,जो पिछले साल की समान अवधि से 3.9 प्रतिशत बढ़ी ।

टिप्पणी :विदेशी पूंजी ने चीनी अर्थव्यवस्था के पक्ष में वोट डाला

चीनी वाणिज्य मंत्रालय द्वारा 11 जुलाई को जारी आंकड़ों से पता चला है कि इस साल के पूर्वार्द्ध में चीन ने 4 खरब 78 अरब 33 करोड़ युवान की विदेशी पूंजी का वास्तविक प्रयोग किया है, जो पिछले साल की समान अवधि से 7.2 प्रतिशत बढ़ी है।

टिप्पणी:ताइवान सवाल से चीन को दबाने की कार्रवाई खतरनाक है

अमेरिका ने हाल ही में ताइवान को 2.22 अरब अमेरिकी डॉलर मूल्य हथियार बेचने की पुष्टि की। चीन ने इस पर कड़ी आपत्ति जतायी और सख्त लहजे में विरोध किया। अमेरिका की कार्रवाई से एक चीन के सिद्धांत तथा तीन चीन-अमेरिका विज्ञप्तियों का उल्लंघन होता है। 

टिप्पणीः चीन-यूरोप संबंध आशावान

चीनी राष्ट्रपति शी चिनफिंग ने 7 जुलाई को बेल्जियम के प्रधानमंत्री चार्ल्स मिशेल को यूरोपीय परिषद के नए अध्यक्ष बनने पर फोन करके बधाई दी। शी चिनफिंग ने कहा कि चीन अंतर्राष्ट्रीय मामलों में और अहम भूमिका निभाने में यूरोप का समर्थन करता है। इससे यूरोप के साथ सहयोग करने की चीन की इच्छा ज़ाहिर हुई है।

टिप्पणी :चीनी अर्थव्यवस्था पर विश्व की निर्भरता बढ़ रही है

मेकिंसे ग्लोबल इंस्टीट्यूट ने हाल ही में रिपोर्ट जारी कर बताया कि वर्ष 2000 से वर्ष 2017 तक चीनी अर्थव्यवस्था पर विश्व की निर्भरता का सूचकांक 0.4 से बढ़कर 1.2 तक जा पहुंचा।

1234...NextEndTotal 19 pages