जिम्बाब्वे के विद्वान ने संयुक्त राष्ट्र संघ के अधिकारों की रक्षा करने की अपील की

2020-09-22 12:40:21
शेयर
शेयर Close
Messenger Messenger Pinterest LinkedIn

जिम्बाब्वे के विद्वान तनाका चित्सा ने सीएमजी के संवाददाता को इन्टरव्यू देते समय बहुत सालों में विश्व शांति की रक्षा और विभिन्न देशों के विकास को मजबूत करने में संयुक्त राष्ट्र संघ की सकारात्मक भूमिका का उच्च मूल्यांकन किया। उन्होंने विभिन्न देशों से संयुक्त राष्ट्र संघ के अधिकारों की रक्षा करने, एक साथ चुनौतियों का मुकाबला करने की अपील की, ताकि अनवरत विकास का लक्ष्य पूरा किया जा सके।

तनाका जिम्बाब्वे के प्रसिद्ध थिंक टैंक दक्षिण अफ़्रीका साहित्य अनुसंधान केंद्र के एक विद्वान हैं। उन्होंने कहा कि संयुक्त राष्ट्र संघ की स्थापना के 75 वर्षों में उसने विभिन्न देशों की शक्ति को इकट्ठा करके मानव के सामने मौजूद समान धमकी व चुनौती का मुकाबला किया। इस वर्ष कोविड-19 महामारी के मुकाबले में संयुक्त राष्ट्र संघ व उसके अधीन संस्था विश्व स्वास्थ्य संगठन ने महत्वपूर्ण भूमिका अदा की है। उदाहरण के लिये विभिन्न देशों के लिये महामारी की रोकथाम से जुड़े कदम निश्चित करने में निर्देशन देना, चिकित्सकों के लिये रक्षात्मक सामग्री भेजना, और सदस्य देशों को टीके के अध्ययन में निर्देशन करना।

तनाका ने कहा कि हाल के कई वर्षों में संयुक्त राष्ट्र संघ ने सदस्य देशों का नेतृत्व करके अनवरत विकास का लक्ष्य पूरा करने के लिये पूरी कोशिश की। और विस्तृत विकासशील देशों, खास तौर पर अफ़्रीकी देशों में गरीबी को दूर करने में वास्तविक प्रगति हासिल हुई है।

चंद्रिमा

शेयर

सबसे लोकप्रिय

Related stories