"अमेरिका फर्स्ट" से अमेरिका और अधिक अकेला हो गया है : अमेरिकी मीडिया

2020-06-29 17:03:30
शेयर
शेयर Close
Messenger Messenger Pinterest LinkedIn

जर्मन चांसलर एंजेला मर्केल ने 26 जून को एक इंटरव्यू में कहा कि यदि अमेरिका स्वेच्छा से विश्व शक्ति के रूप में अपनी भूमिका त्यागता है, तो जर्मनी को मौलिक रूप से भविष्य में ट्रान्साटलांटिक संबंधों पर पुनः विचार करना पड़ेगा। ब्रिटिश "गार्जियन" की रिपोर्ट के अनुसार मर्केल ने कहा कि दुनिया के अन्य देश अब यह नहीं मान सकते हैं कि अमेरिका अभी भी वैश्विक नेता बनने के लिए उत्सुक है। यदि अमेरिका अब स्वेच्छा से इस भूमिका का त्याग करना चाहता है, तो हमें गहन रूप से इसकी पुनःसमीक्षा करनी पड़ेगी।

इधर के वर्षों में जर्मनी और अमेरिका के बीच सैन्य खर्च, जलवायु परिवर्तन, व्यापार विवाद, "नॉर्ड स्ट्रीम-2" प्राकृतिक गैस पाइपलाइन परियोजना, ईरानी परमाणु समझौते सहित कई मुद्दों पर मतभेद हैं। 15 जून को अमेरिकी राष्ट्रपति डॉनल्ड ट्रम्प ने कहा कि जर्मनी में तैनात अमेरिकी सैनिकों की संख्या में काफी कमी होगी।

इधर के सालों में अमेरिका की एकपक्षीय कार्रवाइयों के बारे में सीएनएन ने 28 जून को टिप्पणी की कि अमेरिका कोरोनावायरस महामारी का एक परित्यक्त बच्चा और एक अविश्वसनीय सहयोगी बन रहा है और अपने को अकेला महसूस कर रहा है। लेख का मानना है कि ट्रम्प ने महामारी से लड़ने के लिए कीटाणुनाशक इंजेक्शन लगाने और हाइड्रोक्सीक्लोरोक्वीन पीने का सुझाव दिया है, जो स्वास्थ्य विशेषज्ञों की राय से असहमत है। इससे ट्रम्प के महामारी विरोधी दृष्टिकोण बेकार हो गये। चीन की तुलना में अमेरिका अपनी जनता को निराश कर रहा है।

पिछली मई में विश्व स्वास्थ्य संगठन के वार्षिक सम्मेलन में यूरोप ने अमेरिका द्वारा चीन में महामारी के प्रति प्रतिक्रिया की जांच करने की मांग को अस्वीकृत किया। लेख ने स्वीडिश पूर्व प्रधानमंत्री कार्ल बिल्ट के हवाले से कहा कि चीन की स्पष्ट रणनीति है और अधिक आत्मविश्वास भी है। यूरोपीय संघ वैश्विक सहयोग के एंडगेम को बचाने की कोशिश कर रहा है और अमेरिका कोविड-19 महामारी के मुकाबले की तुलना में चीन का सामना करने के लिए अधिक उत्सुक है।

(मीनू)

शेयर

सबसे लोकप्रिय

Related stories