जर्मनी और फ्रांस ने डब्ल्यूएचओ को अधिक वित्तीय सहायता दी

2020-06-26 11:45:59
शेयर
शेयर Close
Messenger Messenger Pinterest LinkedIn

जर्मनी के स्वास्थ्य मंत्री जेंस सपाहन और फ्रांस के स्वास्थ्य मंत्री ओलिवयर वेरेन ने 25 जून को जेनेवा में स्थित विश्व स्वास्थ्य संगठन के हेडक्वार्टर का दौरा किया और महानिदेशक टेड्रोस अधनोम घेब्रेयेसस के साथ वार्ता की। वार्ता के बाद दोनों देशों ने डब्ल्यूएचओ को अधिक वित्तीय सहायता देने का फैसला घोषित किया।

25 जून को जेनेवा में आयोजित संवाददाता सम्मेलन में जेंस सपाहन ने कहा कि कुछ दिन बाद जर्मनी यूरोपीय संघ का रोटेटिंग अध्यक्ष देश बनेगा। जर्मनी विश्व स्वास्थ्य संगठन को और अधिक वित्तीय सहायता और मास्क, वेंटिलेटर आदि चिकित्सीय उपकरण भी प्रदान करेगा। जर्मनी चिकित्सा उपकरणों सहित कुल पचास करोड़ यूरो की सहायता प्रदान करेगा। जो विश्व स्वास्थ्य संगठन का समर्थन करने का हमारा स्पष्ट सिगनल है। हमें विश्वास है कि वैश्विक महामारी के दौरान किसी भी देश को अपने साथियों के साथ तालमेल करना पड़ेगा और विश्व व्यापी संकट के समाधान में किसी भी देश की अकेली कोशिश विफल होगी।  

उधर ओलिवयर वेरेन ने भी कहा कि फ्रांस विश्व स्वास्थ्य संगठन को अधिक वित्तीय सहायता प्रदान करेगा। फ्रांस लीयोन में स्थित विश्व स्वास्थ्य संगठन के एक अनुसंधान सेंटर को नौ करोड़ यूरो सहायता देगा और विश्व स्वास्थ्य संगठन को और पाँच करोड़ यूरो प्रदान करेगा। उन्हों ने न्यू कोरोना वायरस महामारी को रोकने में विश्व स्वास्थ्य संगठन की अहम भूमिका की प्रशंसा की। और कहा कि केवल डब्ल्यूएचओ वैश्विक महामारी के लिए "विश्वव्यापी उत्तर" तैयार कर सकता है।

उधर टेड्रोस ने संवाददाता सम्मेलन में जर्मनी और फ्रांस को आभार प्रकट करते हुए कहा कि यूरोप, विश्व और डब्ल्यूएचओ के लिए अब अहम समय है। आज दुनिया को पहले से कहीं ज्यादा नेतृत्व और अंतरराष्ट्रीय सहयोग की जरूरत है।

  ( हूमिन )

शेयर

सबसे लोकप्रिय

Related stories