अमेरिका के "ओपन स्काई संधि" से पीछे हटने से वैश्विक सुरक्षा प्रणाली पर असर:रूस

2020-05-23 17:08:39
शेयर
शेयर Close
Messenger Messenger Pinterest LinkedIn

रूस के उप विदेश मंत्री सर्गेई रयाबूकोव ने 22 मई को कहा कि अमेरिका के "ओपन स्काई संधि" से पीछे हटने से वैश्विक सुरक्षा प्रणाली पर बुरा असर पड़ेगा।

सर्गेई रयाबूकोव ने कहा कि रूस को अमेरिका की "ओपन स्काई संधि" से हटने की सूचना मिली है। रूस "ओपन स्काई संधि" के ढ़ांचे में वार्ता करने को तैयार है, लेकिन अमेरिका की शर्तें स्वीकार करने लायक नहीं है। सर्गेई रयाबूकोव ने कहा कि अमेरिका ने अगस्त 2019 में "इंटरमीडिएट-रेंज न्यूक्लियर फोर्सेस (INF) संधि" से एकतरफा तौर पर हटने की घोषणा की। उसका बहाना था कि रूस ने इस संधि का उल्लंघन किया है, लेकिन वह झूठ है। आज अमेरिका ने समान बहाने पर "ओपन स्काई संधि" से हटने का फैसला लिया है।

सर्गेई रयाबूकोव ने कहा कि यहां तक कि अमेरिका के सहयोगियों ने भी अमेरिका की नीतिगत स्थिरता पर संदेह या चिन्ता व्यक्त की है, लेकिन "ओपन स्काई संधि" 34 देशों से संबंधित है। अमेरिका के हटने से यह संधि खत्म नहीं हो जाएगा। रूस दूसरे देशों के साथ सहयोग कर इस संधि के विकास को आगे बढ़ाएगा।

1992 में हस्ताक्षरित "ओपन स्काई संधि" के 34 हस्ताक्षरित देश हैं। उनमें अमेरिका, रूस और अधिकांश नाटो सदस्य शामिल हैं। इस संधि के मुताबिक हस्ताक्षरित देश अन्य सदस्य देशों की प्रादेशिक भूमियों पर वायु टोही कर सकते हैं। उधर बेल्जियम, नीदरलैंड, लक्समबर्ग, फ्रांस, जर्मनी, इटली, चेक, स्पेन, स्वीडन और फिनलैंड समेत दस यूरोपीय देशों ने 22 मई को अपने एक संयुक्त वक्तव्य में "ओपन स्काई संधि" से हटने के लिए अमेरिका के फैसले पर खेद जताया और कहा कि वे इस संधि का पालन करना जारी रखेंगे। लोकमत का मानना है कि अमेरिका की कार्रवाई से वाशिंग्टन और उसके यूरोपीय सहयोगियों के बीच दरार को और गहरा बनाया जाएगा। नाटो के महासचिव जेंस स्टोल्टनबर्ग ने कहा कि "ओपन स्काई संधि" के सभी हस्ताक्षरित पक्षों को अपने वचन का पालन करना चाहिये। उधर, जर्मनी के विदेश मंत्री ने अमेरिका के इस फैसले पर खेद जताया।

चीनी विदेश प्रवक्ता चाओ ली चैन ने 22 मई को कहा कि चीन भी अमेरिका के "ओपन स्काई संधि" से हटने के फैसले पर खेद प्रकट करता है। अमेरिका ने शीत युद्ध, "अमेरिकन फर्स्ट" और एकतरफावाद की विचारधारा के मुताबिक अनेक अंतर्राष्ट्रीय वादों से मुकर गया है। अमेरिका का यह कदम क्षेत्रीय सैन्य पारस्परिक विश्वास तथा संबंधित क्षेत्रों में सुरक्षा और स्थिरता बनाए रखने के लिए अनुकूल नहीं है।

( हूमिन )

शेयर

सबसे लोकप्रिय

Related stories