महामारी-विरोधी वैश्विक सहयोग में चीन की प्रतिबद्धता का उच्च मल्यांकन

2020-05-21 14:40:33
शेयर
शेयर Close
Messenger Messenger Pinterest LinkedIn

स्थानीय समय के अनुसार 20 मई को डब्ल्यूएचओ के महानिदेशक टेड्रोस अधनोम घेब्रेयसस ने कहा कि 73वीं विश्व स्वास्थ्य महासभा में सलाह-मशविरे के माध्यम से पारित कोविड-19 महामारी के प्रस्ताव को उन्होंने धन्यवाद प्रकट किया।

इस बार की महासभा में चीनी नेता ने दुनिया में महामारी-विरोधी सहयोग को बढ़ाने के लिये 5 उपायों पर ख़ास बल दिया। उन्होंने अपील की कि सभी देशों को एक साथ मिलकर मानव स्वास्थ्य समुदाय का संयुक्त निर्माण करना चाहिये। अंतर्राष्ट्रीय समुदाय ने इस भाषण का उच्च उल्यांकन किया।

अमेरिकी पोलिटिको वेबसाइट ने रिपोर्ट की कि महामारी में प्रभावित देशों का समर्थन करने के लिये अगले दो साल में चीन 2 अरब अमेरिकी डॉलर की अंतर्राष्ट्रीय सहायता देगा। अमेरिकी राष्ट्रपति डॉनाल्ड ट्रम्प ने डब्ल्यूएचओ के अनुदान में कटौती का फ़ैसला किया है, हालांकि चीन डब्ल्यूएचओ को एकजुट करना जारी रखेगा और महामारी-विरोधी सहयोग का आगे प्रयास करेगा।

वर्तमान में अंतर्राष्ट्रीय समुदाय महामारी-विरोधी सहयोग और नये टीकों की आपूर्ति एवं वितरण की चिंता पैदा हुई है। इस बात के प्रति चीन ने घोषणा की कि कोविड-19 के चीनी टीकों के विकास और उपयोग में लाने के बाद वे वैश्विक सार्वजनिक उत्पाद बनेंगे। इसीलिये विकासशील देशों में टीकों को लोकप्रिय बनाने और आर्थिक बोझ कम करने के लिये चीन अपना योगदान करेगा।

अमेरिकी वेबसाइट पोलिटिको ने रिपोर्ट की कि चीन का यह बयान काफी महत्वपूर्ण है। यह इस बात का संकेत है कि चीन सभी देशों के कोविड-19 के टीके समान रूप से प्राप्त करने के लिये हर संभव प्रयास करता है।

ब्लूमबर्ग ने रिपोर्ट की कि चीन ने डब्ल्यूएचओ का पूर्ण समर्थऩ करने के लिए प्रतिबद्धता ज़ाहिर की। चीन के कदम ट्रम्प सरकार के डब्ल्यूएचओ पर आरोप लगाने और डब्ल्यूएचओ का अनुदान अस्थायी रूप से खत्म करने के उलट है।

अमेरिकी बिज़नेस इन्साइडर वेबसाइट ने रिपोर्ट की कि अंतर्राष्ट्रीय मंच पर चीन के व्यवहार ने अपना उदार रवैया प्रकट किया। यह निर्विवाद है कि चीन वैश्विक नेतृत्व कर रहा है।

(हैया)

शेयर

सबसे लोकप्रिय

Related stories