टिप्पणीः लिंडसे ग्रहमकी की कथनी महामारी के मुकाबले में अमेरिकी राजनीतिज्ञों की गलतियों को नहीं मिटा सकती

2020-04-12 17:01:28
शेयर
शेयर Close
Messenger Messenger Pinterest LinkedIn

हाल में अमेरिकी फॉक्स न्यूज के एक प्रोग्राम में रिपब्लिकन पार्टी के सांसद लिंडसे ग्रहमकी ने कहा कि अमेरिका में 16 हजार अमेरिकियों की मौत और 1.7 करोड़ अमेरिकियों के बेरोजगार होने की जिम्मेदारी चीन को उठानी चाहिए।अमेरिकी राजनीतिज्ञों ने हाल में बार बार इस तरह की बातें कहीं हैं । उन्होंने महामारी के मुकाबले में अपनी गलतियों को चीन पर जबरदस्त थोपने और खुद के हितों की रक्षा करने की पूरी कोशिश की।

द वाशिंगटन पोस्ट ने हाल में कहा कि 3 जनवरी को चीन से कोविड-19 की चेतावनी पाने के बाद 13 मार्च तक के 70 दिनों में अमरिका ने चीन की चेतावनी को नजरअंदाज किया और कुछ भी नहीं किया, जिससे चीन द्वारा लगाए गए मूल्यवान समय को वेस्ट किया है। साथ ही कोविड-19 की जांच में भी अमेरिका ने कमियां दिखायीं। अमेरिका में चिकित्सा सामग्री के अभाव की स्थिति भी नजर आती रही। चाहे अमेरिका के कुछ राजनीतिज्ञों ने किस तरह अपने कर्तव्य से बचने की कोशिश की, फिर भी वे इस के लिए जिम्मेदार हैं। ज्यादा से ज्यादा मीडिया संस्थाएं इस पर सोच विचार कर रही हैं।

अख़बार बोस्टन ग्लोब ने हाल में एक समीक्षा में कहा कि बहुत ज्यादा मौतों और मुसीबतों को बचाया जाना चाहिए था, लेकिन ह्वाउट हाउस के प्रलयकारी निर्णय ने दुनिया में सब से समृद्ध देश को विवश होकर कठिन वक्त बिताना पड़ रहा है। न्यूयार्क टाइम्स ने भी आलोचना की कि अमेरिका में महामारी के प्रति प्रतिक्रिया बड़े हद तक राजनीतिक साजिश के मुताबिक की जाती है।

महामारी के प्रकोप में अमेरिकी राजनीतिज्ञ अर्थतंत्र पर बहुत चिंतित हैं। आखिरकार आर्थिक उपलब्धियां ट्रम्प सरकार की सब से बड़ी उपलब्धि है, साथ ही अमेरिकी नेता के पद पर पुनः संभालने का आधार भी। हालांकि दो हफ्ते पहले अमेरिकी फेडरल रिजर्व ने 20 खरब अमेरिकी डॉलर मूल्य वाली आर्थिक प्रेरणा योजना पेश की, फिर भी यह एक संदेह है कि कर्ज कैसे सच्चे माइने में उद्यमों और परिवारों में जा सकते हैं।

लिंडसे ग्रहमकी जैसे लोगों ने अपने देश की महामारी के निपटने और आर्थिक नीति के कार्यान्वयन में समस्याओं पर चिंतन नहीं किया, फिर भी अमेरिका में महामारी की गंभीरता और बेरोजगारी बढ़ने की जिम्मेदारी चीन पर थोपने की कोशिश की, जो बिलकुल निराधार है।

इस बार की महामारी एक आईने की तरह है, जिसमें कुछ अमेरिकी राजनीतिज्ञों के बुरे आचरण का प्रदर्शन किया है। वायरस की कोई सीमा नहीं होती। जिम्मेदारी को दूसरों पर डालने से बर्बाद हुए समय को वापस नहीं लाया जा सकता है। केवल एकता और सहयोग से ही हम महामारी के मुकाबले में यथाशीघ्र ही विजय पा सकेंगे।

(श्याओयांग)

शेयर

सबसे लोकप्रिय

Related stories