ओसाका शिखर सम्मेलन में मौसम परिवर्तन के मुद्दे पर सहमति बनाई गयी एक अच्छी बात

2019-06-30 16:09:04
Comment
शेयर
शेयर Close
Messenger Messenger Pinterest LinkedIn

चीनी विदेश मंत्रालय के जी-20 मामलों के विशेष दूत, अंतर्राष्ट्रीय आर्थिक ब्यूरो के प्रधान वांग श्याओलोंग ने 29 जून को जापान के ओसाका के चीनी प्रतिनिधि मंडल के प्रेस सेंटर में एक न्यूज़ ब्रीफिंग का आयोजन कर शिखर सम्मेलन में चीन द्वारा किये गये प्रयास और प्राप्त लक्ष्य का परिचय दिया।

जब संवाददाता ने पूछा कि अमेरिका ने शिखर सम्मेलन की विज्ञप्ति में मौसम परिवर्तन के मुद्दे का समर्थन नहीं किया। इसका विज्ञप्ति के कार्यान्वयन पर क्या असर पड़ेगा? वांग श्याओलोंग ने जवाब दिया कि अमेरिका विश्व की सबसे बड़ी आर्थिक इकाई है, साथ ही अंतर्राष्ट्रीय मौसम परिवर्तन के सहयोग का एक अहम पक्ष भी है। हालांकि अमेरिका ने पेरिस समझौते से हटने का ऐलान किया, फिर भी अमेरिका संयुक्त राष्ट्र मौसम परिवर्तन ढांचा संधि के संस्थापक देशों में से एक भी रहा। इसलिए अमेरिका अंतर्राष्ट्रीय समुदाय द्वारा मौसम परिवर्तन की चुनौती का सामना करने का अहम गठित भाग भी रहा। इधर के सालों में मौसम परिवर्तन समस्या हमेशा ही जी-20 शिखर सम्मेलन में चर्चित अहम मुद्दा है। हालांकि अमेरिका की मौजूदा सरकार पेरिस समझौते पर अलग रुख अपनाती है, फिर भी लोगों के समान प्रयास से विभिन्न पक्षों ने जी-20 में मौसम परिवर्तन के सहयोग पर समानता की खोज भी की। ओसाका शिखर सम्मेलन के दौरान लोगों ने अंतिम वक्त में मौसम परिवर्तन पर सहमति बनाई। यह अंतर्राष्ट्रीय पर्यावरण सहयोग, अनवरत विकास और सहयोग, खास तौर पर मौसम परिवर्तन का निपटारा करने के सहयोग के लिए एक अच्छी बात होगी।

(श्याओयांग)

शेयर

सबसे लोकप्रिय

Related stories