सूचना:चाइना मीडिया ग्रुप में भर्ती

टिप्पणी:चीन ने उच्च गुणवत्ता वाले विश्व अर्थतंत्र के विकास के लिए अहम कदम घोषित किये

2019-06-28 22:22:44
शेयर
शेयर Close
Messenger Messenger Pinterest LinkedIn

जी 20 ओसाका शिखर सम्मेलन में चीनी राष्ट्रपति शी चिनफिंग ने भाषण देते हुए यह कहा कि चीन अपने बाजार को खोलने की दिशा में पाँच अहम कदम उठाएगा।

इस साल अंतर्राष्ट्रीय वित्तीय संकट को 10 साल हो गये। विश्व अर्थतंत्र एक बार फिर चौराहे पर आ खड़ा हुआ है। आईएमएफ की अध्यक्ष क्रिस्टिन लागार्डे ने हाल में कहा कि दो साल पहले विश्व अर्थतंत्र के अधिकांश भाग में वृद्धि देखने को मिली, लेकिन इस साल विश्व अर्थतंत्र का यह भाग मंदी से ग्रस्त रहा है। इस समय विभिन्न मुख्य अर्थतंत्र का विकल्प महत्वपूर्ण है।

शी चिनफिंग द्वारा घोषित किये गये पाँच कदमों में शामिल हैं यानी कि विदेशी निवेश के लिए 2019 संस्करण की नकारात्मक सूची जारी की जाएगी, और चीन कृषि, खनन, विनिर्माण और सेवा कारोबारों को अधिक तौर पर खोला जाएगा। चीन अपने कर वसुली स्तर को और कम करेगा। चीन व्यापार वातावरण में सुधार लाने के लिए अगले वर्ष से नया विदेशी निवेश कानून लागू करेगा। चीन विदेशी निवेशकों के लिए नकारात्मक सूची में जो निर्धारित नहीं है, उन सभी प्रतिबंधों को हटाएगा। अंततः चीन क्षेत्रीय आर्थिक साझेदार संबंध संधि, चीन-यूरोप निवेश संधि तथा चीन-जापान-दक्षिण कोरिया स्वतंत्र व्यापार समझौते की वार्ता में गति देगा।

बीते एक ही साल में अमेरिका ने चीन के खिलाफ व्यापार घर्षण छेड़ा। इसके मुकाबले में चीन ने खुलेपन का विस्तार करने के सिलसिलेवार कदम उठाये हैं। इस साल पहले पाँच महीनों में चीन का अर्थतंत्र सुभीतापूर्ण रूप से चल रहा है। माल व्यापार की रकम राशि 120 खरब युआन तक रही, जो पिछले साल की समान अवधि से 4.1 प्रतिशत अधिक रहा। इसी दौरान चीन में लगाये गये विदेशी निवेश की संख्या भी 3 खरब 69 अरब युआन तक रही जो पिछले साल से 6.8 प्रतिशत अधिक रही। चुंगी व व्यापारिक दीवार होने के बावजूद चीन ने अविचल तौर पर अपने द्वार को और अधिक खोल दिया है।

खुले वैश्विक अर्थतंत्र के सक्रिय कार्यकर्ता और संवर्धक के रूप में राष्ट्रपति शी चिनफिंग ने शिखर सम्मेलन के दौरान कई स्थलों में विभिन्न देशों से खुले विश्व अर्थतंत्र का समान रुप से निर्माण करने और उसकी रक्षा करने की अपील की, ताकि विश्व अर्थतंत्र स्वस्थ और जीवन शक्ति से ओतप्रोत हो सके। लोगों को चीन के खुलेपन के अनुभवों और फलों से चीन की बुद्धि और चीन के प्रस्ताव का वैश्विक मूल्य समझना चाहिए।

वर्तमान में परिवर्तित वैज्ञानिक तकनीकी विकास से विभिन्न देशों के आर्थिक ढांचे में परिवर्तन को भी अहम मौका मिला है। वैश्विक अर्थतंत्र उच्च गुणवत्ता की ओर विकास किए जाने का कुंजीभूत समय हो गया है। अगर इस समय कोई संरक्षणवाद, एकतरफ़ावाद अपनाता है और वैश्विक व्यापारिक घर्षण पैदा करता है, तो न केवल खुद के विकास का मौका गंवा देगा, बल्कि विश्व अर्थतंत्र को भी बाधित करेगा। अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष ने चेतावनी देते हुए कहा कि अगर विभिन्न देश हाथ मिलाकर अंतरराष्ट्रीय व्यापारिक व्यवस्था में आधुनिकीकरण निर्माण में गति दें, एक ज्यादा खुली, स्थिर और पारदर्शी व्यापारिक व्यवस्था की स्थापना करें, तो दूरगामी दृष्टि से देखा जाए तो जी20 सदस्यों की जीडीपी वृद्धि दर 4 प्रतिशत से ज्यादा होगी। वरना, अगले चरण की आर्थिक मंदी से बच पाना मुश्किल होगा।

विश्व को आशा है कि विभिन्न देशों के नेता आर्थिक विकास के नियम के अनुसार विवेकतापूर्ण विकल्प करेंगे। सभी देशों को हाथ मिलाकर सहयोग और समान कार्रवाई करेंगे। पहले की ही तरह, चीनी राष्ट्रपति शी चिनफिंग ने मौजूदा शिखर सम्मेलन में प्रस्ताव पेश किया और जी20 में सुधार और नवाचार को बल दिया। उनके अनुसार, विभिन्न देशों को साझेदारी भावना दिखाते हुए आपसी विश्वास वाला सहयोग करना चाहिए। तनावपूर्ण स्थिति को शिथिल कर विकास के रास्ते में मौजूद बाधाओं को साफ़ करना चाहिए। मतभेदों में समानताओं की खोज करनी चाहिए, ताकि विश्व अर्थतंत्र को सहिष्णुता और अनवरत वृद्धि और उच्च गुणवत्ता वाले विकसित रास्ते पर पहुंचाया जा सके।

खुलापन और विकास, आपसी लाभ और उभय जीत चीन और विश्व का समान लक्ष्य है। चीन वास्तविक खुले कदमों के माध्यम से विश्व के साथ अपने विकास के अनुभव और मौके का उपभोग कर रहा है। विभिन्न पक्षों को आशा है कि ओसाका शिखर सम्मेलन बहुपक्षवाद पर डटे रहने, अंतरराष्ट्रीय व्यवस्था और मुक्त व्यापार व्यवस्था की रक्षा करने का स्पष्ट संकेत दिखाएगा, ताकि उच्च गुणवत्ता वाले विश्व आर्थिक विकास की नई स्थिति शुरु हो सके।



शेयर

सबसे लोकप्रिय

Related stories