शी चिनफिंग की विदेश यात्राओं में प्राप्त प्रगतियां

2019-03-28 11:09:30
Comment
शेयर
शेयर Close
Messenger Messenger Pinterest LinkedIn
1/6

चीनी राष्ट्रपति शी चिनफिंग ने 21 से 26 मार्च तक इटली, मोनाको और फ्रांस की राजकीय यात्रा की। यह इस वर्ष चीनी सर्वोच्च नेता की प्रथम यात्रा है।

23 मार्च को शी चिनफिंग और इतालवी प्रधानमंत्री कॉन्टे के बीच हुई वार्ता में दोनों ने चीन और इटली के बीच एक पट्टी एक मार्ग के निर्माण संबंधी एमओयू पर हस्ताक्षर करने में भाग लिया। इटली इस तरह सात पश्चिमी देशों में सर्वप्रथम चीन के साथ एक पट्टी एक मार्ग संधि संपन्न करने वाला देश बना है। यात्रा के दौरान इटली ने 796 चीनी कलाकृतियों को वापस दिया। जो इधर बीस सालों के भीतर चीन को वापस दी गयी सबसे ज्यादा सांस्कृतिक कलाकृतियां हैं। और वह भी संयुक्त राष्ट्र संधियों के तहत चीन और इटली के बीच सांस्कृतिक अवशेषों की अवैध तस्करी की रोकथाम के संदर्भ में किया गया सहयोग है।

मोनाको की यात्रा के दौरान 24 मार्च को शी चिनफिंग ने मोनाको के प्रिंस एल्बर्ट द्वितीय के साथ वार्ता की। यह किसी चीनी राजनेता की यूरोप में सबसे छोटे इस नगर देश की प्रथम यात्रा है। इसके बाद राष्ट्रपति शी चिनफिंग ने फ्रांस की यात्रा शुरू की। 24 मार्च को फ्रांसीसी राष्ट्रपति मैक्रोन ने शी चिनफिंग को 1688 में फ्रेंच भाषा में प्रकाशित कन्फ्यूशियस ऐनालेक्ट्स का मूल संस्करण भेंट की जिससे चीन और यूरोप के बीच आदान प्रदान करने का लम्बा इतिहास साबित है।

26 मार्च को शी चिनफिंग ने चीन-फ्रांस विश्व शासन मंच के समापन समारोह में भाग लिया। इससे पहले उन्होंने फ्रांसीसी राष्ट्रपति मैक्रोन, जर्मन चांसलर एंजेला मर्केल और यूरोपीय संघ की परिषद के अध्यक्ष जीन जंकर के साथ चार पक्षीय वार्ता की। वार्ता में शी ने कहा कि वर्तमान अंतर्राष्ट्रीय स्थितियों में अनिश्चितता और संरक्षणवाद उभरते जा रहे हैं। चीन दूसरे पक्षों के साथ-साथ बहुपक्षवाद और विश्व सुशासन को बढ़ाने को तैयार है।

एक पट्टी एक मार्ग के निर्माण में इटली की भागीदारी तथा चार पक्षीय वार्ता के आयोजन से यह साबित है कि चीन और यूरोप के बीच शांति, विकास, सुधार और सभ्यता के साझेदार संबंधों का निर्माण किया जा रहा है।

( हूमिन )

शेयर