टिप्पणी:ब्रिटेन की ब्रेक्सिट समस्या का जल्द ही समाधान हो सकेगा

2019-03-13 19:04:19
Comment
शेयर
शेयर Close
Messenger Messenger Pinterest LinkedIn

ब्रिटेन के संसद में 12 मार्च को विपक्ष में 391 वोट, पक्ष में 242 वोट से प्रधानमंत्री थेरेसा मेई के संशोधित ब्रेक्सिट समझौते को वीटो किया गया। योजनानुसार इस के प्रति 13 मार्च को एक बार फिर मतदान किया जाएगा। और इस के परीणाम से 29 मार्च को समझौता-रहित ब्रेक्सिट तय किया जाएगा।

प्रधानमंत्री मेई ने अपने समझौते को पास करवाने के लिए यथासंभव कोशिश की। 11 मार्च को यानी ब्रिटिश संसद में मतदान करने से पहले उन्होंने स्ट्रासबर्ग में यूरोपीय आयोग के अध्यक्ष जंकर के साथ वार्ता की और समझौते में विचारार्थ आयरलैंड सीमा के सवाल पर संशोधित करने की कोशिश की। थेरेसा मेई के प्रयासों का यूरोपीय संघ की तरफ से समर्थन प्राप्त हुआ। मेई ने कहा कि ब्रिटेन यूरोपीय संघ के साथ एक संयुक्त दस्तावेज़ पर हस्ताक्षर करेंगे, और दोनों पक्ष वर्ष 2020 से पहले ब्रेक्सिट होने के बाद व्यापारिक संबंधों पर समझौता संपन्न करेंगे। अगर यूरोपीय संघ गारंटी रुपरेखा के मुताबिक ब्रिटेन को सीमित करेगा, तो ब्रिटेन इस संयुक्त दस्तावेज के मुताबिक इसे खत्म कर सकेगा।

तेरेसा मेई और जंकर के बीच संपन्न संयुक्त दस्तावेज के मुताबिक दोनों पक्षों ने वर्ष 2020 के अंत तक यानी ब्रेक्सिट के बाद के व्यापारिक संबंधों पर एक समझौता संपन्न करने का वचन दिया। इस के अतिरिक्त ब्रिटेन भी एक वक्तव्य जारी कर यह घोषित किया कि वह व्यापार वार्ता की हार होने के वाजबूद गारंटी रूपरेखा का इस्तेमाल नहीं करेगा।

वास्तव में ब्रिटेन के अन्दर में कोई भी पक्ष, चाहे वह ब्रेक्सिट का समर्थन करता है या विरोध करता है, ब्रेक्सिट की वार्ता में "एज रणनीति" अपना रहा है। यहां तक कि यूरोपीय संघ भी यही नीति अपनाता है। वे अपनी अंतिम सीमा के सहारे कोई रियायत नहीं देना चाहते हैं और साथ ही अपने प्रतिद्वंद्वी को रियायत दिलवाने के लिए मजबूर कर रहे हैं। वास्तव में विभिन्न पक्ष डरते हैं और वे सब समझौता संपन्न करना चाहते हैं।

ब्रिटेन के वित्त बाजार में थेरेसा मेई के समझौते को वीटो करने की खबर सुनाने के बाद भी स्थिरता बनी रही। अमेरिकी डॉलर के मुकाबले ब्रिटिश पाउंड की विनिमय दर लगभग 1.307 पर स्थिर है। पाउंड की स्थिर विनिमय दर से यह जाहिर है कि अंतर्राष्ट्रीय निवेशक ब्रिटेन के ब्रेक्सिट के प्रति काफी आश्वस्त है। उधर विभिन्न पक्षों की "एज रणनीति" की वजह से ब्रिटेन के ब्रेक्सिट सवाल का अंतिम समाधान शायद जल्दी से किया जा सकेगा।

( हूमिन )

शेयर

सबसे लोकप्रिय

Related stories