11वीं चीन-अमेरिका व्यापार नेताओं और पूर्व वरिष्ठ अधिकारियों की वार्ता आयोजित

2018-12-07 14:11:27
Comment
शेयर
शेयर Close
Messenger Messenger Pinterest LinkedIn

4 दिसंबर को 11वीं चीन-अमेरिका व्यापार नेताओं और पूर्व वरिष्ठ अधिकारियों की वार्ता वाशिंग्टन में आयोजित हुई और वार्ता की समाप्ति पर एक संयुक्त वक्तव्य जारी हुआ। चीनी अंतर्राष्ट्रीय आर्थिक विनिमय केंद्र के प्रधान ज़ेंग पेइयान और अमेरिका के चैंबर ऑफ कॉमर्स के अध्यक्ष थोमस जे. दोनोहुए समेत दोनों देशों के तीसेक प्रतिनिधियों ने वार्ता में भाग लिया।

प्रतिनिधियों का मानना है कि दोनों देशों के राष्ट्रपतियों ने अर्जेंटीना में वार्ता कर भविष्य में चीन-अमेरिका संबंधों को निर्देशित किया है। स्वस्थ और स्थिर चीन अमेरिका आर्थिक संबंध दोनों देशों और पूरी दुनिया के मूल हितों के अनुकूल है। दोनों के बीच संबंधों को सामान्य कक्षाओं में वापस पहुंचाना दोनों देशों की जनता की समान अभिलाषा है। सहयोग करना चीन और अमेरिका के लिए एकमात्र सही विकल्प है।

चीनी प्रतिनिधियों ने जोर देकर यह आशा जतायी कि दोनों देशों के आर्थिक वार्ताकार जल्द ही राष्ट्रपतियों के बीच संपन्न सहमतियों का कार्यांवयन कर सकेंगे और आपसी लाभ वाले समझौते पर हस्ताक्षर करेंगे। बौद्धिक संपदा सुरक्षा, तकनीकी सहयोग, राज्य के स्वामित्व वाली उद्यम की स्थिति, बाजार उन्मुख सुधार और औद्योगिक सब्सिडी के संदर्भ में मौजूद जो मतभेद है, इन के प्रति अमेरिका को चीन में रुपांतर और खुलेपन की प्रगतियों और उपलब्धियों को समझना चाहिये। दोनों देशों के बीच संतुलन, समावेशी और उभय जीत वाले व्यापार संबंधों की स्थापना की जानी चाहिये।

अमेरिकी प्रतिनिधियों का मानना है कि अमेरिका-चीन संबंधों की लगातार बिगाड़ को रोका जाना चाहिए और व्यापार संघर्ष के विस्तार से बचना चाहिये। दोनों पक्षों को आपस में मौजूद स्पष्ट और निहित तनाव को दूर करने का प्रयास करना चाहिये। अमेरिका के औद्योगिक और व्यावसायिक समुदाय चीन के साथ अधिक सहयोग का समर्थन करता है और चीन-अमेरिका संबंधों के बीते चालीस सालों की प्रगतियों को महत्व भी देता है। दोनों देशों को समान हितों वाले सहयोग की खोज करनी चाहिये और बाजार खुलेपन को बढ़ावा देना चाहिये।

वार्ता की समाप्ति पर दोनों पक्षों ने एक संयुक्त वक्तव्य जारी किया। चीन-अमेरिका व्यापार नेताओं और पूर्व वरिष्ठ अधिकारियों की वार्ता आयोजित करने का उद्देश्य दोनों पक्षों की सहमतियों और रणनीतिक विश्वास को बढ़ावा देना और स्वस्थ, स्थिर और सतत द्विपक्षीय संबंधों का विकास करना है। जो चीन और अमेरिका के बीच संपर्क रखने और सहयोग करने की दूसरी कक्षा मानी जाती है।

( हूमिन )

शेयर

सबसे लोकप्रिय

Related stories