चीन और पानामा के राष्ट्रपतियों के बीच भेंटवार्ता

2018-12-04 09:10:00
Comment
शेयर
शेयर Close
Messenger Messenger Pinterest LinkedIn

चीन और पानामा के राष्ट्रपतियों के बीच भेंटवार्ता

पानामा के स्थानीय समय के अनुसार 3 दिसम्बर को चीनी राष्ट्रपति शी चिनफिंग ने पानामा के राष्ट्रपति जुआन कार्लोस वारेला के साथ वार्ता की। दोनों देशों के शीर्ष नेताओं ने चीन और पानामा के बीच कूटनीतिक संबंध की स्थापना के बाद से लेकर अब तक द्विपक्षीय संबंध के बेहतरीन स्थिति और सहयोगी फलों का उच्च मूल्यांकन किया और द्विपक्षीय संबंध को आगे बढ़ाने में व्यापाक आम सहमतियां प्राप्त कीं।

शी चिनफिंग ने कहा कि चीन और पानामा के बीच कूटनीतिक संबंध की स्थापना के बाद डेढ़ साल में द्विपक्षीय संबंध का जोरदार विकास हुआ है। मैं और राष्ट्रपति वारेला ने एक दूसरे देश की यात्रा की, दोनों देशों के बीच राजनीतिक आपसी विश्वास दिन प्रति दिन गहरा होता जा रहा है।“बेल्ट एंड रोड”के साझे निर्माण के मार्गदर्शन पर विभिन्न पक्षों में आवाजाही और सहयोग तेज़ी से विकसित हो रहा है, जिसमें कारगर उपलब्धियां हासिल हुईं। तथ्यों से जाहिर हुआ है कि चीन व पानामा के बीच कूटनीतिक संबंध की स्थापना बिलकुल सही है, जिससे दोनों देशों की जनता को लाभ मिलेगा। तरराष्ट्रीय स्थिति में कैसा भी परिवर्तन आ जाए, चीन-पानामा मित्रवत संबंध को सुदृढ़ करते हुए उसका आगे विकास करना चीन का अविचल कूटनीतिक उसूल रहेगा। चीन पानामा की सरकार और जनता द्वारा राष्ट्रीय सुरक्षा और स्थिरता को बनाए रखने, जन जीवन में सुधार लाने और अंतर्राष्ट्रीय प्रभाव शक्ति को उन्नत करने के लिए की गई कोशिशों का समर्थन करता है, और साथ ही साथ चीन क्षेत्रीय आर्थिक एकीकरण और आपसी संपर्क के क्षेत्र में पानामा के अधिक भूमिका निभाने का समर्थक भी है।

शी चिनफिंग ने यह भी कहा कि चीन पानामा के साथ मिलकर उच्च स्तरीय घनिष्ठ अवाजाही को बनाए रखते हुए सरकारी विभागों, कानून निर्माण संस्थाओं, राजनीतिक पार्टियों के बीच आवाजाही और सहयोग को मजबूत करना चाहता है। थाईवान जैसे चीन के मूल हितों से संबंधित अहम मुद्दों पर पानामा ने दृढ़ समर्थन किया, चीन इसका प्रशंसक है। चीन हमेशा से दूसरे देशों के अंदरूनी मामलों में हस्तक्षेप नहीं करने के सिद्धांत का पालन करता रहा है। चीन वैश्विक अर्थतंत्र में पानामा नहर की भूमिका का समर्थन करता है और इस नहर के प्रति पानामा की प्रभुसत्ता का समादर करता है और मानता है कि यह नहर तटस्थ अंतरराष्ट्रीय जल रास्ता है। चीन अंतरराष्ट्रीय और क्षेत्रीय मामलों में पानामा के अधिक भूमिका निभाने का समर्थन भी करता है।

चीन और पानामा के राष्ट्रपतियों के बीच भेंटवार्ता

शी चिनफिंग ने कहा कि पानामा की“2030 राष्ट्रीय लॉजिस्टिक्स रणनीति”और चीन द्वारा प्रस्तुत“बेल्ट एंड रोड”के साझे निर्माण वाले पहल में उच्च स्तरीय मेल समाहित है। दोनों पक्षों को रणनीतियों को जोड़कर बैंकिंग, पर्यटन, लॉजिस्टिक्स और आधारभूत संस्थापन के निर्माण आदि क्षेत्रों में सहयोग को आगे बढ़ाना चाहिए। रेल, शिक्षा और चिकित्सा जैसे महत्वपूर्ण परियोजनाओं का अच्छा कार्यान्वयन करना चाहिए, आपसी संपर्क को आगे बढ़ाना चाहिए। चीन पानामा नहर का दूसरा बड़ा उपयोगकर्ता है। दोनों पक्षों को मालों के सामूहिक परिवहन तरीके को और श्रेष्ठ बनाना चाहिए, ताकि विश्व व्यापार में चीन की ज्यादा भागीदारी के लिए पानामा नहर अधिक भूमिका निभा सके। चीन आपसी सम्मान, समानता और आपसी लाभ के आधार पर पानामा के साथ मुक्त व्यापार वार्ता करना चाहता है और पानामा के समुद्री उत्पाद, मांस और अनानस आदि वस्तुओं के चीन में निर्यात का स्वागत करता है। चीन अपने अधिक बैंकिंग संस्थाओं को पानामा में संस्था स्थापित करने का प्रोत्साहन देता है। दोनों देशों को मानविकी और स्थानीय आवाजाही की मजबूती के आधार पर द्विपक्षीय संबंध में जनता के समर्थन को मजबूत करना चाहिए। अंतरराष्ट्रीय मामलों में संपर्क को मजबूत करते हुए संयुक्त राष्ट्र, डब्ल्यूटीओ और चीन-लैटिन अमेरिका मंच आदि बहुपक्षीय संस्थाओं में आपसी समन्वय और सहयोग को गहराना चाहिए, ताकि संरक्षणनवाद और एकतरफ़ावाद आदि चुनौतियों का समान रुप से मुकाबला किया जा सके, नए अंतरराष्ट्रीय संबंध एवं खुली विश्व अर्थव्यवस्था की स्थापना को आगे बढ़ाया जा सके और विकासमान देशों के समान हितों की और अच्छी तरह रक्षा की जा सके।

पानामा के राष्ट्रपति वारेला ने राष्ट्रपति शी चिनफिंग की ऐतिहासिक यात्रा का हार्दिक स्वागत किया और कहा कि इस यात्रा से चीन और पानामा की जनता के बीच मित्रवत भावना और मजबूत होगी। दोनों देशों के बीच कूटनीतिक संबंध की स्थापना के बाद से लेकर अब तक द्विपक्षीय संबंध का महत्वपूर्ण विकास हुआ। पानामा एक चीन की नीति पर कायम रहता है और राष्ट्रपति शी चिनफिंग द्वारा प्रस्तुत मानव जाति के साझे भाग्य समुदाय आदि अहम विचारधाराओं पर सहमत है और“बेल्ट एंड रोड”के साझे निर्माण का समर्थन करता है। पानामा चीन के साथ निवेश, बंदरगाह परिवहन, और मुक्त व्यापार क्षेत्र आदि सहयोग को मजबूत करना चाहता है और अपने देश में चीनी उद्यमों के निवेश का स्वागत करता है। पानामा चीन के साथ मुक्त व्यापार संधि पर शीघ्र ही हस्ताक्षर करना चाहता है, ताकि द्विपक्षीय व्यापार स्तर की उन्नति हो सके। विश्वास है कि पानामा-चीन सहयोग न केवल दोनों देशों की जनता और क्षेत्रीय जनता को लाभ पहुंचाएगा, बल्कि वैश्विक शांति और समृद्धि के लिए योगदान भी कर सकेगा।

भेंटवार्ता के बाद शी चिनफिंग और वारेला द्विपक्षीय सहयोगी दस्तावेज़ों पर हस्ताक्षर करने के साक्षी बने और संयुक्त रूप से संवाददाताओं से मिले।

(श्याओ थांग)

शेयर

सबसे लोकप्रिय

Related stories