अमेरिकी वित्तीय उत्तेजना नीति से मुद्रास्फीति और विश्व वित्तीय बाज़ार की अस्थिरता मज़बूत होगी :आईएमएफ

2018-07-04 19:00:47
Comment
शेयर
शेयर Close
Messenger Messenger Pinterest LinkedIn

अमेरिका के टैरिफ में कम और सरकारी व्यय की वृद्धि करने पर वित्तीय उत्तेजना नीति से अमेरिका में मुद्रास्फीति की अप्रत्याशित वृद्धि का खतरा पैदा होगा। इस समस्या के सामने अमेरिका संघीय रिज़र्व (फेड) ब्याज दर में वृद्धि की ज़रूरत होगी। अमेरिकी ब्याज दर स्तर को बढ़ाने में तेज़ी लाने से विश्व वित्तीय बाज़ार की अस्थिरता को मजबूत होगी। अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष (आईएमएफ) ने 3 जुलाई को इस बात की चेतावनी दी।

उस दिन आईएमएफ ने रिपोर्ट दी कि मौजूदा आर्थिक चक्र में अमेरिका के वित्तीय घाटे की बड़ी वृद्धि से अमेरिकी और विदेशी वित्तीय बाज़ार की अस्थिता बढ़ेगी। अमेरिकी वित्तीय उत्तेजना नीति के कारण अमेरिकी सार्वजनिक ऋण की स्थिति आगे बदतर बनेगी। इसीलिये विश्व आर्थिक असंतुलन आगे मजबूत होगा।

आईएमएफ को चिंता है कि हाल ही में अमेरिका की व्यापार नीति से अमेरिका की बाहरी अर्थव्यवस्था विनाशकारी प्रभाव में आएगी। साथ ही अन्य अर्थव्यवस्था प्रतिशोध उपाय अपनाएंगी। खुलेपन, निष्पक्ष और नियम के आधार पर होने वाली बहुपक्षीय व्यापार प्रणाली को कमज़ोर बनाया जाएगा। आईएमएफ ने प्रस्ताव दिया कि व्यापार बाधा को कम और व्यापार-निवेश मतभेदों को हल करने के लिये अमेरिका को हानिकारक एकतरफा उपायों के बजाय अन्य व्यापारिक भागीदारों के साथ रचनात्मक सहयोग करना चाहिये।(हैया)

शेयर

सबसे लोकप्रिय

Related stories