व्यापारिक युद्ध नहीं लड़ेंगे चीन और अमेरिका

2018-05-20 09:04:03
Comment
शेयर
शेयर Close
Messenger Messenger Pinterest LinkedIn

व्यापारिक युद्ध नहीं लड़ेंगे चीन और अमेरिका

व्यापारिक युद्ध नहीं लड़ेंगे चीन और अमेरिका

अमेरिका की यात्रा कर रहे चीनी राष्ट्रपति शी चिनफिंग के विशेष दूत और चीनी उप प्रधानमंत्री ल्यू ह ने स्थानीय समयानुसार 19 मई की सुबह मीडिया के साथ साक्षात्कार में कहा कि इस बार की अमेरिका-चीन व्यापारिक वार्ता में प्राप्त सबसे बड़ी उपलब्धि है कि दोनों पक्ष सहमत हुए हैं कि वे व्यापारिक युद्ध नहीं लड़ेंगे और एक दूसरे पर टैरिफ़ बढ़ाने की कार्यवाई बंद करेंगे।

ल्यू ह ने कहा कि यह एक सक्रिय, यथार्थ, रचनात्मक और फलदायक यात्रा है। दोनों ने सक्रिय और स्वस्थ चीन-अमेरिका व्यापारिक संबंध का विकास करने में अनेक मतैक्य प्राप्त किए हैं। वार्ता में सक्रिय उपलब्धियां हासिल होने का सबसे महत्वपूर्ण कारण है कि इससे पहले दोनों देशों के राजाध्यक्षों ने अहम मतैक्य प्राप्त किये थे। यह दोनों देशों की जनता और पूरी दुनिया की मांग भी है।

ल्यू ह ने कहा कि चीन और अमेरिका ऊर्जा, कृषि उत्पादकों, चिकित्सा और उच्च विज्ञान व तकनीक उत्पादकों, वित्त आदि क्षेत्रों के व्यापारिक सहयोग को मजबूत करेंगे। यह चीन में उच्च गुणवत्ता वाले आर्थिक विकास को आगे बढ़ाने और जनता की मांग को पूरा करने के साथ अमेरिका के व्यापारिक घाटा को भी कम कर सकेगा, जो साझी जीत का विकल्प है। साथ ही दोनों पक्ष एक दूसरे के पूंजी निवेश को मज़बूत करते रहेंगे और बौद्धिक संपदा के संरक्षण में सहयोग गहराते रहेंगे। यह न सिर्फ चीन और अमेरिका दोनों देशों के लिए ही नहीं, बल्कि वैश्विक आर्थिक व व्यापारिक स्थिरता व समृद्धि के लिए भी लाभदायक है।

ल्यू ह ने जोर दिया कि चीन के पास विशाल मध्यम वर्ग लोग हैं। चीन विश्व का सबसे बड़ा बाज़ार बन सकेगा। यदि चीन के बाजार में अपनी जगह बनाना चाहते हैं, तो निर्यातित देशों को अपने उत्पादों व सेवाओं की प्रतिस्पर्द्धा शक्ति को भी उन्नत करनी होगी, ताकि चीनी जनता खरीदना चाह सके। चीन अमेरिका से खरीदना चाहता है, साथ ही सारी दुनिया से भी खरीदना चाहता है। चीन पहले अंतर्राष्ट्रीय आयात एक्सपो का आयोजन करेगा। चीन विभिन्न देशों की भागीदारी का स्वागत करता है।

ल्यू ह ने कहा कि चीनी राष्ट्रपति शी चिनफिंग ने 2018 बोआओ एशिया मंच पर खुलेपन का विस्तार करने के चार क्षेत्रों को प्रस्तुत किया। हम शी चिनफिंग की मांग के मुताबिक तेज़ी से कार्यान्वित करेंगे और खुलेपन से सुधार और विकास को आगे बढ़ाएंगे। यह चीन में सुधार व खुलेपन की नीति लागू होने के 40 सालों में प्राप्त अनुभव है। भविष्य में भी चीन इस पर कायम रहेगा।

ल्यू ह ने कहा कि इस बार दोनों के बीच सहमतियां पाने की जरूरत है, साथ ही हमें यह जानना चाहिए कि चीन और अमेरिका के आर्थिक व व्यापारिक संबंधों की समस्या का हल करने के लिए समय की जरूरत है। द्विपक्षीय आर्थिक व व्यापारिक संबंध का स्वस्थ विकास इतिहास की प्रवृत्ति से मेल खाता है, जिसे कोई भी नहीं रोक सकता है। चीन-अमेरिका भावी संबंध के विकास में मौजूद नयी समस्याओं के प्रति हमें संयम बरतकर वार्तालाप पर कायम रहना चाहिए और इनका अच्छी तरह निपटारा करना चाहिए।

 (श्याओयांग)

 

शेयर

सबसे लोकप्रिय

Related stories