जापानी प्रधानमंत्री आबे से वांग यी मिले

2018-04-16 19:37:59
Comment
शेयर
शेयर Close
Messenger Messenger Pinterest LinkedIn
2/2

जापानी प्रधानमंत्री शिन्जो आबे ने 16 अप्रैल को तोक्यो में चीनी विदेश मंत्री वांग यी से भेंट की।

वांग यी ने कहा कि चीन और जापान एक दूसरे के महत्वपूर्ण पड़ोसी हैं। इधर के सालों में द्विपक्षीय संबंधों से विक्षिन्न क्षेत्रों में सहयोग पर प्रभाव पड़ा है। प्रधानमंत्री ने गत वर्ष से ही कई बार चीन-जापान संबंध में सुधार करने के लिए सक्रिय संकेत दिये। चीन ने इस पर महत्व दिया है। आशा है कि दोनों देशों के समान प्रयास से मेरी मौजूदा यात्रा द्विपक्षीय संबंध को सामान्य रास्ते पर वापसी का महत्वपूर्ण कदम बन सकेगी। चीन-जापान संबंध में सुधार की स्थिति आना मुश्किल है, इसे मूल्यवान समझना चाहिए। द्विपक्षीय संबंध में सुधार और स्थिरता से आपस में अधिक घनिष्ठ आवाजाही और व्यापक सहयोग किया जा सकेगा, यह दोनों देशों की जनता और इसी क्षेत्र में विभिन्न देशों के समान हितों से मेल खाता है। इस तरह, दोनों देशों को चीन और जापान के बीच संपन्न 4 राजनीतिक दस्तावेज़ों में निश्चित विभिन्न सिद्धातों का सख्ती से पालन करना चाहिए। द्विपक्षीय संबंध के राजनीतिक आधार से संबंधित संवेदनशील मुद्दों का अच्छी तरह निपटारा करना चाहिए। आर्थिक व्यापारिक सहयोग में नई प्रेरित शक्ति को ढूंढ़ना चाहिए, ताकि नयी शुरुआत में चीन-जापान आर्थिक व्यापारिक संबंध के विकास की गुणवत्ता और स्तर उन्नत हो सके। प्रधानमंत्री ने“बेल्ट एंड रोड”के निर्माण को लेकर सक्रिय रूख बताया, जापान इसके निर्माण में समान रूप से भाग लेगा। इससे चीन-जापान आर्थिक सहयोग के लिए नयी गुंजाइश पैदा होगी। हम जापान के साथ उचित तरीके और ठोस रास्ते पर विचार विमर्श करना चाहते हैं। दोनों पक्षों को समन्वय और संपर्क मज़बूत करना चाहिए, संरक्षणवाद का विरोध करके विश्व व्यापार संगठन को कोर बनाने वाले वैश्विक मुक्त व्यापार प्रणाली की रक्षा करनी चाहिए, ताकि एक खुली वैश्विक अर्थतंत्र की स्थापना की जा सके।

आबे ने कहा कि जापान चीन के प्रति संबंध को महत्व देता है। इस वर्ष दोनों देशों के बीच मैत्रीपूर्ण और मित्रवत संधि पर हस्ताक्षर किए की जाने की 40वीं वर्षगांठ है। इससे लाभ उठाकर दोनों देशों के बीच उच्च स्तरीय आवाजाही को बखूबी अंजाम दिया जाए, रणनीतिक आपसी लाभ वाले संबंध के ढांचे में और व्यापक सहयोग किया जाए। चीनी राष्ट्रपति शी चिनफिंग ने बोआओ एशिया मंच के 2018 वार्षिक सम्मेलन में चीन के खुलेपन से जुड़े नए कदम घोषित किये, विश्वास है कि इससे जापान-चीन आर्थिक संबंध को लाभ मिलेगा।

भेंट वार्ता में दोनों पक्षों ने कोरियाई प्रायद्वीप की स्थिति समेत कई क्षेत्रीय मुद्दों पर विचार विमर्श किया। गौरतलब है कि 15 से 17 अप्रैल तक वांग यी निमंत्रण पर जापान की यात्रा कर रहे हैं। 16 अप्रैल को उन्होंने जापानी विदेश मंत्री कोउनो तारोउ के साथ चौथी चीन-जापान आर्थिक उच्च स्तरीय वार्ता की अध्यक्षता की।

(श्याओ थांग)

शेयर