ट्रम्प के यरुशलम को इजराइली राजधानी मानने को मिला व्यापक विरोध

2017-12-07 15:00:17
Comment
शेयर
शेयर Close
Messenger Messenger Pinterest LinkedIn

ट्रम्प के यरुशलम को इजराइली राजधानी मानने को मिला व्यापक विरोध

अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने 6 दिसम्बर को यरुशलम के इजराइल की राजधानी स्वीकार करने की घोषणा की। अमेरिका इजराइल स्थित अमेरिकी दूतावास तेल अवीव से यरुशलम तक स्थानांतरण करने को तैयार है। अंतरराष्ट्रीय समुदाय ने इसका व्यापक विरोध किया है।

फिलिस्तानी राष्ट्रपति महमूद अब्बास ने बयान जारी कर कहा कि यरुशलम के स्थान को लेकर ट्रम्प के इस निर्णय से इजराइल को यरुशलम को अपनी राजधानी बनाने के लिए कोई कानूनी आधार नहीं मिलेगा। अमेरिकी सरकार का यह फैसला शांति की प्राप्ति के लिए सभी प्रयासों को जानबूझकर नष्ट करना है। जाहिर है कि अमेरिका पिछले कुछ दशकों में मध्यपूर्व की शांति वाले मामले में अपने द्वारा निभाई गई सभी भूमिका को पूरी तरह से त्याग दिया है। 

यूरोपीय संघ की विदेश और सुरक्षा नीति की उच्च प्रतिनिधि फ़ेडेरिका मोघेरिनी ने बयान जारी कर ट्रम्प के इस निर्णय और संबंधित कदम से शांति के भविष्य पर पड़े प्रभाव पर गंभीर चिंता व्यक्त की और दोहराते हुए कहा कि यूरोपीय संघ के“दो देश प्रस्ताव”के समर्थन वाले रूख में कोई परिवर्तन नहीं है।

ट्रम्प के यरुशलम को इजराइली राजधानी मानने को मिला व्यापक विरोध

6 दिसम्बर 2013 को खींची हुई रुशलम की पूरानी फोटो

अल्जीरिया की यात्रा कर रहे फ्रांसीसी राष्ट्रपति एम्मानुएल मैक्रोन ने कहा कि ट्रम्प का यह फैसला करना खेद की बात है। फ्रांस इस रूख का समर्थक नहीं है। यह अमेरिकी सरकार का एकतरफ़ा निर्णय है, जो अंतरराष्ट्रीय कानून के अनुकूल ही नहीं, संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद के कई निर्णयों का उल्लंघन भी है। 

वहीं ईरानी सर्वोच्च नेता अयातुल्लाह सैयद अली खामेनई ने कहा कि अमेरिका का यह कदम एक षड़यंत्र है। फिलिस्तीन को अंत में जरूर मुक्ति मिलेगी। ईरानी राष्ट्रपति हसन रूहानी ने कहा कि अमेरिका का यह कदम अवैध है, जिससे फिलिस्तीन, यहां तक कि पूरे मध्य पूर्व की स्थिरता को खतरा मिलेगा।

इनके अलावा तुर्की, जोर्डन, लेबनान, ट्यूनीशिया और मोरक्को ने क्रमशः बयान जारी कर ट्रम्प के इस निर्णय का विरोध किया।

अंतरराष्ट्रीय समुदाय में ट्रम्प के फैसले का व्यापक तौर पर विरोध किया। लेकिन इजराइल ने इसका स्वागत किया। प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतनयाहू ने बयान जारी कर ट्रम्प के इस निर्णय को ऐसिताहिक निर्णय कहा। 

(श्याओ थांग)

शेयर

सबसे लोकप्रिय

Related stories