राशाकाई ख़ास क्षेत्र चीन-पाकिस्तान औद्योगिक सहयोग को मिलेगा बढ़ावा

2020-09-20 17:34:06
शेयर
शेयर Close
Messenger Messenger Pinterest LinkedIn

हाल ही में चीन-पाकिस्तान आर्थिक गलियारे के ढांचे में पहला ख़ास आर्थिक क्षेत्र यानी राशाकाई ख़ास क्षेत्र की विकास परियोजना पर हस्ताक्षर रस्म पाकिस्तान के प्रधानमंत्री भवन में आयोजित हुई। इस ख़ास क्षेत्र पर चीन और पाकिस्तान की सरकारों और उद्यमों का उच्च ध्यान केंद्रित हुआ है। पाकिस्तान स्थित चीनी दूतावास के अर्थतंत्र व वाणिज्य मामले पर काउंसलर वांच चीहुआ ने 18 सितंबर को चाइना मीडिया ग्रुप को दिए एक इन्टरव्यू में कहा कि राशाकाई ख़ास आर्थिक क्षेत्र का निर्माण पूरा होने के बाद आर्थिक उद्यान में आने वाले उद्यमों के लिए बड़ी मात्रा में उदार नीतियां अपनाई जाएंगी, जिससे चीन और पाकिस्तान के बीच एक दूसरे की पूरक के आधार पर आपसी लाभ वाले सहयोग मजबूत होगा।

काउंसलर वांग के मुताबिक, राशाकाई ख़ास आर्थिक क्षेत्र वर्तमान में चीन-पाकिस्तान आर्थिक गलियारे की परियोजना में निर्माणाधीन कुछ आर्थिक उद्यानों में से एक है। औद्योगिक सहयोग चीन-पाकिस्तान आर्थिक गलियारे के अगले चरण का महत्वपूर्ण सहयोगी क्षेत्र होगा, वहीं ख़ास आर्थिक क्षेत्र औद्योगिक सहयोग को आगे बढ़ाने वाला महत्वपूर्ण वाहक और अहम रास्ता माना जाता है। इस तरह दोनों देशों की सरकार राशाकाई ख़ास क्षेत्र के निर्माण पर उच्च महत्व देती है।

पाकिस्तान स्थित चीनी दूतावास के अर्थतंत्र व वाणिज्य मामले पर काउंसलर वांच चीहुआ

पाकिस्तान स्थित चीनी दूतावास के अर्थतंत्र व वाणिज्य मामले पर काउंसलर वांच चीहुआ

वांग चीहुआ ने कहा कि उद्यान के निर्माण से स्थानीय आर्थिक विकास को प्रेरणा मिलेगी। आर्थिक विकास को बढ़ावा देने के साथ-साथ रोजगार के ज्यादा पद प्राप्त होंगे। पाकिस्तान में युवा श्रम शक्ति वाला संसाधन प्रचुर है, जिनका संपूर्ण रोजगार नहीं हो पाता। इस तरह उद्यान के विकास से इसी राशाकाई क्षेत्र और अन्य इलाकों में रोजगार मुद्दे के समाधान में मददगार सिद्ध होगा।

इसके अलावा, उद्यान के निर्माण से पाकिस्तान में गरीबी उन्मूलन कार्य के लिए भी हितकारी होगा। कर बढ़ोत्तरी में भी भूमिका निभाएगी। निर्यात के विस्तार का भी संवर्धन मिलेगा। विदेशी मुद्रा की आय में वृद्धि से लम्बे समय में पाकिस्तान के सामने मौजूद वित्तीय घाटा वाली समस्या के समाधान में भी मददगार सिद्ध होगा। इसके साथ ही पाकिस्तान में समाज और जन-जीवन से संबंधित विभिन्न क्षेत्रों के विकास को भी बढ़ावा दिया जाएगा।

(श्याओ थांग)

शेयर

सबसे लोकप्रिय

Related stories